Follow us:-
Tribute to Mahatma Gandhi
  • By Davinder Sidhu
  • January 31, 2024
  • No Comments

Tribute to Mahatma Gandhi

महात्मा गांधी जी ने हमें दिखाया शांति, अहिंसा और सद्भाव का रास्ता : ढींडसा
महात्मा गांधीजी थे एक आदर्शवादी, नैतिकतावादी और स्वाबलंबी शख्सियत: ढींडसा

सिरसा 30 जनवरी 2024: विश्व में सत्य और अहिंसा का मार्ग प्रशस्त करने वाले राष्ट्रपिता महात्मा गांधी जी की 76वीं पुण्यतिथि पर उन्हें आज जेसीडी विद्यापीठ के महानिदेशक एवं अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वैज्ञानिक प्रोफेसर डॉ. कुलदीप सिंह ढींडसा, कुलसचिव डॉ सुधांशु गुप्ता और जनसंपर्क निदेशक प्राचार्य डॉ. जय प्रकाश के इलावा जेसीडी के सभी कर्मचारियों ने भावपूर्ण श्रद्धांजलि दी। इस अवसर पर मुख्य अतिथि डॉ ढींडसा ने संबोधित करते हुए कहा कि आज उन सभी शहीदों को भी याद किया जाता है जिन्होंने देश की आजादी के लिए हंसते-हंसते अपने प्राण न्यौछावर कर दिए। गांधी जी को स्वतंत्रता संग्राम में उनके योगदान के लिए याद करते हुए श्रद्धा सुमन अर्पित करते हैं और देश के सशस्त्र बलों के शहीदों को सलामी दी जाती है और बापू की याद व शहीदों के लिए दो मिनट का मौन रखा जाता है। शहीद दिवस महात्मा गांधी के बलिदान के बारे में लोगों में जागरूकता पैदा करने का अवसर देता है।

ढींडसा ने कहा कि आज बापू की वजह से ही हम सब आजाद हवा में सांस ले रहे हैं। गांधी जी के साधारण व्यक्तित्व और साधनापूर्ण जीवन ने सिर्फ भारत को ही नहीं बल्कि विश्व को शांति, अहिंसा और सद्भाव का रास्ता दिखाया। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने भारतीयों को यह दृष्टिकोण और विश्वास दिया कि वे अंग्रेजों के बराबर हैं और दिखाया कि वे शांतिपूर्ण तरीकों से दुनिया की सबसे बड़ी शक्ति को हरा सकते हैं। आज गांधी जी हमारे बीच नहीं है लेकिन आज भी हम उनके आदर्शों को नहीं भूले हैं। बहुत सी ऐसी किताब है बहुत से ऐसे लेख हैं जो गांधी जी की महान शख्सियत को बयां करती हैं। गांधीजी एक आदर्शवादी नैतिकता वादी स्वाबलंबी व्यक्ति थे। देश उन्हें कभी भी नहीं भूल पाएगा। एक सामान्य से दिखने वाले हाथ पर लाठी और सफेद धोती पहनने वाले कमजोर से व्यक्ति ने अंग्रेज़ों के शासन की जड़े हिला दी और आखिरकार उन्हें भारत छोड़ने पर मजबूर किया। भारत की आजादी में एक महत्वपूर्ण स्थान महात्मा गांधी का भी है हमें गर्व होना चाहिए की महात्मा गांधी जैसे महान पुरुष का जन्म हमारे देश में हुआ। हम आज महात्मा गांधी की पुण्यतिथि पर उन्हें नमन करते हैं ।