Celebration of New Year-2020 EVE – JCD Vidyapeeth, Sirsa

जेसीडी विद्यापीठ में नववर्ष-2020 की पूर्वसंध्या पर संगीतमय शाम का आयोजन
जीवन को जीने के लिए ऊर्जा अति आवश्यक, ऐसे आयोजन प्रदान करते हैं नवीन ऊर्जा : अशोक गर्ग

नववर्ष-2020 की पूर्व संध्या पर जेसीडी विद्यापीठ प्रांगण में सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘सुरमयी शाम’ का आयोजन किया गया, जिसमें बतौर मुख्यातिथि सिरसा के उपायुक्त श्री अशोक गर्ग ने शिरकत की। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता जेसीडी विद्यापीठ की प्रबंध निदेशक डॉ.शमीम शर्मा ने की। इस अवसर पर जेसीडी विद्यापीठ के विभिन्न कॉलेजों के प्राचार्यगण डॉ. जयप्रकाश, डॉ.राजेन्द्र कुमार, इंजी.आर.एस.बराड़, डॉ.दिनेश कुमार गुप्ता, डॉ.अनुपमा सेतिया के अलावा शहर के अनेक अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित रहे। कार्यक्रम का शुभारंभ मां सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित करके किया गया। इस कार्यक्रम में डॉ.आदित्य अग्रवाल, श्री राज वर्मा, डॉ.जी.के.अग्रवाल, मि.जितेन्द्र एवं मि.जतिन के अलावा अनेक अन्य द्वारा भी अपनी मधुर आवाज में गीतों की प्रस्तुति देकर खूब वाहवाही लूटी गई। वहीं इस अवसर पर डॉ.शमीम शर्मा ने अपने हरियाणवीं चुटकलों के माध्यम से सभी को हंसा-हंसाकर लोटपोट किया।

इस अवसर पर उपस्थितजनों को संबोधित करते हुए डॉ.शमीम शर्मा ने सर्वप्रथम सभी को नववर्ष-2020 की हार्दिक शुभकामनाएं व बधाई प्रेषित करते हुए मुख्यातिथि महोदय का परिचय दिया। उन्होंने कहा कि हमारा सौभाग्य है कि आज हमारे बीच एक कर्मठ, ईमानदार एवं जुझारू अधिकारी जिनकी गिनती वरिष्ठ 10 अधिकारियों में की जाती है इस कार्यक्रम में मौजूद है तथा हम तहेदिल से इनका स्वागत करते हैं। डॉ.शर्मा ने कहा कि जीवन की इस आपाधापी भरे समय में हमें नाचना-गाना चाहिए तथा आनंदित क्षणों का लुत्फ उठाकर अपने जीवन को बेहतर बनाने का प्रयास करना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस आयोजन का उद्देश्य भी यही है ताकि नववर्ष-2020 का स्वागत नाच-गाकर हर्षोल्लास के साथ किया जा सके। हम सदैव हमारे संस्थान में ऐसे आयोजन करवाकर संस्कृति एवं संस्कारों को जीवंत रखने का प्रयास करते हैं।

मुख्यातिथि श्री अशोक गर्ग ने अपने संबोधन में जेसीडी विद्यापीठ की प्रबंधन समिति द्वारा इस कार्यक्रम में उन्हें आमंत्रित करके अपने युवापन को जीवंत करने के लिए आभार प्रकट करते हुए कहा कि एक इंसान सदैव ऊर्जावान रहकर ही किसी त्यौहार या आयोजन का आनंद उठा सकता है। उन्होंने कहा कि हम लोग आयु से नहीं बल्कि अपनी विचारात्मक शक्ति के माध्यम से बुजुर्ग होते हैं इसीलिए मनोरंजनात्मक तथा ऐसे ऊर्जा प्रदान करने वाले आयोजन में सभी को हिस्सा लेकर जीवन को जीना चाहिए। श्री गर्ग ने कहा कि आज का जीवन इतना व्यस्त है कि हम लोग हंसना-मुस्कुराना एवं अपने तीज-त्यौहारों को मनाना भी भुलते जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि आनंद के क्षणों को जितना हो सके बटोरकर सहेजना चाहिए ताकि वे एक बेहतर यादें बनकर हमें सदैव सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करने का काम करें। उन्होंने इस मौके पर कलाकारों एवं विद्यार्थियों द्वारा प्रस्तुत किए गए गीतों की सराहना की।

इस मौके पर डॉ.जयप्रकाश ने अपने धन्यवादी अभिभाषण में मुख्यातिथि महोदय एवं सभी पधारे हुए अतिथियों का धन्यवाद करते हुए कहा कि जेसीडी विद्यापीठ में समय-समय पर ऐसे आयोजनों के माध्यम से विद्यार्थियों एवं स्टाफ सदस्यों को अपनी प्रतिभा प्रदर्शन का अवसर प्रदान किया जाता है।
कार्यक्रम के अंत में मुख्यातिथि महोदया को प्रबंध निदेशक एवं समस्त प्राचार्यों द्वारा स्मृति चिह्न प्रदान किया गया।