Follow us:-
World Cleanliness Day
  • By Davinder Sidhu
  • September 18, 2023
  • No Comments

World Cleanliness Day

विश्व स्वच्छता दिवस के उपलक्ष्य में स्वच्छता अभियान का जेसीडी विद्यापीठ में आयोजन ।
स्वच्छता को अपना मौलिक एवं नैतिक कर्तव्य समझकर इसका पालन करें – प्रोफेसर ढींडसा

सिरसा 16 सितंबर, 2023 : जेसीडी विद्यापीठ में स्वच्छता दिवस के उपलक्ष्य में शनिवार विभिन्न कॉलेजों के एनएसएस स्वयंसेवकों द्वारा सफाई अभियान कार्यक्रम का आयोजन किया गया, जिसमें जेसीडी विद्यापीठ के महानिदेशक एवं अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वैज्ञानिक प्रोफेसर डॉ कुलदीप सिंह ढींडसा तथा जनसंपर्क निदेशक डॉक्टर जय प्रकाश, चीफ वार्डन सुंदर लाल सैनी के इलावा जेसीडी मेमोरियल इंजीनियरिंग कॉलेज के स्टाफ सदस्य गण एवं एनएसएस स्वयंसेवकों द्वारा बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया गया। इस मौके पर सर्वप्रथम जेसीडी विद्यापीठ के महानिदेशक डॉ. कुलदीप सिंह ढींडसा द्वारा खुद झाड़ू लगाकर इस कार्यक्रम का आगाज किया गया।

इस अवसर पर अपने संबोधन में डॉक्टर ढींडसा ने एनएसएस स्वयंसेवकों तथा कर्मचारी गण द्वारा निष्ठा एवं ईमानदारीपूर्वकए प्रांगण में चलाए गए स्वच्छता अभियान की प्रशंसा करते हुए उन्हें बधाई प्रेषित की। उन्होंने कहा कि हमें स्वच्छता को अपना मौलिक एवं नैतिक कर्तव्य समझकर करना चाहिए न कि इसे थोपा हुआ मानकर करना चाहिए तभी यह बेहतर तरीके से सम्पन्न हो सकता है।

डॉक्टर ढींडसा ने कहा कि विश्व सफाई दिवस प्रतिवर्ष सितंबर के तीसरे शनिवार को 24 घंटे की अवधि के लिए आयोजित किया जाता है। विश्व सफाई दिवस का उद्देश्य समाज के सभी क्षेत्रों को सफाई कार्यों में भाग लेने के लिए प्रेरित करके कुप्रबंधित अपशिष्ट संकट के बारे में जागरूकता बढ़ाना है। डॉक्टर ढींडसा ने कहा कि घरों के आस-पास, सड़कों, नालियों, पोखरों या जल स्रोतों आदि में स्वच्छता रखने से सारा वातावरण स्वच्छ रहता है। इससे रोगाणु नहीं पनपते हैं, अनेक संक्रामक रोग नहीं फैलते हैं, जल और वायु में शद्धता रहती है। इससे सभी के स्वास्थ्य का स्तर उत्तम बन जाता है। स्वच्छता एक क्रिया है जिससे हमारा शरीर, दिमाग, कपड़े, घर, आसपास और कार्यक्षेत्र साफ और शुद्ध रहते है। हमारे मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिये साफ-सफाई बेहद जरुरी है। अपने आसपास के क्षेत्रों और पर्यावरण की सफाई सामाजिक और बौद्धिक स्वास्थ्य के लिये बहुत जरुरी है।

डॉक्टर जय प्रकाश ने कहा कि स्वच्छ वातावरण में ही स्वस्थ शरीर एवं स्वस्थ मस्तिष्क का विकास होता है। स्वच्छता रखने से न तो बीमारियाँ बढ़ती हैं, न पेयजल और खाद्य पदार्थ दुषित होते हैं और न पर्यावरण पर बुरा प्रभाव पड़ता है। इससे मानव जीवन सुखमय बनता है। अत: मानव के लिए स्वच्छता सब तरह से आवश्यक है। अपने घर को साफ़ सुथरा रखना कोई छोटी उपलब्धि नहीं है, लेकिन यह आपके मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य को बनाए रखने की कुंजी हो सकती है। अव्यवस्था दूर करना और सफाई करना एक सकारात्मक मानसिक दृष्टिकोण को बढ़ावा देता है और एक ऊर्जावान प्रभाव डाल सकता है जिससे आप अपने जीवन में अन्य चुनौतियों पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं।

इस अवसर पर जेसीडी विद्यापीठ के इंजीनियरिंग कॉलेज के स्टाफ सदस्य गण और जेसीडी विद्यापीठ अधिकारी गण एवं एनएसएस स्वयंसेवकों के अलावा विभिन्न कॉलेजों के छात्र-छात्राओं एवं प्राध्यापकगण उपस्थित रहे।