IGNOU

Inter College CDLU Cricket Tournament – JCD Vidyapeeth, Sirsa

Inter College of CDLU Cricket competition organized in the Cricket field of JCDV, Sirsa. On closing ceremony, the Principal of the Education College, Dr. Jai Prakash, encouraged the players, In addition to the Vidyapeeth, students of all other colleges shown their talent by participating with full enthusiasm.

जेसीडी मैमोरियल कॉलेज ने जीता इंटर कॉलेज यूनिवर्सिटी क्रिकेट टूर्नामेंट
खेल को खेल भावना एवं पूरी ईमानदारी के साथ खेलना ही एक खिलाड़ी का धर्म

जेसीडी विद्यापीठ के क्रिकेट मैदान में विगत दिवस इंटर कॉलेज ऑफ सीडीएलयू क्रिकेट प्रतियोगिता आयोजित की गई जिसके समापन अवसर पर शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश ने उपस्थित होकर खिलाडिय़ों का हौंसलाफजाई करते हुए फाईनल में पहुंची टीमों के मध्य टॉस करवाया। इस क्रिकेट टूर्नामेंट में विद्यापीठ के अलावा सिरसा शहर के अन्य कॉलेजों के विद्यार्थियों ने पूरे जोश एवं उत्साह के साथ हिस्सा लेकर अपनी खेल प्रतिभा का प्रदर्शन किया।

टूर्नामेंट के समापन अवसर पर विद्यार्थियों का उत्साह व द्र्धन करने के लिए डॉ.जयप्रकाश ने सर्वप्रथम स्वयं खेलकर फाइनल मैच प्रारंभ करवाया। उन्होंने कहा कि खेलकूद हमारी जिंदगी का महत्वपूर्ण अंग है तथा प्रत्येक छात्र-छात्राओं को अपने जीवन में किसी न किसी खेल को अवश्य अपनाना चाहिए ताकि वह मानसिक एवं शारीरिक रूप से सुदृढ़ बन सकें। उन्होंने कहा कि स्वस्थ शरीर में ही स्वस्थ मस्तिष्क निवास करता है, इसलिए हमें अपनी दिनचर्या में खेलों को शामिल करना अतिआवश्यक है क्योंकि इससे एक टीम बनाकर कार्य करने का जज्बा प्राप्त होता है। उन्होंने विद्यार्थियों से आह्वान किया कि इस प्रकार प्रतिस्पर्धाओं में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेना चाहिए ताकि आपकी समन्वय एवं आत्मविश्वास पैदा हो सकें। डॉ.जयप्रकाश ने कहा कि किसी भी खेल को खेल की भावना तथा ईमानदारी के साथ खेलने से ही उसमें कामयाबी हासिल होती है। वहीं उन्होंने अपने संबोधन में जेसीडी के चेयरमैन श्री दिग्विजय सिंह चौटाला एवं प्रबंधन समिति का आभार प्रकट किया जिन्होंने विद्यापीठ में अंतर्राष्ट्रीय स्तर की क्रिकेट अकादमी की स्थापना करके यहां के विद्यार्थियों को एक बेहतर विकल्प प्रदान किया।

इस बारे विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए जेसीडी विद्यापीठ के स्पोटर्स अधिकारी एवं शारीरिक शिक्षा के सहायक प्रोफेसर अमरीक सिंह गिल ने बताया कि इस क्रिकेट प्रतियोगिता के शुरूआती मैचों में शानदार प्रदर्शन करने वाले खिलाडिय़ों को सम्मानित किया गया। वहीं इस टूर्नामेंट के प्रदर्शन के आधार पर जेसीडी मैमोरियल कॉलेज एवं शाह सतनाम सिंह कॉलेज की टीमों के मध्य फाइनल मुकाबला खेला गया, जिसमें अपना पूरा दमखम लगाते हुए बेहतर प्रयास करते हुए जेसीडी मैमोरियल कॉलेज की टीम रनर-अप रही तथा सिल्वर मेडल एवं ट्राफी पर कब्जा जमाया। इस मुकाबले में मैमोरियल कॉलेज के विद्यार्थी प्रणव डाका को अपना बेहतर प्रदर्शन करने के लिए मैन ऑफ द मैच चुना गया।

इस अवसर पर विजेता तथा उप-विजेता टीमों को जेसीडी मैमोरियल कॉलेज के प्राचार्य डॉ.प्रदीप शर्मा स्नेही, डॉ.जयप्रकाश, जेसीडी विद्यापीठ के रजिस्ट्रार श्री सुधांशु गुप्ता, मि.अमरीक सिंह तथा अन्य गणमान्य लोगों ने ट्राफी प्रदान करके सम्मानित किया।

Ending of Inter School Competitions – JCD Vidyapeeth, Sirsa

जेसीडी विद्यापीठ में तीन दिवसीय अंत:विद्यालय प्रतियोगिताओं का आयोजन
विद्यार्थी निर्धारित करें अपना उद्देश्य एवं लक्ष्य : डॉ.यज्ञदत्त वर्मा

जेसीडी विद्यापीठ प्रांगण में स्कूली विद्यार्थियों को एक बेहतर मंच प्रदान करते हुए तीन दिवसीय खेलकूद एवं साहित्यिक प्रतियोगिताओं का आयोजन करवाया गया, जिसका वीरवार को विधिवत् समापन किया गया। इस कार्यक्रम में सिरसा जिला शिक्षा अधिकारी डॉ.यज्ञदत्त वर्मा ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। वहीं इस कार्यक्रम की अध्यक्षता जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला एवं शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक द्वारा की गई। इस कार्यक्रम में सभी कॉलेजों के प्राचार्यगणों की मौजूदगी में मुख्यातिथि एवं अन्य अतिथियों द्वारा मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित करके किया गया। कार्यक्रम के समन्वयक एवं शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश ने सर्वप्रथम आए हुए सभी अतिथियों का स्वागत किया एवं इस तीन दिवसीय प्रतियोगिता के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान करते हुए बताया कि इस प्रतियोगिता में सिरसा जिला के 20 से अधिक स्कूलों की टीमों ने हिस्सा लेकर अपना दमखम दिखाया। इस प्रतियोगिता में खेलों में बॉस्केटबाल, फुटबाल, क्रिकेट एवं बॉलीवाल प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, वहीं साहित्यिक प्रतियोगिताओं में प्रश्रोत्तरी, भाषण व वाद-विवाद प्रतियोगिता का आयोजन करवाया गया।

इस अवसर पर अतिथियों एवं विभिन्न स्कूलों के विद्यार्थियों व प्राचार्यों, प्रधानाध्यापकों तथा स्कूल प्रतिनिधियों का आभार प्रकट करते हुए डॉ.आर.आर.मलिक ने कहा कि जेसीडी विद्यापीठ को स्थापित करने का एक ही उद्देश्य था कि सिरसा जैसे शिक्षा में पिछड़े हुए जिलावासियों को बेहतरीन शिक्षा प्रदान करवाई जा सके तथा इसी उद्देश्य के तहत हम कार्य कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि ग्रामीणांचल में रहने वाले आर्थिक रूप से कमजोर तथा प्रतिभाशाली विद्यार्थी को विद्यापीठ अपने स्तर पर नि:शुल्क कोचिंग प्रदान करके बेहतर विकल्प प्रदान करने का कार्य करेगी। डॉ.मलिक ने कहा कि हम सदैव हमारे विद्यार्थियों का सर्वांगीण विकास करने में पूर्ण सहयोग प्रदान करते हैं तथा इस आयोजन का हमारा उद्देश्य स्कूली विद्यार्थियों को एक बेहतर संस्थान में आकर यहां की शिक्षा की गुणवत्ता को जांचने-परखने का अवसर प्रदान करना है ताकि वह आगे चलकर अपने ही जिला में एक बेहतर संस्थान में शिक्षा हासिल कर पाएं। उन्होंने इन प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेने वाले विद्यार्थियों के उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए अपनी शुभकामनाएं एवं आशीर्वाद प्रदान किया।

बतौर मुख्यातिथि अपने संबोधन में डॉ.यज्ञदत्त वर्मा ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि प्रतियोगिता में विजयी होने से ज्यादा उसमें हिस्सा लेकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करना अधिक मायने रखता है। उन्होंने विद्यार्थियों का मार्गदर्शन करते हुए कहा कि बारहवीं कक्षा के विद्यार्थियों को अपनी रूचि के अनुसार ही लक्ष्य का निर्धारण करके उसे पाने के लिए जी-जान से मेहनत करनी चाहिए ताकि वह उसमें सफल हो सके। उन्होंने सिरसा जिला के स्कूली विद्यार्थियों को एक बेहतर एवं सशक्त मंच प्रदान करने के लिए जेसीडी विद्यापीठ के चेयरमैन, प्रबंधन समन्वयक, शैक्षणिक निदेशक के अलावा अन्य अधिकारियों का आभार प्रकट करते हुए यह आश्वासन प्रदान किया कि भविष्य में होने वाली ऐसी प्रतियोगिताओं हेतु अधिक से अधिक संख्या में विद्यार्थी अपनी भागीदारी इसमें सुनिश्चित करेंगे ताकि उनका बेहतर विकास हो सके। डॉ.वर्मा ने सभी स्कूली विद्यार्थियों को जेसीडी विद्यापीठ में व्याप्त मूलभूत सुविधाओं एवं बेहतर शिक्षण का लाभ अपने ही जिला में प्राप्त करने के लिए आह्वान किया। उन्होंने कहा कि जेसीडी में एक ही छत के नीचे अनेक संस्थानों में विभिन्न कोर्सों के करके आप जहां आर्थिक रूप से सक्षम हो सकते हैं वहीं आपको एक बेहतर संस्थान में शिक्षा का अवसर अवश्य लेना चाहिए।

वहीं इन प्रतियोगिताओं के समापन अवसर पर सभी विद्यार्थियों की प्रतिभाओं को ध्यान में रखते हुए निर्णायक मण्डल द्वारा खेलकूद प्रतियोगिताओं में बॉस्केटबाल महिला में राजेन्द्रा पब्लिक स्कूल की टीम ने प्रथम तथा जीडी गोयनका स्कूल की टीम द्वितीय स्थान पर रहीं, वहीं पुरूषों के मुकाबले में डीएवी पब्लिक स्कूल प्रथम तथा सतलुज पब्लिक स्कूल द्वितीय स्थान पर रहा। महिलाओं के फुटबाल मुकाबले में अकाल अकादमी मानसा ने प्रथम व द सिरसा स्कूल ने द्वितीय तथा पुरूषों के मुकाबले में केवीए नं.1 ने प्रथम तथा अकाल अकादमी कालांवाली ने द्वितीय स्थान पाया। उधर क्रिकेट प्रतियोगिता में स्वामी विवेकानंद सी.सै. स्कूल की टीम प्रथम तथा महाराजा अग्रसैन गल्र्ज सी.सै. स्कूल की टीम ने द्वितीय स्थान पाया। वहीं बॉलीवाल प्रतियोगिता में केवीए नं.1 की टीम ने प्रथम तथा सतलुज पब्लिक स्कूल की टीम ने द्वितीय स्थान प्राप्त किया।

वहीं साहित्यिक प्रतियोगिताओं में प्रश्रोत्तरी प्रतियोगिता में केवीए नं1 की टीम ने प्रथम तथा स्वामी विवेकानंद सी.सै. की टीमों ने द्वितीय एवं तृतीय स्थान प्राप्त किया। वाद-विवाद प्रतियोगिता में राजेन्द्रा पब्लिक स्कूल की टीम ने प्रथम, जीआरजी नैशनल गल्र्ज सी.सै. स्कूल की टीम ने द्वितीय तथा नचिकेतन पब्लिक स्कूल की टीम ने तृतीय स्थान पर कब्जा जमाया। वहीं भाषण प्रतियोगिता में सतलुज पब्लिक स्कूल की टीम ने प्रथम, नचिकेतन स्कूल की टीम ने द्वितीय तथा द सिरसा स्कूल की टीम ने तृतीय स्थान हासिल किया। इन सभी खेलकूद प्रतियोगिताओं में ओवरऑल स्पोर्ट्स ट्राफी के विजेता एयरफोर्स स्थित केन्द्रीय विद्यालय नंबर 1 के विद्यार्थी रहे वहीं साहित्यिक प्रतियोगिताओं में स्वामी विवेकानंद सी. सै. स्कूल की टीम ने बाजी मारी तथा ओवरऑल ट्राफी पर कब्जा जमाया। कार्यक्रम के अंत में मुख्यातिथि एवं अन्य ने विजेताओं को पुरस्कार प्रदान करके सम्मानित किया।

Second day of Inter School Competitions – JCD Vidyapeeth, Sirsa

दूसरे दिन आर के सीनियर सेकेंडरी स्कूल व महाराजा अग्रसेन स्कूल के बीच क्रिकेट मैच खेला गया जिसमें महाराजा अग्रसेन स्कूल ने 10 विकेट से जीत हासिल की। दूसरा मैच भारत सैनिक स्कूल व डीएवी पब्लिक स्कूल के बीच खेला गया जिसमें डीएवी पब्लिक स्कूल ने यह मैच 28 रनों से जीत लिया। क्रिकेट के मैच सावन पब्लिक स्कूल व दी सिरसा स्कूल के बीच खेले गए मैच में सावन पब्लिक स्कूल ने मैच जीत लिया। वहीं स्वामी विवेकानंद पब्लिक स्कूल व जीआरजी पब्लिक स्कूल के बीच खेले गए क्रिकेट मैच में सावन पब्लिक स्कूल ने मैच जीता।

फुटबॉल मैच में दी सिरसा स्कूल व भारत सैनिक स्कूल के बीच खेला गया मैच दी सिरसा स्कूल ने 3-0 से जीत हासिल की। वहीं अकाल एकेडमी व जीआरजी पब्लिक स्कूल के बीच खेला गया फुटबॉल मैच में अकाल एकेडमी ने 4-0 से जीत हासिल की। फुटबॉल में केंद्रीय विद्यालय-1 व डीएवी पब्लिक स्कूल के बीच खेले गए मैच में केंद्रीय विद्यालय-1 की टीम ने मैच जीता। बास्केटबॉल में सतलुज पब्लिक स्कूल व जीआरजी पब्लिक स्कूल के बीच खेले गए मैच में सतलुज पब्लिक स्कूल ने 28-2 से जीत हासिल की। बास्केटबॉल के दूसरे मैच में राजेंद्रा पब्लिक स्कूल व जी डी गोयनका पब्लिक स्कूल के बीच खेले गए मैच में जी डी गोयनका ने 26-9 से जीत हासिल की।

वॉलीबॉल मैच में महाराजा अग्रसेन स्कूल व दी सिरसा स्कूल के बीच खेले गए मैच में महाराजा अग्रसेन स्कूल ने यह मैच 2-0 से जीत हासिल की। वहीं दूसरे मैच में जीआरजी पब्लिक स्कूल व सतलुज पब्लिक स्कूल के बीच खेले गए मैच में सतलुज पब्लिक स्कूल ने यह मैच 2-0 से जीत लिया।

Inter School Sports and Literary Competitions (8)

Three day Inter School Sports and Literary Competitions – JCD Vidyapeeth, Sirsa

जेसीडी विद्यापीठ में तीन दिवसीय खेलकूद एवं साहित्यिक प्रतियोगिता का शुभारंभ
खेल जीवन का अभिन्न अंग है- पवन कुमार सुथार
ज्ञान और विज्ञान सांझें करने से ही बढ़ोतरी होती है- डॉ मलिक

जननायक चौधरी देवीलाल विद्यापीठ में तीन दिवसीय खेलकूद एवं साहित्यिक प्रतियोगिता का शुभारंभ किया गया। इस कार्यक्रम में मुख्य अतिथि सिरसा जिले की उप जिला शिक्षा अधिकारी श्री पवन कुमार सुथार एवं कार्यक्रम की अध्यक्षता विद्यापीठ प्रबंधक समन्वय इंजी अकाश चावला व शैक्षणिक निदेशक डॉ आरआर मलिक, व जेसीडी डेंटल कॉलेज के सीईओ सिद्धार्थ जी ने की। प्रतियोगिता के समन्वयक एवं जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ जयप्रकाश ने आए हुए अतिथियों का स्वागत किया और खेलकूद व साहित्यिक गतिविधियों के उद्देश्यों के बारे में विस्तार से बताया। डॉ आरआर मलिक ने सभी उपस्थित जनों को संबोधित करते हुए कहा कि विद्यार्थी अपने स्कूली जीवन में लक्ष्य एवं उद्देश्य को निर्धारित करें। विद्यार्थी का जो उसे क्षेत्र हो क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय स्तर की सुविधाएं मिलनी चाहिए और जहां पर अंतरराष्ट्रीय स्तर की सुविधाएं मिल रही हो उनका समय अनुसार भ्रमण भी करना चाहिए‚ उन्होंने जेसीडी विद्यापीठ की अंतरराष्ट्रीय स्तर की आधुनिक सुविधाओं के बारे में विस्तार से बताया और विद्यालयों के प्राचार्य गण और शिक्षकों से अनुरोध किया कि आप विद्यापीठ जैसी संस्थाओं में जो आधुनिक सुविधाएं हैं एवं अंतर्राष्ट्रीय स्तर की हैं उनमें बच्चों को अवश्य अवगत करवाएं। उन्होंने कहा कि ज्ञान और विज्ञान को आपस में सांझा करने से इसमें बढ़ोतरी होती है।

ताऊ देवी लाल जी ने विद्यापीठ की स्थापना की थी वह इस उद्देश्य से की थी कि यह विद्यापीठ आमजन को सुविधाएं प्रदान करें। यह विद्यापीठ जनता को समर्पित किया था इस विद्यापीठ के दरवाजे सदैव आमजन के लिए खुले हैं। मुख्य अतिथि पवन सुथार ने संबोधित करते हुए कहा कि इस प्रकार के खेल एवं साहित्यिक गतिविधियों से बच्चों में आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होती है। खेल जीवन का अभिन्न अंग है। विद्यार्थियों को लक्ष्य और लगन से कार्य करना चाहिए। प्रत्येक प्रतिभागी इस प्रतियोगिता में खेल भावना से भाग लेना चाहिए। यह खेलकूद प्रतियोगिताएं अमरीक गिल स्पोर्ट्स ऑफिसर की देखरेख में की गई है

आज हुए खेल में सबसे पहले क्रिकेट मैच जीआरजी स्कूल सिरसा व सतलुज पब्लिक स्कूल सिरसा के बीच खेला गया जिसमें जीआरजी स्कूल ने 4 रन से जीत लिया। फुटबॉल मैच में राजेंद्रा पब्लिक स्कूल व महाराजा अग्रसेन स्कूल के बीच खेला गया जिसमें राजेंद्रा पब्लिक स्कूल 3-1 से विजय रहा। दूसरा मैच दि सिरसा स्कूल व अकाल एकेडमी सरदूलगढ़ की लड़कियों के बीच खेला गया जिसमें अकाल एकेडमी सरदूलगढ़ की लड़कियों ने 4-0 से जीता। बास्केटबॉल में सावन पब्लिक स्कूल व दि सिरसा स्कूल के बीच में खेला गया जिसमें सावन पब्लिक स्कूल ने 28-18 से मैच जीता। दूसरा मैच DAV व केंद्रीय विद्यालय-1 के बीच खेला गया जिसमें DAV ने 35-12 से जीत हासिल की। तीसरा मैच राजेंद्रा पब्लिक स्कूल व जी डी गोयनका स्कूल सिरसा, की लड़कियों के बीच खेला गया जिसमें राजेंद्रा पब्लिक स्कूल की लड़कियों ने 14-4 से विजय हासिल की।वॉलीबॉल में केंद्रीय विद्यालय-1 के साथ भारत सैनिक स्कूल सिरसा के मैच खेला गया जिसमें केंद्रीय विद्यालय-1 ने 2-0से जीत हासिल की।

इस अवसर पर प्राचार्य सहित‚ केंद्रीय विद्यालय-1, सतलुज पब्लिक स्कूल सिरसा, जीआरजी स्कूल सिरसा, सावन पब्लिक स्कूल, राजेंद्र पब्लिक स्कूल, महाराजा अग्रसेन सीनियर सेकेंडरी स्कूल सिरसा, अकाल अकैडमी, सरदूलगढ़, भारत सैनिक स्कूल सिरसा, स्वामी विवेकानंद सीनियर सेकेंडरी स्कूल, जी डी गोयनका स्कूल सिरसा, डीएवी स्कूल पब्लिक स्कूल सिरसा, महाराजा अग्रसेन सीनियर सेकेंडरी स्कूल सिरसा, जी आर जी सीनियर सेकेंडरी स्कूल सिरसा आर के सीनियर सेकेंडरी स्कूल सिरसा के विद्यार्थियों सहित अनेक प्राध्यापक प्राचार्य सहित विद्यापीठ के रजिस्ट्रार सुधांशु गुप्ता मौजूद, प्राचार्य डॉ. कुलदीप, डॉ.प्रदीप स्नेही डॉक्टर दिनेश कुमार गुप्ता डॉक्टर अनुपमा सेतिया मौजूद, डॉ अरिंदम सरकार थ

Friendly Cricket Match – JCD Vidyapeeth, Sirsa

A friendly cricket match was organized in between JCD Dental College and Admin Block Cricket teams. In which Mr. Sudhanshu Gupta, Registrar of JCDV, Dr. Rajeshwar Chawla, Principal of Dental College and Dr. Jai Parkash, Principal of JCD Education College participated, Match tossed done in the presence of Dr. Arindam Sarkar, Captain of Dental-Eleven and Mr. Mahendra Pratap Singh, Captain of Admin-Eleven team. This cricket match was organized under the guidance of Mr. Amir Singh, Cricket Coach and JCDV Sports Officer. The admin-eleven team won the match by six wickets.

जेसीडी विद्यापीठ के क्रिकेट मैदान में विगत दिवस जेसीडी डेन्टल कॉलेज तथा एडम ब्लॉक की टीमों के मध्य फ्रेेंडली मैच का आयोजन किया गया, जिसमें जेसीडी विद्यापीठ के रजिस्ट्रार श्री सुधांशु गुप्ता एवं डेन्टल कॉलेज के प्राचार्य डॉ.राजेश्वर चावला तथा जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश द्वारा डेन्टल-इलैवन के कप्तान डॉ.अरिन्दम सरकार एवं एडम-इलैवन के कप्तान मि.महेन्द्र प्रताप सिंह की उपस्थिति में टॉस करवाया गया। इस क्रिकेट मैच का आयोजन क्रिकेट कोच तथा जेसीडी विद्यापीठ के खेल अधिकारी मि.अमरीक सिंह के मार्गदर्शन में करवाया गया।

इस क्रिकेट मैच के दौरान टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय जेसीडी डेन्टल-इलैवन ने लेते हुए निर्धारित 15 ओवरों में ताबडतोड़ बल्लेबाजी करते हुए 96 रन बनाकर एडम-इलैवन के समक्ष जीत के लिए 97 रनों का लक्ष्य रखा। जिसमें डेन्टल-इलैवन के डॉ.सुमित ने अपना बेहतर प्रदर्शन करते हुए बल्लेबाजी में 24 गेंदों में सर्वाधिक 22 रनों का योगदान दिया वहीं उन्होंने गेंदबाजी में भी दो विकेट झटके। वहीं लक्ष्य का पीछा करने मैदान में उतरी एडम-इलैवन की टीम प्रारंभ में थोड़ा धीरे रन बना पाई परंतु बाद में बल्लेबाजी करने उतरे मोहर सिंह ने अपना दमखम दिखाते हुए 20 गेंदों में सर्वाधिक 30 रनों का योगदान देकर मैन ऑफ द मैच चुने गए। वहीं अंतिम ओवर में एडम-इलैवन की टीम ने 6 विकटों के माध्यम से जीत हासिल की।

इस अवसर पर बतौर विशिष्ट अतिथि पधारे हुए श्री सुधांशु गुप्ता ने सभी खिलाडिय़ों की सराहना करते हुए कहा कि यह आयोजन दो विभागों के मध्यस्थ एक बेहतर सम्बन्ध स्थापित करने का काम करेगा। उन्होंने कहा कि खेलों से जहां हमारा स्वास्थ्य बेहतर होता है वहीं इससे आपसी भाईचारा एवं सौहार्द की भावना जागृत होती है। उन्होंने कहा कि संस्थान के विभिन्न विभागों के मध्यस्थ इस प्रकार की आयोजन करवाए जाते हैं ताकि वे आपसी तालमेल स्थापित कर सकें। वहीं उन्होंने इस मौके पर सभी खिलाडिय़ों से आह्वान किया कि वे खेल को खेल की भावना से आपसी भाईचारा कायम करने के लिए खेलें।

इस अवसर पर जेसीडी डेन्टल कॉलेज के समस्त सीनियर्स एवं अन्य डॉक्टर्स के अलावा एडम ब्लॉक से मि.रविन्द्र झींझा, रचित गोयल, प्रमोद गोयल, अंकुश अरोड़ा, राजेश कुमार, संदीप दत्ता, कपिल शर्मा, संजय वर्मा, सत्यदीप सिसोदिया के अलावा अन्य अधिकारीगण एवं कर्मचारीगणों के अलावा विद्यार्थी भी मौजूद रहे तथा इस मैच का लुत्फ उठाया।

Schools of Sirsa participated in Coordination Meeting at JCDV, Sirsa

जेसीडी विद्यापीठ द्वारा विभिन्न स्कूलों के साथ सामंजस्य स्थापित करने हेतु बैठक का आयोजन
सिरसा जिला के विभिन्न नामी-गिरामी स्कूलों के मुख्याध्यापक एवं प्राचार्यों ने लिया बैठक में हिस्सा

A meeting of principal teachers and principals of various renowned schools of Sirsa district was organized in the auditorium room of the Education College, at JCD Vidyapeeth, which was chaired by Dr. R.R. Malik, the Education Director of the Vidyapeeth. Apart from Mr. Sudhanshu Gupta, Registrar of JCD University, Principal of different colleges of the Vidyapeeth were also present. This program was organized by Principal of the Education College, Dr. Jai Prakash. He provided detailed information about the relationship of the colleges and schools, congratulating and welcoming the chief teachers and principals of all the schools that came to this program. While convincing everybody for the Vidyapeeth, he told all the principals about the various colleges in the institute and the courses being run in them. He said that any institute is incomplete without the support of schools because children are coming out of these schools only become a part of the colleges.

जेसीडी विद्यापीठ में वीरवार को शिक्षण महाविद्यालय के सभागार कक्ष में सिरसा जिले के विभिन्न नामी-गिरामी विद्यालयों के मुख्य अध्यापकों एवं प्राचार्यों की एक बैठक का आयोजन किया गया, जिसकी विद्यापीठ के शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक द्वारा अध्यक्षता की गई। इस मौके पर जेसीडी विद्यापीठ के रजिस्ट्रार श्री सुधांशु गुप्ता के अलावा विद्यापीठ के विभिन्न कॉलेजों के प्राचार्यगण भी मौजूद रहे। इस कार्यक्रम का आयोजन शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश द्वारा किया गया। उन्होंने इस कार्य्रकम में आए हुए सभी विद्यालयों के मुख्य अध्यापकों एवं प्राचार्यों का अभिनंदन एवं स्वागत करते हुए महाविद्यालय एवं विद्यालयों के संबंध के बारे में विस्तार से जानकारी प्रदान की। उन्होंने विद्यापीठ के उद्देश्य से सभी को अवगत करवाते हुए सभी प्राचार्य को संस्थान में चलाए जा रहे विभिन्न महाविद्यालयों तथा उनमें चल रहे कोर्सेज के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि कोई भी संस्थान बिना विद्यालयों के सहयोग के अधूरा होता है क्योंकि इन स्कूलों से निकलने वाले बच्चे ही आगे चलकर महाविद्यालयों का हिस्सा बनते हैं।

इस कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे डॉ.आर.आर.मलिक ने सभी को संबोधित करते हुए कहा कि विद्यालयों एवं महाविद्यालयों का आपस में शैक्षणिक सहयोग होना बहुत जरूरी है क्योंकि इनसे ही विद्यार्थी को एक बेहतर संस्थान चुन पाने में सहयोग प्राप्त होता है। उन्होंने कहा कि सभी विद्यालयों को समय-समय पर अपने विद्यार्थियों को जेसीडी विद्यापीठ जैसी बेहतर संस्थाओं का भ्रमण अवश्य करवाना चाहिए, जिससे छात्रों के उद्देश्य व भविष्य के बारे में वह जागरूक हो सके। इस मौके पर आयोजित बैठक में वार्षिक खेलकूद कैलेंडर का भी निर्माण किया गया जिसके तहत 15, 16 व 17 नवंबर को खेलकूद प्रतियोगिता 22 व 23 नवंबर को साहित्यिक गतिविधियों का आयोजन करवाया जाएगा, जिसमें सभी स्कूलों के विद्यार्थियों की भी भागीदारी सुनिश्चित की जाएगी। डॉ.मलिक ने अपने संबोधन में कहा कि स्कूल ही किसी महाविद्यालय की नींव होते हैं क्योंकि यहां से ही विद्यार्थी निकलकर महाविद्यालय में जाते हैं इसलिए महाविद्यालयों एवं स्कूलों का आपसी तालमेल तथा सांमजस्य काफी लाभदायक साबित होता है।

इस अवसर पर विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला ने आए हुए सभी स्कूलों के प्राचार्यों का विद्यापीठ के सहयोग व इस कार्यक्रम में आगमन के लिए हार्दिक धन्यवाद देते हुए विश्वास दिलाया कि निकट भविष्य में भी जेसीडी विद्यापीठ स्कूलों को हरसंभव सहयोग प्रदान करता रहेगा। उन्होंने कहा कि शिक्षा के लिए हमारे संस्थान में विद्यार्थियों को बेहतर सुविधाएं मुहैया करवाई जाती है ताकि वह अपने माता-पिता, जिला के साथ-साथ राज्य का भी नाम रोशन करने का काम करें।

इस कार्यक्रम में सतलुज पब्लिक सी.सेकेंडरी स्कूल से नेवी सरकारिया तथा श्रीमती रितिका सरकारिया, सावन पब्लिक स्कूल से मि. अनुराग, द सिरसा स्कूल, राजेंद्रा पब्लिक स्कूल पंजूआना के प्राचार्य आशुतोष रस्तोगी, माता हरकी देवी, केन्द्रीय विद्यालय नं.1, एसयरफोर्स स्टेशन से श्री सुभाष चंद्र, केंद्रीय विद्यालय नं. 2 से श्रीमती सुशीला शेरावत, जी.आर.जी.वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय सिरसा, जी डी गोयनका स्कूल सिरसा से पूनम मोंगा,डीएवी पब्लिक स्कूल से मि.राजीव व श्री राम सचदेवा तथा महाराजा अग्रसेन सी.सै.स्कूल के मुख्याध्यापक एवं प्राचार्य उपस्थित रहे।

New Session Started in JCD Vidyapeeth by Hawan Ceremony

The launch of New Session of JCD Vidyapeeth started with Mantra and Hawan. Dr. R.R. Malik, and Eg. Akash Chawla called students to uphold the disciplined and cultured environment prevailing in the Vidyapeeth.

जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित मैमोरियल कॉलेज सहित अन्य कॉलेजों के नए सत्र का शुभारंभ हवन-यज्ञ के साथ हुआ, जिसमें जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला एवं शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक ने मुख्य यजमान की भूमिका निभाते हुए बतौर मुख्यातिथि उपस्थित हुए। वहीं इस कार्यक्रम की अध्यक्षता जेसीडी मैमोरियल कॉलेज के प्राचार्य डॉ.प्रदीप स्नेही द्वारा की गई। इस अवसर पर विद्यापीठ के रजिस्ट्रार श्री सुधांशु गुप्ता सहित सभी महाविद्यालयों के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश, डॉ.राजेश्वर चावला, डॉ.दिनेश कुमार गुप्ता, डॉ.कुलदीप सिंह, इंजी.आर.एस.बराड़ व श्रीमती अनुपमा सेतिया के अलावा अन्य अधिकारीगण तथा स्टाफ सदस्य एवं कॉलेज के सभी विद्यार्थियों के अलावा अन्य गणमान्य अतिथियों ने भी हवन-यज्ञ में अपने कर-कमलों द्वारा आहुति डालकर शुभफल की कामना की।

इस मौके पर इंजी.आकाश चावला एवं डॉ.आर.आर.मलिक ने सभी को अपने संबोधन में कहा कि चौ.देवीलाल जी ने यह सपना देखा था कि शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़े हुए सिरसा को अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित संस्थान प्रदान किया जाए तथा इस जिले के विद्यार्थियों को उच्च गुणवत्तायुक्त शिक्षा हासिल करने के लिए शहर से बाहर न जाना पड़े,जिसे पूर्ण करने में जेसीडी विद्यापीठ सदैव अग्रणी रहेगा। उन्होंने कहा कि जेसीडी विद्यापीठ के सभी संस्थान अनुशासित,संस्कारित एवं गुणवत्तायुक्त शिक्षा के लिए वचनबद्ध हैं और इसमें वे खरे भी उतर रहे हैं तथा हवन-यज्ञ भी उन्हीं संस्कारों में निहित एक परम्परा है,जिससे किसी भी कार्य का शुभारंभ सदैव शुभ फलदायी साबित होता है। उन्होंने सभी नए विद्यार्थियों से यह आह्वान किया कि जिस प्रकार विद्यापीठ में पूर्ववत् अनुशासन,संस्कारित शिक्षा एवं स्वच्छ वातावरण कायम है उसे आप लोग भी बखूबी कायम रखेंगे और नियमों का पालन करते हुए नियमित कक्षाएं लगाएंगे ताकि आपको बेहतर शिक्षा प्राप्ति में कोई परेशानी ना हो। उन्होंने कहा कि विद्यापीठ सदैव बेहतर शिक्षा,खेल एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों में बेहतर प्रदर्शन करता आया है तथा इसमें आप भी अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें ताकि आपका,आपके संस्थान का तथा जिला का नाम रोशन हो सके। डॉ.आर.आर.मलिक ने कहा कि हवन-यज्ञ का केवल संस्कारों से ही नहीं अपितु साईंस से भी सम्बन्ध है तथा इस हवन में डाली जाने वाली सामग्री में अनेक औषधियां समाहित होती है जो वातावरण को पवित्र एवं शुद्ध बनाने में सहायक होती है इसलिए भी हवन को पवित्र तथा शुभफलदायी माना गया है।

इस मौके पर अपने संबोधन में डॉ.प्रदीप शर्मा स्नेही ने कहा कि किसी भी कार्य का प्रारंभ अगर हवन-यज्ञ से करने की पौराणिक परम्परा के अनुसार ही आज कॉलेज द्वारा पहला पड़ाव पार कर लिया गया है तथा आज से विद्यार्थियों की सुचारू कक्षाएं प्रारंभ हो गई हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा में गुणवत्ता ही हमारा मुख्य ध्येय है तथा हम केवल विद्यार्थियों को डिग्री ही नहीं प्रदान करते अपितु उनको आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के साथ समय-समय पर अन्य प्रशिक्षण भी प्रदान किए जाते हैं ताकि उनका सर्वांगीण विकास हो सके।

इस मौके पर सभी नए विद्यार्थीयों सहित अन्य महाविद्यालयों के प्राचार्यों, जेसीडी विद्यापीठ के रजिस्ट्रार सहित अनेक अधिकारियों व स्टाफ सदस्यों तथा अतिथियों के साथ हवन-यज्ञ में आहुति डालकर मंगलमय भविष्य एवं शैक्षिक प्रगति की कामना की।

Tree Plantation on the occasion of World Environment Day – JCDV, Sirsa

Planting program was organized under the aegis of HDFC Bank Sirsa under the auspices of World Environment Day at JCD University, which was inaugurated by JCD Vidyapeeth’s Management Coordinator, Mr. Akash Chawla, and Registrar Mr. Sudhanshu Gupta as Chief Minister, by placing a plant in his hands.

On this occasion, HDFC Bank Branch Manager Ravi Kakad and Regional Manager Anil Sethi attended as special guests. On this occasion the plants were planted by the officials of various colleges of JCD University, other officials of JCD and students and staff members with their hands.

जेसीडी विद्यापीठ में विगत दिवस विश्व पर्यावरण दिवस के उपलक्ष्य में एचडीएफसी बैंक सिरसा के तत्वावधान में पौधारोपण कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसका शुभारंभ जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला एवं रजिस्ट्रार श्री सुधांशु गुप्ता द्वारा बतौर मुख्यातिथि स्वयं के हाथों एक पौधा लगाकर किया गया। वहीं इस मौके पर एचडीएफसी बैंक के ब्रांच मैनेजर रवि क्ककड़ एवं रिजनल मैनेजर अनिल सेठी ने विशिष्ट अतिथि के तौर पर शिरकत की। इस अवसर पर जेसीडी विद्यापीठ के विभिन्न कॉलेजों के प्राचार्यगण, जेसीडी के अन्य अधिकारियों एवं विद्यार्थियों व स्टाफ सदस्यों द्वारा भी अपने-अपने हाथों से पौधे रोपित किए गए।

इस मौके पर उपस्थितजनों को अपने संबोधन में इंजी.आकाश चावला एवं श्री सुधांशु गुप्ता ने कहा कि हमारा लक्ष्य जेसीडी विद्यापीठ सहित सिरसा जिला को हरियाली को ओर अधिक बढ़ाने हेतु अधिक से अधिक पौधे लगाकर वातावरण को स्वच्छ बनाने का है, जिस पर हम सदैव खरा उतरते हैं। उन्होंने कहा कि पेड़-पौधों का हमारे जीवन में बहुत महत्व है तथा यह हमें प्रकृति को हरा-भरा बनाने व स्वच्छ रखने हेतु सहायक सिद्ध होते हैं इसलिए हमें अपने जीवनकाल में एक पौधा अवश्य लगाना चाहिए तथा उसे उचित देखभाल करते हुए पेड़ बनाना चाहिए ताकि उसका उपयोग हमारी आने वाली पीढिय़ां कर सकें। उन्होंने इस मौके पर समस्त मालियों का धन्यवाद करते हुए कहा कि यह आपकी मेहनत से ही संभव हो पाया कि आज जेसीडी विद्यापीठ का सम्पूर्ण कैम्पस इतना हरा-भरा है तथा आगे भी आप अथक मेहनत करके इन पौधों को पेड़ बनाने के लिए प्रयास करेंगे ताकि इन पर लगने वाले फल लोग खा पाएं व इनकी छाया समस्त लोगों को शकुन प्रदान कर सकें। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में वाहनों की संख्या बढऩे तथा अनेक प्रकार के प्रदूषणों के कारण वातावरण अस्वच्छ हो चुका है जिसे स्वच्छ बनाने हेतु पौधे लगाना अनिवार्य है इसलिए हमें प्रत्येक स्थान पर संभव हो सके तो जहां पर पौधे नहीं लगे हैं वहां पर भी इन्हें लगाना चाहिए तथा देखभाल करनी चाहिए ताकि यह आगे चलकर छांव प्रदान करने के लिए पेड़ बन सकें ।

इस मौके पर अपने संबोधन में रवि कक्कड़ एवं अनिल सेठी ने सर्वप्रथम जेसीडी विद्यापीठ की प्रबंधन समिति का इस कार्य हेतु सहयोग करने के लिए आभार प्रकट करते हुए कहा कि केवल पौधा लगा देने मात्र से ही पेड़ नहीं बनता है उसकी बेहतर परवरिश तथा समय-समय पर उसकी उचित देखभाल की भी आवश्यकता होती है, जिसमें यह संस्थान खरा उतरेगा हमें यह आशा है। उन्होंने सभी से आह्वान किया कि हमें सामाजिक उत्सवों, शादी-विवाह, जन्मदिवस तथा अन्य मौकों पर एक पेड़ अवश्य लगाना चाहिए ताकि इससे पौधारोपण को बढ़ावा मिल सकें और हमारी प्रकृति स्वच्छ तथा हरी-भरी हो सके।

इस अवसर पर एचडीएफसी बैंक से कुलविन्द्र सिंह, सुनील वर्मा, राजेश कुमार तथा कृषि विभाग सिरसा से सुरेश कुमार एवं प्रदीप दुहन के अलावा जेसीडी विद्यापीठ के विभिन्न कॉलेजों के प्राचार्यगण, अधिकारीगण, कॉलेजों के स्टाफ सदस्यों एवं विद्यार्थियों ने भी अपना-अपना एक पौधा लगाया तथा संकल्प लिया कि वे इस पौधे को पेड़ बनने तक इसकी उचित देखभाल करेंगे।

War Trophy T-55 Tank Inaugural Function held at JCDV

A Cultural patriotic program “Salute to the martyrs” was organized to unveil the war trophy T-55 tank provided by the Indian Army at JCDV, Sirsa

Former chief minister of Haryana Ch. Om Prakash Chautala, Commander Brigadier Ajay Singh Mahajan, Commander, 57th Ommer Bigred of Hisar Cantt and Group Caption Vishal Malhotra, Chief Operations Officer of Air Force Station, Sirsa have attended the program as chief guests.

On this occasion, the widows of martyrs who sacrificed their lives for the freedom of the freedom fighters, the nation’s freedom for the country and the soldiers in Sirsa district and its surroundings, who received the medal for their better works in the Indian Army, were honored by Chief and other.

Jagbir Rathi looted lots of applause, guests, and others through his productions.

जेसीडी विद्यापीठ में बुधवार को देर सायं शहीदों को नमन् करने एवं उनको सच्चे अर्थों में श्रद्धांजलि अर्पित करने हेतु भारतीय सेना द्वारा प्रदान किए गए वार ट्राफी टी-55 टैंक का अनावरण के लिए सांस्कृतिक देशभक्ति कार्यक्रम ‘शहीदों को सलाम’ का आयोजन किया गया, जिसमें हिसार कैंट के 57 ऑमर्ड बिग्रेड के कमांडर ब्रिगेडियर अजय सिंह महाजन तथा एयर फोर्स स्टेशन के चीफ ऑप्रेशन अधिकारी गु्रप कैप्टन विशाल मल्होत्रा एवं पूर्व मुख्यमंत्री हरियाणा चौ.ओमप्रकाश चौटाला जी ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। वहीं इस मौके पर जेसीडी विद्यापीठ के संस्थापक अध्यक्ष डॉ.अजय सिंह चौटाला एवं चेयरमैन श्री दिग्विजय सिंह चौटाला ने विशिष्ट अतिथि के तौर पर शिरकत की। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला एवं शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक के अलावा जेसीडी डेन्टल कॉलेज के प्रबंधन एक्सीक्यूटिव श्री सिद्धार्थ झींझा के अलावा सिरसा के सांसद श्री चरणजीत सिंह रोड़ी, विधायक सिरसा मक्खन लाल सिंगला, विधायक रानियां रामचंद्र कं बोज, विधायक प्रो.रविन्द्र सिंह बलियाला, श्री पदम चंद जैन के अलावा अनेक गणमान्य लोग एवं अतिथिगणों के अलावा जेसीडी विद्यापीठ के विभिन्न कॉलेजों के प्राचार्यगण, अधिकारीगण व शहर के मौजिजगण मौजूद रहे। वहीं इस अवसर पर स्वतंत्रता सेनानियों के परिवार वालों, देशहित के लिए अपने प्राण न्यौछावर करने वाले शहीदों की विधवाओं एवं भारतीय सेना में अपने बेहतर कार्यों के लिए मेडल हासिल करने वाले सिरसा जिला एवं इसके आसपास के सैनिकों को मुख्यातिथि एवं अन्य द्वारा सम्मानित किया गया। इस मौके पर निदेशक युवा कल्याण विभाग महर्षि दयानंद विश्वविद्यालय रोहतक श्री जगबीर राठी एवं उनकी टीम ने अपनी प्रस्तुति के माध्यम से जहां देशभक्ति का जज्बा फूंका वहीं उन्होंने अपने लतीफों के माध्यम से उपस्थितजनों का मनोरंजन किया।

सर्वप्रथम जेसीडी विद्यापीठ के चेयरमैन श्री दिग्विजय सिंह चौटाला ने विद्यापीठ के सभी कॉलेजों के प्राचार्यगण, अधिकारीगण एवं अन्य के साथ सभी अतिथियों का गुलदस्ते प्रदान करके स्वागत किया गया। डॉ.आर.आर.मलिक द्वारा इस मौके पर जेसीडी विद्यापीठ की उपलब्धियों एवं चलाएं जा रहे सभी कोर्सों के बारे में मुख्यातिथि महोदय एवं अन्य को अवगत करवाया गया। उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य हमारे विद्यार्थियों को बेहतर सुविधाओं के माध्यम से अच्छी शिक्षा प्रदान करके देशहित में सच्चे नागरिक बनाना है, जिस पर हम सदैव खरा उतरने का प्रयास कर रहे हैंं।

बतौर मुख्यातिथि अपने संबोधन में ब्रिगेडियर अजय महाजन ने सर्वप्रथम जेसीडी विद्यापीठ प्रबंधन समिति का आभार प्रकट करते हुए कहा कि यह उनका सौभाग्य है कि उनको युवा पीढ़ी के समक्ष अपने विचार रखने का अवसर प्राप्त हुआ है। उन्होंने कहा कि सम्पूर्ण देश में हरियाणा ने सबसे अधिक सेना में जाने वाले युवाओं की श्रेणी में प्रथम नंबर पर आता है। वहीं हरियाणा के युवाओं का देशहित में अमूल्य योगदान रहा है। उन्होंने इस अवसर पर शहीदों को नमन् करते हुए उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए उन्हें सेल्यूट किया तथा उनके अमूल्य बलिदान को व्यर्थ न जाने की बात कही।

इस अवसर पर अपने संबोधन में श्री विशाल मल्होत्रा ने कहा कि यह कार्यक्रम शहीदों को सच्चे अर्थों में श्रद्धासुमन अर्पित करने का काम करेगा। उन्होंने कहा कि सेना के जवान ही राष्ट्र के सच्चे हीरों है, इसलिए उनको सदैव स्मरण रखना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रत्येक जवान को अपनी मातृभूमि से लगाव है तथा वह उसके लिए अपने प्राणों तक की परवाह नहीं करता है तथा देश के विकास के लिए सदैव तत्पर रहता है। उन्होंने कहा कि इस आयोजन से विद्यार्थियों को भारतीय सेना तथा अन्य सेनाओं में जाने की प्रेरणा प्राप्त होगी जो एक बेहतर कार्य है।

श्री दिग्विजय सिंह चौटाला ने अपने संबोधन में बताया कि इस कार्यक्रम के आयोजन का मुख्य उद्देश्य शहीदों को श्रद्धांजलि अर्पित करने तथा उनके परिवारों को सम्मानित करने हेतु तथा भारतीय सेना के प्रति अपनी सच्ची निष्ठा एवं देशहित में किए जा रहे उनके कार्य को सलाम करना है। वहीं उन्होंने इस अवसर पर अनावरण किए गए टैंक के बारे में कहा कि जेसीडी विद्यापीठ में इस टैंक की स्थापना सिरसा एवं आसपास के क्षेत्रों के युवाओं को भारतीय सेना में जाने के लिए प्रेरणा प्रदान करने का काम करेगा, वहीं भारतीय सेना एवं सैनिकों के प्रति सच्ची श्रद्धा के भाव जगाने में भी यह आयोजन अपनी अह्म भूमिका अदा करेगा। उन्होंने कहा कि चौ.देवीलाल जी ने सदैव स्वप्र देखा था कि सिरसा जिला में बेहतर शिक्षा, रोजगार एवं यहां के युवाओं को उचित मार्गदर्शन के तहत देशहित में उनका योगदान संभव हो सके, जिसमें यह कार्यक्रम मुख्य भूमिका अदा करेगा। उन्होंने कहा कि चौ.देवीलाल जी ने जो रास्ता दिखाया है उसी पर हम सभी चलने का प्रयास कर रहे हैं ताकि युवाओं को एक बेहतर भविष्य प्राप्त हो सके।

इस अवसर पर अपने संबोधन में चौ.ओम प्रकाश चौटाला ने सभी उपस्थितजनों को कहा कि चौ. देवीलाल जी ने सदैव यही स्वप्र संजोया था कि युवा पीढ़ी को बेहतर शिक्षा, रोजगार तथा देशहित में उनका अमूल्य योगदान हो, जिसे जेसीडी विद्यापीठ के तौर पर साकार रूप प्राप्त हुआ है। उन्होंने कहा कि यह सिरसा जिला एवं आसपास के क्षेत्र के लोगों के लिए बहुत ही बेहतर समय है कि उन्हें एक ही छत के नीचे अनेक कोर्सों को करने का अवसर मिल रहा है। चौ.ओमप्रकाश जी ने कहा कि युवा पीढ़ी को इस कार्यक्रम से प्रेरणा के साथ-साथ भारतीय सेना में जाने हेतु मार्गदर्शन प्राप्त होगा।

इस कार्यक्रम को सफल बनाने हेतु जेसीडी विद्यापीठ के विभिन्न कॉलेजों के शिक्षकगणों, स्टाफ सदस्यों एवं अन्य की टीमों का गठन किया गया। इस अवसर पर जगबीर राठी एवं उनकी सम्पूर्ण टीम को मुख्यातिथि एवं अन्य अतिथियों द्वारा स्मृति चिह्न प्रदान करके सम्मानित किया गया।

Annual Convocation-2018 Second Day

More than 400 students were conferred degrees in Annual Convocation Program

जेसीडी विद्यापीठ में दूसरे दिन आयोजित दीक्षांत समारोह में 400 से अधिक विद्यार्थियों ने हासिल की डिग्रियां
विद्यार्थियों का कर्म ही पूजा ध्येय होना चाहिए व अर्जित ज्ञान का समाज कल्याण हेतु करें विद्यार्थी प्रयोग : प्रो.कायत

जेसीडी विद्यापीठ के सभागार में शिक्षण महाविद्यालय, मैमोरियल पीजी कॉलेज एवं आईबीएम कॉलेज के बी.एड. व एम.एड.,बी.ए.,बीएससी, बी.कॉम.,बीएमसी व बीबीए,एमबीए के विद्यार्थियों को डिग्रियां प्रदान करने हेतु दूसरे दिन के कार्यक्रम में चौ.देवीलाल विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो.डॉ.विजय कुमार कायत ने बतौर मुख्यातिथि उपस्थित होकर विद्यार्थियों को डिग्रियां प्रदान की। इस अवसर पर उनके साथ जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला, शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक व विभिन्न कॉलेजों के प्राचार्यगण डॉ.जयप्रकाश, डॉ.प्रदीप शर्मा स्नेही, श्रीमती हरलीन कौर, डॉ.विनय लाठर, डॉ.दिनेश कुमार गुप्ता, इंजी.आर.एस.ब​राड़ सहित अन्य अधिकारीगण एवं कर्मचारीगण भी मौजूद रहे। दीक्षान्त समारोह का शुभारंभ मुख्यातिथि एवं अन्य अतिथियों द्वारा मां सरस्वती के समक्ष द्वीप प्रज्ज्वलित करके किया गया। जिसके उपरांत मुख्यातिथि महोदय द्वारा दीक्षान्त समारोह के शुभारंभ की घोषणा की गई। इस वार्षिक दीक्षांत समारोह में एम.एड.,बी.एड.,एमबीए,बीबीए,बी.एम.सी बी.एससी.,बीसीए,बी.ए. एवं बी.कॉम. के 400 से अधिक विद्यार्थियों को उपाधियां प्रदान की गई तथा अनेक विद्यार्थियों को शिक्षा में बेहतर प्रदर्शन करते हुए विश्विद्यालय स्तर पर स्थान हासिल करने के लिए स्वर्ण पदक एवं प्रमाण-पत्र प्रदान करके सम्मानित किया गया।

सर्वप्रथम डॉ.आर.आर.मलिक ने अपने संबोधन में इस मौके पर बतौर मुख्यातिथि पधारे डॉ विजय कायत का स्वागत करते हुए कहा कि यह बहुत ही बड़ी उपलब्धि है कि हमारे विद्यार्थियों को एक अनुभवी व्यक्तित्व के धनी तथा उच्च पदासीन शख्सियत से उपाधियां प्राप्त करने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है। उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य हमारे विद्यार्थियों को केवल बेहतर शिक्षा ही प्रदान करना नहीं अपितु उनका सर्वांगीण विकास करके उनकी एक बेहतर पहचान कायम करना है। इस मौके पर डॉ.आर.आर.मलिक ने वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत किया जिसमें गत वर्ष की विद्यापीठ के विद्यार्थियों द्वारा अर्जित की गई उपलब्धियों का व्याख्यान किया गया। डॉ.मलिक ने कहा कि हमारे विद्यार्थियों ने शिक्षा के अलावा खेलकूद, सांस्कृतिक एवं अन्य गतिविधियों में भी अपनी प्रतिभा का लोहा मनवाने का काम किया है,जिसके चलते संस्थान की राष्ट्रीय स्तर की पहचान कायम हुई है।

बतौर मुख्यातिथि अपने संबोधन में डॉ.विजय कायत ने सर्वप्रथम जेसीडी विद्यापीठ की प्रबंधन समिति एवं दीक्षांत समारोह के आयोजकों को इस कार्यक्रम की हार्दिक बधाई देते हुए उपाधि प्राप्त करने वाले अभियार्थियों को भी उनके उज्ज्वल भविष्य की शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि वह अपनी योजनाओं को अपने माता-पिता, दोस्तों व टीचर को बताता है तो इससे उसकी योजनाओं में निखार आता है। छात्र की योजनाओं से उसके चरित्र व करियर का पता चलता है। उन्होंने कहा कि सिर्फ ग्रेजुएट हो जाने से जीवन में सीखना व पढऩा खत्म नहीं होता है आगे जीवन में बहुत कुछ सीखने को मिलेगा जो आप के बहुत काम आएंगे। आज आपको शिक्षा संपन्न करने के बाद उपाधि प्राप्त हुई है अब आप अपने जीवन के लक्ष्य निर्धारित करते हुए उसे हासिल करने में लग जाए ताकि आपको कामयाबी प्राप्त हो सके। उन्होंने कहा,’आप जो भी लक्ष्य तय करें उसे पाने के लिए पूरी एकाग्रता के साथ आगे बढ़ें। उन्होंने अपने संबोधन में जेसीडी विद्यापीठ में व्याप्त अनुशासनात्मक माहौल, हरा-भरा कैंपस एवं बेहतर शिक्षण एवं संस्कारों की भूरि-भूरि प्रशंसा की। उन्होंने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि यह आपके जीवन का एक महत्वपूर्ण दिवस है, जिससे आपकी पौराणिक कॉलेज जीवन की यादें एक बार फिर कैम्पस में उपस्थित होने पर ताजा हो आई है। प्रो.कायत ने सभी उपाधि प्राप्तकर्ताओं से अनुरोध किया कि वे अपने अर्जित ज्ञान व शिक्षा का समाज कल्याण में उपयोग करें तथा अच्छे मानव बनें। उन्होंने कहा कि अपने अन्र्तमन की सुन कर ही हमें जीवन उद्देश्य निर्धारित करना चाहिए ताकि हम सही दिशा की ओर अग्रसर हो सकें। अपनी अंर्तात्मा की आवाज को सुनें। प्रत्येक को जीवन में सफलता हासिल करने के लिए समय की प्रबंधता का होना अतिआवश्यक है अगर हम समय के महत्व को नहीं पहचानेंगे तो पिछड़ जाएंगे। शिक्षक एवं विद्यार्थी अपने को अपडेट रखें तथा समाजहित में कार्य करते हुए सदैव अपने लक्ष्य को स्मरण रखते हुए बेहतर कार्य करें। डॉ कायत ने भारतीय अध्यात्मिक मूल्य, धर्म, संस्कृति और शिक्षा को आगे बढ़ाने के लिए युवा वर्ग से आह्वान किया तथा साथ में विद्यार्थियों को सचेत करते हुए कहा कि आप पाश्चात्य संस्कृति का अंधाधुंध प्रयोंग से भी बचे। यह ना केवल हमारी युवा पीढी को गलत दिशा मे अग्रसर कर रही है बल्कि हमारी सभ्यता और संस्कृति को भी गहरी चोट पहुंचा रही है।

इस पर जेसीडी मैमोरियल कॉलेज के प्राचार्य डॉ.प्रदीप स्नेही तथा डॉ.जयप्रकाश ने मुख्यातिथि महोदय एवं अन्य अतिथियों का इस कार्यक्रम में पधारने पर हार्दिक आभार प्रकट करते हुए अपना धन्यवादी अभिभाषण प्रस्तुत किया तथा उपाधि प्राप्त करने वाले विद्यार्थियों को एक कविता के माध्यम से कहा कि वे अब एक नए पथ पर अग्रसर हो चुके हैं, जिस पर उन्हें संभलकर चलना होगा। उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य हमारे विद्यार्थियों एवं शिक्षकों को समय-समय पर बेहतर अनुभवी विशेषज्ञों से रूबरू करवाकर उनकी ज्ञान में वृद्धि करना होता है, जिसके लिए हम कृतसंकल्प है तथा निकट भविष्य में भी इस कार्य में लगे रहेंगे। उन्होंने सभी विद्यार्थियों को बधाई प्रेषित की तथा उनके उज्ज्वल भविष्य के लिए शुभकामनाएं प्रेषित की।

सभी विद्यार्थियों को मुख्यातिथि एवं अन्य अतिथियों द्वारा उपाधि प्रदान की गई तथा अनेक विद्यार्थियों को बेहतर प्रदर्शन करने के लिए गोल्ड मेडल प्रदान करके सम्मानित किया गया। वहीं इस मौके पर जेसीडी विद्यापीठ की वार्षिक रिपोर्ट का भी सभी अतिथियों द्वारा विमोचन किया गया, जिसमें विद्यार्थियों एवं संस्थान की उपलब्धियों का व्याख्यान किया गया है। कार्यक्रम के अंत में मुख्यातिथि महोदय को जेसीडी विद्यापीठ की प्रबंधन समिति एवं अन्य द्वारा स्मृति चिह्न प्रदान करके सम्मानित किया गया। इस अवसर पर जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय, जेसीडी आईबीएम व जेसीडी मैमोरियल पीजी कॉलेज के अलावा अन्य कॉलेजों के स्टाफ सदस्य एवं अन्य गणमान्य लोगों सहित अनेक विद्यार्थीगण भी उपस्थित रहे।

इसके पश्चात् सभी कॉलेजों द्वारा अपने-अपने विद्यार्थियों को पूर्व विद्यार्थियों से रूबरू करवाने एवं उनके अनुभव सांझा करवाने हेतु भूतपूर्व छात्र मिलन समारोह का भी आयोजन करवाया गया, जिसमें सभी कॉलेजों के विद्यार्थियों ने अपनी उपस्थिति दर्ज करके अपनी पूर्व की यादों को तरोताजा करके खुद को उत्साहित महसूस किया एवं अपनी-अपनी प्रस्तुतियों के माध्यम से खूब वाहवाही लूटी।

Visit Us On TwitterVisit Us On FacebookVisit Us On Google PlusVisit Us On PinterestVisit Us On YoutubeVisit Us On LinkedinCheck Our FeedVisit Us On Instagram