Follow us:-
Valedictory Function of First Aid & Home Nursing Training – 29/11/2017
  • By
  • November 29, 2017
  • No Comments

Valedictory Function of First Aid & Home Nursing Training – 29/11/2017


जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय में प्राथमिक सहायता एवं होम नर्सिंग की ट्रेनिंग का विधिवत् समापन

सिरसा 29 नवम्बर,2017 : जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित शिक्षण महाविद्यालय में चल रहा साप्ताहिक प्राथमिक सहायता एवं होम नर्सिंग ट्रेनिंग कैम्प का विगत दिवस विधिवत् सम्पन्न हो गया। इस समापन अवसर पर रेडक्रॉस सोसायटी के जिला प्रशिक्षण अधिकारी गुरमीत सिंह सैनी ने इस कैम्प के दौरान विद्यार्थियों को आपातकाल के दौरान दी जाने वाली प्राथमिक सहायता के विभिन्न तरीकों से अवगत करवाया,वहीं इस मौके पर इस कार्यक्रम में बतौर मुख्यातिथि जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी. आकाश चावला एवं शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक ने शिरकत की। जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश ने इस अवसर पर सभी अतिथियों एवं अन्य का स्वागत करते हुए कार्यक्रम की अध्यक्षता की।

इस समापन अवसर पर गुरमीत सिंह सैनी ने विद्यार्थियों को अनेक आपातकालीन परिस्थिति में प्रदान करने वाली प्राथमिक सहायता के बारे में बताते हुए कहा कि किसी भी दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति को सांत्वना एवं सहारे की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा कि दुर्घटना में अंग विच्छेद होने की स्थिति में कटे हुए अंग को पानी से धोए बगैर अगर किसी प्लास्टिक के थेले में बर्फ में रखकर सर्जरी के लिए तुरंत भेज दिया जाए तथा इस प्रकार की प्राथमिक चिकित्सा समय पर करके मरीज को चार-पांच घंटों तक उस कटे अंग को पुन: सर्जरी द्वारा जोडऩे में कामयाबी मिल सकती है। उन्होंने दैनिक जीवन में घरों एवं बाहर घटित होने वाली छोटी-छोटी घटनाओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्रदान की तथा उनसे रोगी को बचाने के टिप्स दिए।

सहायक श्रीमती विनोद कुमारी ने इस अवसर पर जानकारी देते हुए बताया कि किसी भी दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति से निकलने वाले रक्त को तुरंत प्रभाव से रोकने के लिए कारगर उपाय करने चाहिए ताकि उसकी जान बचाई जा सके। उन्होंने कहा कि एक प्राथमिक सहायक को स्वयं को हौंसला रखते हुए सहायता प्रदान करनी चाहिए तथा जान के जोखिम से दुर्घटनाग्रस्त को बाहर निकालना चाहिए।

बतौर मुख्यातिथि अपने संबोधन में जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला एवं शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक ने कहा कि एक शिक्षक के जीवन में ऐसी ट्रेनिंग कैम्प काफी लाभदायक तथा आगे विद्यार्थियों को ज्ञान प्रदान करने के लिए सहायक सिद्ध होते हैं। उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य हमारे विद्यार्थियों को बेहतर शिक्षा के साथ-साथ जीवन उपयोगी अनेक बेहतर ज्ञान प्रदान करना भी है,जिसमें इस प्रकार के ट्रेनिंग कैम्प आगे चलकर उनके लिए सहयोगी साबित होते हैं। उन्होंने विद्यार्थियों को आश्वासन दिया कि निकट भविष्य में भी ऐसे आयोजन होते रहेंगे जिसमें विद्यार्थी बढ़-चढ़कर हिस्सा लेकर ज्ञान हासिल करें।

इस मौके पर डॉ.जयप्रकाश ने इस ट्रेनिंग के लिए जिला प्रशिक्षण अधिकारी गुरमीत सैनी तथा प्राथमिक सहायता प्रवक्ता विनोद कुमारी का आभार व्यक्त किया। डॉ. जयप्रकाश ने सभी विद्यार्थियों को बताया कि इस कोर्स की आवश्यकता एवं महत्व को ध्यान में रखते हुए कॉलेज में विद्यार्थियों को अनिवार्य पाठ्यक्रम के साथ-साथ जनसंख्या शिक्षा,पर्यावरण शिक्षा,एड्स सम्बन्धी जानकारी,फायर फाईटिंग तथा प्राथमिक सहायता सम्बन्धी जानकारी भी पाठ्यक्रम के आवश्यक अंग के रूप में प्रदान की जानी चाहिए।