Follow us:-
National Literacy Day Celebrated at JCDV
  • By
  • September 8, 2018
  • No Comments

National Literacy Day Celebrated at JCDV

जेसीडी मैमोरियल कॉलेज में राष्ट्रीय साक्षरता दिवस के अवसर पर लघु नाटिका का मंचन
विद्यार्थियों एवं स्टाफ सदस्यों ने राष्ट्रीय साक्षरता दिवस के अवसर पर जाना साक्षरता का वास्तविक अर्थ

National Literacy Day was celebrated with enthusiasm in JCD Memorial(PG)College, Sirsa. On this occasion, the students presented a short play telling the importance of literacy. On this occasion, Dr. Pradeep Snehi, Principal of the College, urged students to educate other persons.

जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित स्नातकोत्तर महाविद्यालय में राष्ट्रीय साक्षरता दिवस बड़ें उत्साह के साथ मनाया गया। इस अवसर पर विद्यार्थियों द्वारा साक्षरता के महत्व को बताते हुए एक लघु नाटिका प्रस्तुत की। इस मौके पर कॉलेज के प्राचार्य डॉ प्रदीप स्नेही ने हर एक विद्याथी को अपने जीवन में किसी न किसी माध्यम से दूसरे लोगों को भी साक्षर करने की अपील की व कहा की विद्यार्थी जीवन की सफलता का रहस्य दूसरे व्यक्तियों में भी ज्ञान की लौ जगाने में छिपा है। उन्होंने कहा कि हम अगर किसी व्यक्ति को जीवन में कामयाब बनाना चाहते हैं तो उसको साक्षर करके ही सक्षम बनाया जा सकता है। उन्होंने कहा कि शिक्षा ही हमारा मुख्य हथियार है, जिसके माध्यम से हम हमारे सामने आने वाली प्रत्येक कठिनाईयों से संघर्ष कर सकते हैं। डॉ.स्नेही ने कहा कि ज्ञानशाील व्यक्ति सदैव पूजे जाते हैं इसलिए ज्ञान का बहुत महत्व है। वहीं इस अवसर पर मेधा, गुरप्रीत, लवीश व गौरव आदि विद्यार्थियों ने अपनी लघु नाटिका द्वारा वहां पर उपस्थित सभी लोगों को जीवन में साक्षर होने का महत्व अपने मनोभावो से बखूबी समझाया। छात्र वैभव ने अपने सम्बोधन में साक्षरता दिवस की भूमिका एवं विभिन्न देशों मेें साक्षरता की दर को आंकड़ो सहित प्रस्तुत किया।

सभी को राष्ट्रीय साक्षरता दिवस के अवसर पर जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला एवं शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक ने साक्षरता को दूसरे संसाधनों की तरह ही व्यक्ति की एक जरूरत बताया। उन्होंने विद्याथियों से अपील की वे साक्षरता की दर अपने हरियाणा प्रदेश में ही नही बल्कि सम्पूर्ण राष्ट्र में सुधारने का संकल्प लेकर उसके लिए कार्य करें। उन्होंने कहा कि शिक्षा ही व्यक्ति की अनमोल धरोहर है इसलिए शिक्षित बने ताकि आपको सदैव सफलता हासिल हो सके। उन्होंने कहा कि केवल किताबी ज्ञान ही साक्षरता नहीं है अपितु व्यावहारिक एवं सामाजिक ज्ञान के साथ-साथ नैतिक ज्ञान भी इसका हिस्सा है। उन्होंने इस कार्यक्रम के आयोजकों को इसकी सफलता के लिए बधाईयां प्रदान की।

इस अवसर पर कार्यक्रम की कोर्डिनेटर डॉ पूनम पूनिया, डॉ इंद्रजीत बिश्नोई, डॉ इष्टप्रीत, इस अवसर पर कार्डिनेटर डॉ पूनम पूनिया, डॉ इंद्रजीत विशनोई, डॉ इष्टप्रीत, अमरीक गिल, पूनम वर्मा, अमनीत कौर, अशोक कुमार, विजय कुमार, सोमवीर सिंह, नानकचन्द एवं अभय सिंह इत्यादि शिक्षकगणों के अलावा विभिन्न संकाय के विद्यार्थीगण एवं अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित रहे।