Follow us:-
“Cervical Cancer: Prevention and Cure”- An invited talk organized in JCDM College of Engineering
  • By
  • December 17, 2016
  • No Comments

“Cervical Cancer: Prevention and Cure”- An invited talk organized in JCDM College of Engineering

जागरूकता के अभाव में ही तेजी से फैल रहा है सरवाईकल कैंसर जैसा भयानक रोग : डॉ. शालू गर्ग
Cervical Cancer: Prevention and Cureसिरसा 17 दिसम्बर, 2016 : समाज में सरवाईकल कैंसर के प्रति जागरूकता लाने के लिए सभी को मिलकर अभियान चलाना होगा तभी यह संभव हो पाएगा, जब लोग जागरूक होंगे तभी इस भयानक रोग को मिटाया जा सकता है। उक्त उद्गार जेसीडी इंजी. कॉलेज की महिला प्रकोष्ठ द्वारा ‘सरवाईकल कैंसर विषय पर आयोजित विशेषज्ञ व्याख्यान में बतौर मुख्य वक्ता उपस्थित होकर जेसीडी अस्पताल एवं ट्रामा सेंटर की महिला चिकित्सक डॉ. शालू गर्ग द्वारा व्यक्त किए गए। इस मौके पर जेसीडी फार्मेसी कॉलेज की प्रोफेसर डॉ. दीप्ति पंडिता ने बतौर समन्वयक इस कार्यक्रम में अपनी उपस्थिति दर्ज की। इस व्याख्यान में विशेषज्ञ चिकित्सक डॉ. शालू गर्ग का कार्यक्रम की आयोजक इंजी. पूजा नागपाल एवं अन्य सदस्यों द्वारा स्वागत किया गया।

अपने वक्तव्य में चर्चा करते हुए डॉ. शालू गर्ग ने कहा कि सरवाईकल कैंसर का मुख्य कारण अशिक्षा और इसके बारे में लोगों का जागरूक न होना है और यही वजह है कि यह रोग शहरों की अपेक्षा ग्राम्यआंचल में अपने अधिक पैर पसारता जा रहा है। उन्होंने कहा कि आज सरवाईकल कैंसर महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर के बाद दूसरा सबसे ज्यादा फैलने वाला कैंसर है, जो हमारे देश में बड़ी तीव्रता से फैल रहा है तथा पूरे विश्व में इस रोग से ग्रस्त महिलाओं में से 25 प्रतिशत महिलाएं भारतीय है जिससे कि हर साल हमारे देश में लगभग 68 हजार महिलाएं मौत का शिकार हो रही हैं इसलिए इसे गंभीरता से लेना अतिआवश्यक है। डॉ. शालू गर्ग ने कहा कि समय रहते अगर नियमित टीकाकरण व जांच करवाई जाए तो इस रोग से बचाव संभव है। उन्होंने कहा कि 9 से 25 वर्ष के मध्यअंतराल में इस रोग के लिए टीकाकरण करवाना जरूरी होता है, वहीं 30 वर्ष की उम्र तक हर वर्ष जांच करवाना भी अतिआवश्यक है। वहीं उन्होंने जानकारी देते हुए बताया कि शहरी क्षेत्र की महिलाएं इस रोग के लिए नियमित जांच जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित सुपरस्पैशलिटी अस्पताल एवं ट्रामा सेंटर में पहुंचकर करवा सकती हैं।

इस अवसर पर जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी. आकाश चावला एवं शैक्षणिक निदेशक डॉ. आर.आर. मलिक एवं रजिस्ट्रार श्री सुधांशु गुप्ता ने कहा कि हमारा उद्देश्य बेहतर शिक्षा के साथ-साथ हमारे संस्थान के माध्यम से शहरी एवं ग्रामीण लोगों को बेहतर स्वास्थ्य सेवाएं भी प्रदान करवाना है, जिसमें जेसीडी अस्पताल अपनी अह्म भूमिका अदा कर रहा है तथा निकट भविष्य में भी अनेक जागरूकता कैंप इत्यादि के आयोजन से भी इस कार्य को करता रहेगा। उन्होंने इस आयोजन के लिए इंजी. कॉलेज एवं महिला प्रकोष्ठ के समस्त सदस्यों तथा आयोजकों के बधाई पे्रषित की।
इस चर्चा के समापन अवसर पर डॉ. दीप्ति पंडिता एवं इंजी. पूजा नागपाल द्वारा मुख्या वक्ता डॉ. शालू गर्ग का अति महत्वपूर्ण विषय पर जानकारी प्रदान करने के लिए आभार प्रकट करते हुए उन्हें सम्मानित किया गया। इस विशेषज्ञ व्याख्यान में जेसीडी विद्यापीठ के सभी संस्थानों से 75 से अधिक महिला शिक्षकों एवं छात्राओं द्वारा हिस्सा लिया गया।