Follow us:-
Competitions on the occasion of National Science Day, JCD Memorial College
  • By
  • February 27, 2018
  • No Comments

Competitions on the occasion of National Science Day, JCD Memorial College

जेसीडी मैमोरियल कॉलेज में साईंस दिवस के उपलक्ष्य में विभिन्न प्रतियोगिताएं आयोजित

जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित मैमोरियल कॉलेज की साईंस फोरम की ओर से राष्ट्रीय विज्ञान दिवस के उपलक्ष्य में इंटर कॉलेज पोस्टर मेकिंग, स्लोगन लेखन एवं भाषण प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया, जिसमें जेसीडी विद्यापीठ के विभिन्न कॉलेजों के विद्यार्थियों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। इस कार्यक्रम में नैशनल कॉलेज, सिरसा के प्रो.(डॉ.) रविन्द्र पुरी ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। वहीं इस कार्यक्रम की अध्यक्षता कॉलेज के प्राचार्य डॉ.प्रदीप शर्मा स्नेही द्वारा की गई। इस कार्यक्रम का संचालन नेहा मैहता द्वारा की गई। इस कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्यातिथि एवं अन्य अतिथियों द्वारा मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित करके किया गया।

सर्वप्रथम अपने संबोधन में डॉ.प्रदीप स्नेही ने मुख्यातिथि का इस अवसर पर पधारने पर धन्यवाद प्रकट करते हुए विद्यार्थियों को सम्बोधित करते हुए कि राष्ट्रीय विज्ञान दिवस को डॉ.सी.वी.रमन जी की याद में मनाया जाता है इसलिए इसे मात्र औपचारिकता भर नहीं समझना चाहिए बल्कि इस दिन को एक चैलेंज के तौर पर लेकर भारत के महान वैज्ञानिकों की तरह बनने का आपको प्रयास करना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस प्रकार की प्रतियोगिताओं के माध्यम से विद्यार्थियों को बहुत कुछ सिखने को मिलता है लेकिन इसके लिए विद्यार्थियेां में सीखने का जज्बा होना चाहिए, यदि आप में सीखने की ललक है और जानने का जनून है, तो दुनिया की ऐसी कोई ताकत नहीं जो आपको बुलंदिया छूने से रोक पाए क्योंकि मेहनत करने वाले की कभी हार नहीं होती। उन्होंने ऐसे आयोजनों के माध्यम से विद्यार्थियों को महानतम हस्तियों के बारे में ज्ञान उपलब्ध करवाने हेतु मार्गदर्शन करने के लिए जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला, शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक एवं अन्य अधिकारीगणों का आभार प्रकट किया।

इस अवसर पर अपने संबोधन में डॉ रविन्द्र पुरी ने कहा कि यदि आप अपने जीवन में सफल होना चाहते हैं तो जीवन की गाड़ी का कन्ट्रोल अपने हाथ में रखिऐ, यदि आपके जीवन का कन्ट्रोल किसी और के हाथ में आ जाता है तो आप किसी भी सूरत में अपने लक्ष्य को प्राप्त नहीं कर पाएंगे। उन्होंने विद्यार्थियों को 3सी यानि कलियर्टी, कन्ट्रोल व चैलेंज का मंत्र देते हुए कहा कि अपने जीवन को बेहतर बनाने के लिए लक्ष्य को निश्चित, नियंत्रित और चुनौती के तौर पर लेना चाहिए। उन्होंने विद्यार्थियों को बताया कि शोर और सुर में से जीवन में शोर के बजाए सुर को अपनाना चाहिए क्योंकि शोर हमारे जीवन में झनझनाट व तनाव पैदा करता है, जबकि सुर जीवन में शालिनता और शान्ति का संचार करके एक अलग ही लय में बहने को आतुर करता है। किसी के कहने पर अपने जीवन के लक्ष्य को नहीं बदलना चाहिए तथा दृढ़ निश्चत एवं ईमानदारीपूर्वक मेहनत करते हुए लक्ष्य को हासिल करना चाहिए। डॉ. पुरी ने कहा कि आप सभी सौभाग्यशाली हैं कि आपको अपने ही शहर में बेहतर शिक्षण की सुविधाएं उपलब्ध हैं इसलिए इसका अधिक से अधिक लाभ प्राप्त करके सफलता हासिल करें।

इस मौके पर डॉ.पूनम पूनिया, डॉ.विनोद गर्ग और प्रिया धुरिया ने निर्णायक मण्डल की भूमिका निभाते हुए पोस्टर मेंकिग में मेमौरियल कॉलेज के विशेष को प्रथम, बी.एड कालेज की दीक्षा को द्वितीय तथा प्रिया को तृतीय घोषित किया। वहीं स्लोगन लेखन में डेंटल कॉलेज की छात्रा भानू प्रिया और शिवानी को क्रमश: प्रथम एवं द्वितीय तथा मेमौरियल कालेज के यशमीन को तृतीय घोषित किया। उधर भाषण प्रतियोगिता में बी.टेक की छात्रा डिसाबल को प्रथम, डेंटल की सृष्टि को द्वितीय तथा मैमोरियल कॉलेज के नितेश को तृतीय चुना गया। सभी विजेता प्रतिभागियों को अंत में कॉलेज के प्राचार्य तथा मुख्यतिथि महोदय एवं अन्य द्वारा स्मृति चिन्ह व प्रमाण-पत्र प्रदान करके सम्मानित किया गया। इस अवसर पर जेसीडी डेन्टल कॉलेज के प्राचार्य डॉ. राजेश्वर चावला, डॉ. मधू, श्रीमती निशा, सविता बिश्नाई, पूनम बिश्नाई, समेस्ता, कमलदीप कौर के अलावा अन्य साईंस फोरम के व कॉलेज के प्राध्यापकगण व विद्यार्थीगण भी मौजूद रहे।