Follow us:-
Charging Stations will have to be Increased
  • By Davinder Sidhu
  • January 23, 2024
  • No Comments

Charging Stations will have to be Increased

इलेक्ट्रिक वाहनों की बढ़ती बिक्री को देखते हुए चार्जिग स्टेशन की संख्या बढ़ानी होगी – डाॅ. ढींडसा

सिरसा 22 जनवरी 2024: अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वैज्ञानिक एवं जननायक चौधरी देवीलाल विद्यापीठ सिरसा के महानिदेशक डाॅ. कुलदीप सिंह ढींडसा ने बताया कि इलेक्ट्रिक वाहनों (ईवी) की बिक्री तेजी से बढ़ने के कारण चार्जिग स्टेशन की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए स्टेशन पर्याप्त नहीं है। इसके अलावा, इनमें से कुछ स्टेशन ऐसे भी है जो काम नहीं कर रहे हैं।

राष्ट्रीय राजमार्ग-44 पर हरियाणा सरकार द्वारा संचालित पर्यटक परिसरों में स्थित सात में से केवल एक इलेक्ट्रिक वाहन (ईवी) चार्जिग स्टेशन काम कर रहा है, जिससे ऐसे वाहनों के मालिकों को निजी सुविधाओं की तलाश करनी पड़ रही है।

एक प्रतिष्ठित समाचार पत्र के सर्वे के अनुसार एनएच-44 पर अंबाला, कुरूक्षेत्र, करनाल, पानीपत और सोनीपत जिलों में 32 सरकारी और निजी सुविधाएं हैं, जिनमें से एक सार्वजनिक और 15 निजी सुविधाएं चालू हालत में हैं। करनाल में, ओएसिस पर्यटक रिसॉर्ट में वाहनों को चार्ज करने के लिए 10 बंदूकों वाले सभी पांच प्वाइंट खराब हैं, जबकि कर्ण झील पर सात बंदूकों वाले तीन प्वाइंट काम नहीं कर रहे हैं।

जनता की मांग है कि ईवी खरीदने के लिए प्रोत्साहित करने के लिए सरकार को चार्जिग स्टेशनों की संख्या बढ़ानी चाहिए। ज्ञातव्य है कि प्रत्येक वाहन को पूरी तरह चार्ज होने में लगभग एक घंटे का समय लगता है। खेद का विषय है कि अंबाला में, किंगफिशर टूरिस्ट रिजॉर्ट में तीन मशीनों में से केवल एक ही काम कर रही है, जबकि पिपली में पैराकीट टूरिस्ट रिजॉर्ट में तीनों खराब हैं। इसके अलावा, दोनों जिलों में छह कार्यात्मक निजी चार्जर हैं।

हरियाणा पर्यटन विभाग के अनुसार भारत हेवी इलेक्ट्रिकल लिमिटेड (बीएचईएल) ने सीएसआर योजनाओं के तहत इन स्टेशनों को स्थापित किया था। सरकार राजमार्ग पर सभी रिसाॅट्र्स में नए चार्जिग स्टेशन स्थापित करने के लिए एक अन्य कंपनी के साथ भी बातचीत कर रही हैं।

डा. ढींडसा ने कहा कि यह एक विडम्बना की स्थिति है कि जहां एक ओर तो सरकार इलैक्ट्रिक वाहनों को प्रोत्साहित कर रही हैं। वहीं दूसरी ओर लोग चार्जिग स्टेशनों की कमी से जूझ रहे हैंै।

डा. ढींडसा ने सरकार से अपील की है कि शीघ्रतातिशीघ्र एनएच-44 व दूसरी सड़कों पर पर्याप्त मात्रा में चार्जिग स्टेशन स्थापित किये जाऐं। उन्होंने कहा कि प्रदूषण पर काबू पाने के लिए हर एक पैट्रोल पम्प पर चार्जिग स्टेशन लगवाने का कानूनी प्रावधान किया जाना चाहिये।