Or 01666-238105
Mon - Sat: 9:00AM - 5:00PM All Holidays and Saturday - Open

Closing Ceremony of Teaching Practice in Schools – JCD College of Education, Sirsa

जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के विद्यार्थियों का शिक्षण अभ्यास सत्र का समापन
विभिन्न स्कूलों में आयोजित हुआ शिक्षण अभ्यास, स्कूली छात्र-छात्राओं ने प्रस्तुत किए सांस्कृतिक कार्यक्रम, मोहा सभी का मन, नवीनतम एवं आधुनिक जानकारियों से करवाया अवगत

जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित शिक्षण महाविद्यालय में प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी बी.एड. ‘सामान्य एवं स्पैशल के विद्यार्थियों का विभिन्न स्कूलों में चल रहे शिक्षण अभ्यास कार्यक्रम का विधिवत् रूप से राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, नेजाडेला कलां, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय पनिहारी, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय फरवाई कलां, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय भरोंखा कलां एवं सागरमणी हाई स्कूल,सिरसा में समापन किया गया। जिसमें छात्रअध्यापकों ने स्कूली छात्र-छात्राओं को पढ़ाकर शिक्षण के गुर सीखे। इस मौके पर स्कूली छात्र-छात्राओं के साथ-साथ छात्र अध्यापक एवं अध्यापिकाओं ने भी अपनी प्रस्तुति दी। इन सभी स्कूलों में समापन कार्यक्रमों में बतौर मुख्यातिथि जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश व डॉ.राजेन्द्र कुमार उपस्थित हुए। इस मौके पर विभिन्न स्कूलों से प्राचार्य चंद्रप्रकाश, प्राचार्या कमलेश कुमारी, प्राचार्या श्रीमती वीणा पाहूजा, रोहतास इत्यादि ने अपने-अपने स्कूलों में बतौर विशिष्ट अतिथि शिरकत की।

बतौर मुख्यातिथि अपने संबोधन में प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश व डॉ.राजेन्द्र कुमार ने कहा कि हमारा उद्देश्य हमारे विद्यार्थियों को बेहतर ज्ञान के साथ-साथ उन्हें बेहतर सीखने हेतु सदैव प्रयास करते रहते हैं, जिसमें यह शिक्षण अभ्यास भी एक अह्म प्रक्रिया है। उन्होंने कहा कि इसके माध्यम से भावी शिक्षकों को शिक्षण के गुर सीखने को मिलते हैं जो आगे चलकर इन्हें काफी लाभ प्रदान करते हैं। डॉ.राजेन्द्र कुमार ने अपने संबोधन में सर्वप्रथम सभी नववर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं प्रदान की। उन्होंने छात्र अध्यापक एवं अध्यापिकाओं को कहा कि वे स्कूलों में प्राप्त हुए अपने अध्यापन सम्बन्धी नवीनतम तथा आधुनिक विधियों को अध्यापक लगने पर विभिन्न स्कूलों में अवश्य प्रयोग करें ताकि उनके शिक्षण कार्य में और अधिक गुणवत्ता आ सके। डॉ.जयप्रकाश व डॉ.राजेन्द्र कुमार ने कहा कि अध्यापक होने के नाते उनका कर्तव्य बनता है कि वे बच्चों के सर्वांगीण विकास पर पूरा ध्यान दें। उन्होंने कहा कि जिस प्रकार आप सभी को जेसीडी विद्यापीठ में अनुशासित, उच्च गुणवत्तायुक्त शिक्षा एवं नैतिक एवं सामाजिक गुण प्रदान किए गए हैं, आप उन्हें इसी प्रकार अपने विद्यार्थियों में भी निहित करेंगे और उन्हें बेहतर नागरिक बनाने में अपना सम्पूर्ण योगदान देंगे। उन्होंने सभी स्कूलों के मुख्याध्यापकों एवं प्रशासन का आभार प्रकट किया क्योंकि उनके सहयोग से ही इस शिक्षण अभ्यास को करवाया जा सका है।

इस मौके पर राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, नेजाडेला कलां की प्राचार्या कमलेश कुमारी ने अपने संबोधन में कहा कि अध्यापक की समाज में अह्म भूमिका होती है। अध्यापक वर्ग राष्ट्र निर्माण में अपने कर्तव्य को समझते हुए अपने दायित्व को बखूबी निभाए तो समाज का भला हो सकता है। अपने संबोधन में सभी छात्र-अध्यापकों को उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना करते हुए कहा कि समय परिवर्तनशील है तथा प्रत्येक व्यक्ति को उसके अनुसार स्वयं को अपडेट करके कार्य करते हुए आगे बढना चाहिए। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय, भरोंखा के प्राचार्य चंद्र प्रकाश ने ने कहा कि छात्र अध्यापकों ने विद्यालय के विद्यार्थियों को बहुत ही रुचि के साथ पढ़ाया तथा आधुनिक एवं नवीनतम जानकारियां प्रदान की, जिससे छात्र-छात्राओं को काफी कुछ नया सीखने को मिला है।

इस अवसर पर सागर मणि हाई स्कूल की प्राचार्या श्रीमती वीणा पाहूजा ने अपने संबोधन में सर्वप्रथम जेसीडी विद्यापीठ प्रबंधन का आभार प्रकट किया कि वे हर प्रकार से स्कूलों को सहयोग प्रदान करते रहते हैं, वहीं उन्होंने शिक्षण अभ्यास में आए हुए भावी शिक्षकों की भी सराहना की तथा उनके उज्ज्वल भविष्य की कामना की। उन्होंने कहा कि भावी शिक्षकों ने अपने शिक्षण अभ्यास के दौरान पूर्ण निष्ठा एवं ईमानदारी से कार्य किया है तथा विद्यार्थियों को उचित मार्गदर्शन प्रदान करते हुए उन्हें शिक्षा प्रदान करवाई है जो सराहनीय है। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय फरवाई कलां से सर्वश्रेष्ठ छात्र अध्यापिका प्रियंका, सामाजिक अध्ययन विषय में सर्वश्रेष्ठ नरेश कुमार व सीमरणजीत, हिंदी विषय में सर्वश्रेष्ठ प्रमिला, अंग्रेजी विषय में सर्वश्रेष्ठ मनिका, जीव विज्ञान विषय में सर्वश्रेष्ठ दीपशिखा, गणित विषय में सर्वश्रेष्ठ कुलवीर, शिक्षण सहायक सामग्री में वीरपाल बेहतर शिक्षक चुना गया। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय भरोंखा कलां से सर्वश्रेष्ठ छात्र अध्यापिका शिखा, सामाजिक अध्ययन विषय, हिंदी, अंग्रेजी, जीव विज्ञान, गणित, भतिक विज्ञान, अर्थशास्त्र् विषय में क्रमंश सर्वश्रेष्ठ सरज, शालू, अर्शदीप, शिवानी, नवल, जतीन, मंजु व शिक्षण सहायक सामग्री में सुनीता, कुलदीप, संजु बेहतर शिक्षक चुना गया। इस अवसर पर डॉ सुषमा हुड्डा, निशा, राजेंद्र, डॉ ममता, डॉ पुष्पा, डॉ.कंवलजीत, बलविंदर, डॉ पुष्पा, मदनलाल, ललित कुमार डॉ रोशन लाल पूनिया, देव, जितेंद्र, रिटा चुघ आदि उपस्थित थे।