Achievement in result by B.Pharma Students – JCDM College of Pharmacy

जेसीडी फार्मेसी कॉलेज का योगेश सैनी व नैंसी ने बी.फार्मा. पंचम सेमेस्टर के परिणामों में जिला में प्रथम व तृतीय स्थान पाया

सिरसा 13 अक्तूबर, 2020 : जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित फार्मेसी कॉलेज के छात्र योगेश सैनी व छात्रा नैन्सी ने पं. भगवत दयाल शर्मा  हेल्थ साईसिंज यूनिवर्सिटी द्वारा बी.फार्मा. के पंचम सेमेस्टर के घोषित परिणामों में जिला में प्रथम व तृतीय स्थान हासिल करके संस्थान सहित अपने माता-पिता व परिवार का नाम रोशन करने का काम किया है।

इस मौके पर दोनों विद्यार्थियों को बधाई प्रेषित करते हुए कॉलेज प्राचार्या डॉ. अनुपमा सेतिया ने कहा कि जननायक चौ. देवीलाल का सपना था कि अगर हम भारत वर्ष की तरक्की चाहते हैं तो उच्च शिक्षा को ग्रामीण क्षेत्रों में पहुंचाना बेहद आवश्यक है। उन्होंने कहा कि हमारा सदैव यही ध्येय रहता है कि हम विद्यार्थियों को संस्कारित, गुणवत्तायुक्त शिक्षा के साथ-साथ अनुशासित नागरिक भी बनाएं। उन्होंने कहा कि परीक्षा में विद्यार्थी योगेश व नैन्सी द्वारा किए गया बेहतर प्रदर्शन अन्य विद्यार्थियों के लिए भी उत्साहवद्र्धन का कार्य करेगा और अन्य बच्चों को भी मेहनत एवं लग्र से शिक्षा हासिल करने के लिए प्रेरित करेगा। डॉ. सेतिया ने बताया कि योगेश सैनी ने 80.9 प्रतिशत अंकों के साथ जिले में प्रथम तथा नैन्सी ने 80.1 प्रतिशत अंकों के साथ जिला में तृतीय स्थान प्राप्त किया है।

इस मौके पर उक्त दोनों विद्यार्थियों को अपनी शुभकामनाएं एवं बधाई देते हुए जेसीडी विद्यापीठ प्रबंध निदेशक डॉ. शमीम शर्मा ने कहा कि यह छात्र के अथक मेहनत एवं प्रयासों का ही नतीजा है, जिसने उसे जिला स्तर पर प्रथम व तृतीय स्थान हासिल करवाया है। उन्होंने कहा कि हमेशा मेहनत करने वाले विद्यार्थी के पीछे उनके शिक्षकों का भी अह्म योगदान होता है, इसलिए विद्यार्थी की इस सफलता के लिए कॉलेज के सभी शिक्षक भी बधाई के पात्र हैं क्योंकि उनके मार्गदर्शन से ही यह संभव हो पाया है। उन्होंने कहा कि शिक्षा में गुणवत्ता का एक जीवंत उदाहरण हमारे छात्र-छात्राओं द्वारा समय-समय पर घोषित परीक्षा परिणामों में बेहतर प्रदर्शन से लगाया जा सकता है।
इस अवसर पर योगेश सैनी एवं नैन्सी ने अपने विचार सांझा करते हुए अपनी कामयाबी का श्रेय अपने माता-पिता एवं शिक्षकों को देते हुए कहा कि यह उनके कारण ही संभव हो पाया है क्योंकि हमें हमारे माता-पिता ने इतना अच्छा संस्थान प्रदान करवाया जहां शिक्षा प्राप्त करने के लिए बेहतर वातावरण है, जिसमें हमनें कुछ अपनी ओर से प्रयास किए तथा हमारे शिक्षकों का भी आभार प्रकट करते हैं जिन्होंने समय-समय पर हमारा मार्गदर्शन किया और किसी भी विषय में आने वाली कठिनाईयों को दूर करने में हरसंभव सहयोग प्रदान किया।