Follow us:-
First Aid and Home Nursing Training Third Day – 24/11/2017
  • By
  • November 24, 2017
  • No Comments

First Aid and Home Nursing Training Third Day – 24/11/2017

जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय में प्राथमिक चिकित्सा एवं होम नर्सिंग के प्रशिक्षण कैंप के दौरान सिखाई दुर्घटना में चोटिल होने वाले लोगों को पट्टी बांधने की कला

सिरसा 24 नवम्बर,2017 : जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित शिक्षण महाविद्यालय में जिला रेडक्रॉस सोसायटी व कॉलेज की यूथ रेडक्रॉस यूनिट के संयुक्त तत्वावधान में आयोजित की जा रही सात दिवसीय प्राथमिक सहायता एवं होम नर्सिंग ट्रेनिंग कैंप के तीसरे दिन प्रशिक्षका विनोद कुमारी ने विद्यार्थियों को जानकारी प्रदान करते हुए अगर दुर्घटना के दौरान किसी को भी चोट लगने के कारण हड्डी टूट जाती है या बच्चों को खेलते समय किसी भी प्रकार की चोट लगने पर उनका किस प्रकार प्राथमिक सहायता के द्वारा उपचार किया जाता है। उन्होंने इस मौके पर आग लगने पर सावधानियां,हड्डी के टूटने पर, हार्ट अटैक आने पर तथा बंद हो रही सांसों को पुन: चालू करने बारे जानकारी दी। उन्होंने उपस्थित विद्यार्थियों को भांति-भांति की पट्टियों के नाम एवं उन्हें बांधने की विधियां बताते हुए कहा कि अगर कोई चोटिल व्यक्ति को हम ऐसा करके डॉक्टर के पास रैफर करते हैं तो उसे होने वाले अधिक नुकसान से बचाया जा सकता है तथा हमारी थोड़ी सी समझदारी एवं कुशलतापूर्वक व उचित समय में प्रदान की गई प्राथमिक सहायता उसके अमूल्य जीवन को बचाने में काफी सहायक सिद्ध हो सकती है। वहीं उन्होंने बताया कि एक प्राथमिक सहायक को कभी घबराना नहीं चाहिए तथा तुरंत निर्णय लेते हुए दुर्घटनाग्रस्त लोगों की सहायता करनी चाहिए तथा खून के बहाव को तुरंत प्रभाव से रोकने हेतु कारगर उपाय करते हुए दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति को जान के जोखिम से बाहर निकालना चाहिए।

इस मौके पर विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कॉलेज के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश ने इस ट्रेनिंग के लिए जिला प्रशिक्षण अधिकारी श्री गुरमीत सैनी व प्राथमिक सहायता प्राचार्य एवं सहायक श्रीमती विनोद कुमारी तथा कॉलेज की यूथ रेडक्रॉस यूनिट के इंचार्ज का आभार व्यक्त करते हुए कहा कि एक प्राथमिक सहायक को स्वयं की जान को जोखिम में न डालते हुए तथा पूरी सूझ-बूझ के साथ हौंसला रखते हुए तथा शीघ्रता के साथ लोगों को साथ लेकर दुर्घटनाग्रस्त लोगों की सहायता करनी चाहिए ताकि किसी का अमूल्य जीवन बचाया जा सके। उन्होंने कहा कि आप शिक्षक हैं तथा आगे चलकर किसी स्कूल या महाविद्यालय में जाने पर आपको अगर यह ज्ञान होगा तो अपने विद्यार्थियों को इसकी जानकारी प्रदान करके समाजहित एवं राष्ट्रहित में अपना अमूल्य योगदान प्रदान कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान समय में हालांकि हमारे पास सभी संसाधन उपलब्ध हैं परंतु हादसा कहीं भी किसी भी समय तथा किसी के भी साथ हो सकता है इसलिए ऐसी जानकारी हमारे लिए काफी लाभदायक साबित हो सकती है। उन्होंने ऐसे आयोजनों के लिए जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला एवं शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक का भी आभार प्रकट किया।

इस अवसर पर जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के सभी स्टाफ सदस्य,विद्यार्थीगण एवं अन्य अनेक गणमान्य लोग भी उपस्थित रहे।