Follow us:-
More than 100 trees were planted
  • By JCDV
  • July 16, 2023
  • No Comments

More than 100 trees were planted

जेसीडी विद्यापीठ में त्रिवेणी लगाकर किया पौधारोपण का आगाज।
त्रिवेणी का हर व्यक्ति के जीवन में विशेष महत्व : प्रोफेसर ढींडसा

सिरसा 17 जुलाई , 2023 : जेसीडी विद्यापीठ के प्रांगण में त्रिवेणी लगाकर आज पौधारोपण कार्यक्रम आयोजित किया गया, जिसका शुभारंभ जेसीडी विद्यापीठ के महानिदेशक एवं अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वैज्ञानिक प्रोफेसर डॉ कुलदीप सिंह ढींडसा द्वारा बतौर मुख्यातिथि स्वयं के हाथों त्रिवेणी (नीम, पीपल व बड़ ) लगाकर किया गया। इस अवसर पर प्रोफेसर ढींडसा ने अपने संबोधन में कहा कि हमारा लक्ष्य जेसीडी विद्यापीठ की हरियाली को ओर अधिक बढ़ाने हेतु अधिक से अधिक पौधे लगाकर वातावरण को स्वच्छ बनाने का है, जिस पर हम सदैव खरा उतरते हैं। उन्होंने कहा कि पेड़-पौधों का हमारे जीवन में बहुत महत्व है तथा यह हमें प्रकृति को हरा-भरा बनाने व स्वच्छ रखने हेतु सहायक सिद्ध होते हैं इसलिए हमें अपने जीवनकाल में एक पौधा अवश्य लगाना चाहिए तथा उसे उचित देखभाल करते हुए पेड़ बनाना चाहिए ताकि उसका उपयोग हमारी आने वाली पीढिय़ां कर सकें। उन्होंने कहा कि त्रिवेणी के गुणों एवं सद्प्रभाव का वर्णन शास्त्रों में भी है और गीता के ग्याहरवें अध्याय में भी इसका वर्णन मिलता है। उन्होंने कहा कि हर वो इंसान जो श्रद्धाभाव एवं अध्यात्मिक भाव से त्रिवेणी को लगाता है तथा इसका पालन-पोषण करता है, उसका कोई भी सात्विक कर्म विफल नहीं होता।

डॉ. ढींडसा ने कहा कि नीम में अनेकों औषधीय गुण है जबकि पीपल में हिन्दू शास्त्रों के अनुसार मां लक्ष्मी एवं भगवान विष्णु का वास होता है। वहीं बड़ घनी छाया देता है तथा पक्षियों के लिए एक सुरक्षित स्थली है। उन्होंने आगे कहा कि आज जब पूरा विश्व जलवायु परिर्वतन के दुष्प्रभावों के कारण तापमान में अस्वीकृत वृद्धि, वर्षा चक्कर में गढ़बड़ी का होना, बाढ आना इत्यादि सभी जलवायु परिवर्तन का ही परिणाम है। इसका दुष्प्रभाव फसलों व जीव-जंतुओं पर बखूबी देखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि जलवायु परिवर्तन को रोकने का सबसे आसान उपाय है कि अधिक से अधिक पेड़ लगाए जाएं और इस दिशा में त्रिवेणी का एक महत्त्वपूर्ण योगदान है।

डॉ कुलदीप सिंह ढींडसा ने अपील कि प्रत्येक सक्षम व्यक्ति को अपने जीवन में एक त्रिवेणी अवश्य लगानी चाहिए और इसका पालन-पोषण करना चाहिए। इसके उसे अपने जीवन में बहुत ही सुखद परिणाम मिलेंगे। उन्होंने कहा कि मान्यता है कि सावन मास में और विशेषकर महाशिवरात्रि के दिन त्रिवेणी लगाने से मनुष्य और समाज का सामाजिक एवं आध्यात्मिक विकास होता है।

इस पावन त्रिवेणी रोपण अवसर पर जेसीडी विद्यापीठ के सीनियर इंजीनियर श्री एच.एल. बब्बर, जेसीडी के रजिस्ट्रार डॉ. सुधांशु गुप्ता के अलावा कॉलेजों के प्राचार्य गण , डॉ. अरिन्दम सरकार, डॉ. हरलीन कौर, डॉ. शिखा गोयल एवं डॉक्टर सुषमा रानी सहित अनेक अन्य अधिकारीगण व गणमान्य लोग भी उपस्थित रहे। इस मौके पर जेसीडी विद्यापीठ कैम्पस में पौधारोपण अभियान चलाकर 100 से अधिक पौधे लगाए गए।