International level football juggling competition – JCD Memorial College, Sirsa

जेसीडी मेमोरियल कॉलेज द्वारा अंतर्राष्ट्रीय स्तरीय फुटबॉल जगलिंग प्रतियोगिता आयोजित
45 से अधिक कॉलेजों के 80 प्रतिभागियों ने ऑनलाईन प्रस्तुत की अपनी प्रतिभाएं

To enhance the talent of students in the lockdown. JCD Memorial College, Sirsa organized an online international level football juggling competition. The theme of this competition was ‘Football juggling to reduce corona stress’. In this competition, more than 80 participants from over 45 colleges of Haryana, Punjab, Rajasthan, Delhi, Manipur, Chandigarh participated. Participants from outside India like the USA, Australia,  Canada are also participated in this competition by sending entries through their videos and demonstrated their juggling talent.

सिरसा 19 मई, 2020: जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित मैमोरियल कॉलेज द्वारा लॉकडाउन की स्थिति में विद्यार्थियों की प्रतिभा को निखारने के लिए ऑनलाइन अंतर्राष्ट्रीय स्तरीय फुटबॉल जगलिंग प्रतियोगिता आयोजित करवाई गई। इस प्रतियोगिता का विषय ‘फुटबॉल जगलिंग द्वारा कोरोना के तनाव को कम करना रखा गया था, जिसमें हरियाणा, पंजाब, राजस्थान, दिल्ली, मणिपुर, चण्डीगढ़ के अलावा भारत से बाहर अमरीका, आस्ट्रेलिया व कनाड़ा सहित 45 से अधिक कॉलेजों के 80 से भी अधिक प्रतिभागियों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लेकर इस प्रतियोगिता में अपनी विडियो के माध्यम से प्रविष्टियां भेजकर हिस्सा लिया व अपनी जगलिंग की प्रतिभा प्रदर्शित किया।


उक्त प्रतियोगिता के आयोजन के सम्बन्ध में अपने संबोधन में जेसीडी विद्यापीठ की प्रबंध निदेशक डॉ. शमीम शर्मा ने सभी प्रतिभागियों को बधाई प्रेषित करते हुए कहा कि लोकडाउन के दौरान विद्यार्थी वर्ग में जो सबसे अधिक चिंता का विषय था वह था खेलों पर पूर्णविराम, इसलिए हमने सोचा कि ऐसी कोई प्रतियोगिता की जाए जिससे बच्चे खेल से जुड़े रहें और फुटबॉल जग्लिंग एक ऐसी ही स्किल है जो बच्चों को अपना हुनर दिखाने का मौका देती है जिसमें बिना ग्राउंड में जाए व बिना टीम के भी वे अपनी व्यक्तिगत प्रतिभा का परिचय दे सकते हैं। डॉ. शर्मा ने कहा कि मुझे अपार खुशी है कि न केवल हिंदुस्तान बल्कि विदेशों से भी फुटबॉल जग्लिंग प्रतियोगिता में बहुत एंट्रीज आई हैं और बच्चों ने दिल से शिरकत की है जो यह दर्शाता है कि फुटबॉल खेल के प्रति बच्चों में अथाह प्रेम है। इस अवसर पर डॉ. शमीम शर्मा ने कोविड-19 के प्रति लड़ाई में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले डॉक्टर्स, पुलिस जवानों, सफ ाई कर्मचारी एवं अन्य का धन्यवाद करते हुए उनका आभार प्रकट किया।
कॉलेज के प्राचार्य डॉ. जयप्रकाश ने बताया कि इस तरह की कौशल युक्त प्रतियोगिताएं विद्यार्थियों में संतुलन और समन्यव्य सिखाती हैं तथा आत्मविश्वास और आत्मसम्मान में वृद्धि करके चिंता को कम करने में मदद करते हैं। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों का फुटबॉल खेल के प्रति रुझान किसी भी दूसरे खेल की तरह स्वास्थ्य लाभ प्रदान करता है यह खेल विद्यार्थियों में अपनी गति चपलता, शक्ति, हाथ, पैर एवं सिर इत्यादि को स्वस्थ बनाता है।
इस बारे विस्तारपूर्वक जानकारी देते हुए विद्यापीठ के खेल अधिकारी मि. अमरिक सिंह गिल ने बताया कि इस प्रतियोगिता से युवाओं को सीखने में मजबूत बनाने के साथ उनमें कौशल विकास को बढ़ाने में भी सहायक है। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को शिक्षा के साथ-साथ घर बैठे-बैठे कौशल को बढ़ाने का भी बेहतर अवसर इससे मिलेगा। गौरतलब है कि मि. अमरिक सिंह स्वयं भी राष्ट्र स्तरीय फुटबाल प्रतियोगिताओं में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन कर चुके हैं इसीलिए उन्हें यह प्रतियोगिता करवाने का आइडिया आया तथा उन्होंने अन्य प्रतिभाओं को भी उभारने का निर्णय लिया।
इन प्रतियोगिताओं के निर्णायक मंडल की भूमिका अदा करते हुए हिसार से कोच मि. अश्वनी व मि. कुलदीप मक्कड़ ने इन प्रतियोगिताओं के आधार पर अपना निर्णय सुनाते हुए चण्डीगढ़ के एसजीजीएस कॉलेज के सन्नी को प्रथम, टैगोर कॉलेज भिवानी के धीरज चावला को एवं नेकीराम कॉलेज रोहतक के अंशुल को क्रमश: द्वितीय तथा ऑस्ट्रेलिया के मेरिडियन इंटरनैशनल कॉलेज मेलवर्न से गोल्डी एवं जेसीडी मैमोरियल कॉलेज के हरजीत को क्रमश: तृतीय चुना गया। सभी विजेता प्रतिभागियों को ई-सर्टिफिकेट जारी किए गए। इन प्रतियोगिताओं का आयोजन महाविद्यालय के प्रवक्ता मि. शैलेन्द्र कुमार एवं मि. सोमवीर के नेतृत्व में करवाया गया।