Or 01666-238105
Mon - Sat: 9:00AM - 5:00PM 2nd Sat., 3rd Sat, Sunday: Closed

Ending of Teaching Practice in all schools – JCD (PG) College of Education, Sirsa

The teaching practice session of students of JCD PG College of Education completed in different schools on December 27th. B.Ed. General and B.Ed Special Education college students completed their teaching practice program in Govt Senior Secondary School Nejadela Kalan, Govt. Senior Secondary School, Panihari, Govt. High School Farvai Kalan and Shriram New Sutlej Public School etc. Dr. Jaiprakash, Principal of JCD Education College, was present in the closing ceremony in all these schools.

जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के विद्यार्थियों का शिक्षण अभ्यास सत्र का समापन
विभिन्न स्कूलों में आयोजित हुआ शिक्षण अभ्यास, स्कूली छात्र-छात्राओं ने प्रस्तुत किए सांस्कृतिक कार्यक्रम, मोहा सभी का मन, नवीनतम एवं आधुनिक जानकारियों से करवाया अवगत

जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित शिक्षण महाविद्यालय में प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी बी.एड. ‘सामान्य एवं स्पैशल’ के विद्यार्थियों का विभिन्न स्कूलों में चल रहे शिक्षण अभ्यास कार्यक्रम का विगत दिवस विधिवत् रूप से राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, नेजाडेला कलां, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय पनिहारी, राजकीय उच्च विद्यालय फरवाई कलां एवं श्रीराम न्यू सतलुज पब्लिक स्कूल में इत्यादि में समापन किया गया। जिसमें छात्र अध्यापकों ने स्कूली छात्र-छात्राओं को पढ़ाकर शिक्षण के गुर सीखे। इस मौके पर स्कूली छात्र-छात्राओं के साथ-साथ छात्र अध्यापक एवं अध्यापिकाओं ने भी अपनी प्रस्तुति दी। इन सभी स्कूलों में समापन कार्यक्रमों में बतौर मुख्यातिथि जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. जयप्रकाश उपस्थित हुए। इस मौके पर विभिन्न स्कूलों में श्रीमती शशि सचदेवा, श्री शमशेर सिंह गुप्ता, डॉ.अमनप्रीत सिंह, श्री सुनील खुराना इत्यादि ने अपने-अपने स्कूलों में बतौर विशिष्ट अतिथि शिरकत की।

इस मौके पर श्रीराम न्यू सतलुज स्कूल की निदेशिका शशि सचदेवा ने अपने संबोधन में कहा कि अध्यापक की समाज में अह्म भूमिका होती है। अध्यापक वर्ग राष्ट्र निर्माण में अपने कर्तव्य को समझते हुए अपने दायित्व को बखूबी निभाए तो समाज का भला हो सकता है। इस मौके पर गांव पनिहारी में समाज सुधारक शमशेर सिंह गुप्ता ने अपने संबोधन में सभी छात्र-अध्यापकों को उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि समय परिवर्तनशील है तथा प्रत्येक व्यक्ति को उसके अनुसार स्वयं को अपडेट करके कार्य करते हुए आगे बढऩा चाहिए। डॉ.अमनप्रीत सिंह ने कहा कि छात्र अध्यापकों ने विद्यालय के विद्यार्थियों को बहुत ही रूचि के साथ पढ़ाया तथा आधुनिक एवं नवीनतम जानकारियां प्रदान की, जिससे छात्र-छात्राओं को काफी कुछ नया सीखने को मिला है। श्री सुनील खुराना ने कहा कि जेसीडी में अध्यापक का प्रशिक्षण प्राप्त कर रहे विद्यार्थियों द्वारा स्कूली छात्र-छात्राओं को रोचक एवं नवीन जानकारियां प्रदान की गई है, उससे विद्यार्थीयों की शिक्षा में सुधार होगा।

बतौर मुख्यातिथि अपने संबोधन में जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.जय प्रकाश ने सर्वप्रथम सभी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं प्रदान की। उन्होंने छात्र अध्यापक एवं अध्यापिकाओं को कहा कि वे स्कूलों में प्राप्त हुए अपने अध्यापन सम्बन्धी नवीनतम तथा आधुनिक विधियों को अध्यापक लगने पर विभिन्न स्कूलों में अवश्य प्रयोग करें ताकि उनके शिक्षण कार्य में और अधिक गुणवत्ता आ सके। डॉ. जयप्रकाश ने कहा कि अध्यापक होने के नाते उनका कर्तव्य बनता है कि वे बच्चों के सर्वांगीण विकास पर पूरा ध्यान दें। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार आप सभी को जेसीडी विद्यापीठ में अनुशासित, उच्च गुणवत्तायुक्त शिक्षा एवं नैतिक एवं सामाजिक गुण प्रदान किए गए हैं, आप उन्हें इसी प्रकार अपने विद्यार्थियों में भी निहित करेंगे और उन्हें बेहतर नागरिक बनाने में अपना सम्पूर्ण योगदान देंगे। उन्होंने सभी स्कूलों के मुख्याध्यापकों एवं प्रशासन का आभार प्रकट किया क्योंकि उनके सहयोग से ही इस शिक्षण अभ्यास को करवाया जा सका है।

इस अवसरों में विभिन्न स्कूलों में आयोजित हुए शिक्षण अभ्यास के दौरान रवनीत कौर व हरवंश कौर को बेस्ट अध्यापक चुना गया। इसके अलावा सोना, रीना, मीरा, प्रवीण कुमार, मुकेश कुमार, रणजीत सिंह, ज्योति यादव व साधु राम को विभिन्न विषयों में बेहतर शिक्षक चुना गया तथा मनप्रीत कौर को टिचिंग एड में बेहतर चुना गया तथा बेहतर टाईटल के लिए ज्योति भाटिया को चुना गया एवं बेस्ट अनुशासन प्रदर्शन के लिए मीनू रानी व मनोज कुमार को चुना गया।

इस अवसर पर जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के प्रवक्ता डॉ.सुषमा, कंवलजीत कौर, मि.बलविन्द्र कुमार, पुष्पा, मदन लाल, मि.राजेन्द्र कुमार, ममता, निशा सहित अनेक गांव के गणमान्य लोग भी उपस्थित रहे। यह सम्पूर्ण शिक्षण अभ्यास कार्य डॉ. सत्यनारायण के नेतृत्व में करवाया गया।

No Comments
Post a Comment
Name
E-mail
Website