Or 01666-238105
Mon - Sat: 9:00AM - 5:00PM All Holidays and Saturday - Open

Cultural evening on the birth anniversary of Chaudhary Devi Lal Ji.

जेसीडी विद्यापीठ में चौ.देवीलाल की जयंती के उपलक्ष्य में सांस्कृतिक संध्या आयोजित
एक पढ़ी-लिखी बेटी कर सकती है दो परिवारों को शिक्षित : कान्ता सिंह चौटाला

पूर्व उप-प्रधानमंत्री जननायक चौ.देवीलाल जी के 106वें जन्मोत्सव की पूर्व संध्या पर जेसीडी विद्यापीठ में ‘सांस्कृतिक संध्या’ कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम के मुख्यातिथि समाज सेविका श्रीमती कान्ता सिंह चौटाला रही। वहीं अध्यक्षता नैशनल स्कूल ऑफ ड्रामा दिल्ली के निदेशक डॉ.सुरेश शर्मा द्वारा की गई। वहीं इस मौके पर विशिष्ट अतिथि के तौर पर राष्ट्रीय पत्रकार संगठन दिल्ली के राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री भारत प्रेम, एनएसडी दिल्ली के प्रोडेकशन निदेशक श्री पराग शर्मा, समाजसेवी श्री कर्ण चौटाला व जेसीडी विद्यापीठ के चेयरमैन श्री अर्जुन चौटाला भी उपस्थित रहे। इस मौके पर उनके साथ जेसीडी विद्यापीठ के प्रबन्ध निदेशक डॉ.शमीम शर्मा व जेसीडी विद्यापीठ के विभिन्न कॉलेजों के प्राचार्यगण के अलावा कार्यक्रम के समन्वयक डॉ. कुलदीप सिंह मौजूद रहे। इस सांस्कृतिक संध्या में विशेष आकर्षण भंगड़ा, रैम्प वॉक, पंजाबी गिद्दा, लिलिपुट डांस, हरियाणवीं डांस के साथ-साथ हरियाणवीं चुटकला सम्राट एवं रेडियो कलाकार आजाद सिंह दुहन तथा हरियाणवीं हास्य कवि मास्टर महेन्द्र रहे, वहीं इस मौके पर सबसे अधिक उपस्थितजन को चौ.देवीलाल जी के जीवन पर आधारित ‘युगपुरुष ताऊ देवीलाल’ लघुनाटिका की प्रस्तुति ने भावविभोर किया जिसका निर्देशन थियेटर कलाकार नरेन्द्र ग्रोवर ने किया तथा जेसीडी विद्यापीठ के विभिन्न कॉलेजों के विद्यार्थियों द्वारा भी अपनी-अपनी रंगारंग प्रस्तुतियां देकर खूब वाहवाही लूटी गई। बुधवार को भी प्रात:जेसीडी विद्यापीठ में चौ.देवीलाल की प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं पुष्पांजलि अर्पित करके उन्हें स्मरण किया गया।

जेसीडी विद्यापीठ की प्रबन्ध निदेशक डॉ.शमीम शर्मा ने मुख्यातिथि एवं अन्य अतिथियों का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि चौ.देवीलाल का योगदान ऐतिहासिक है। उन्होंने इतिहास के पन्नों पर स्याही से नहीं बल्कि अपने संघर्ष और कर्मठता से हस्ताक्षर किए। डॉ.शर्मा ने जननायक देवीलाल का शिद्दत से स्मरण किया और सराहना के सुर में कहा कि उनका परिवार सिरसा में शिक्षा और स्वास्थ्य की अलख जगा रहा है। उन्होंने कहा कि चौ.देवीलाल जी ने जो हमें रास्ता दिखाया था उस रास्ते पर हम चलें यही हमारी उन्हें सच्ची श्रद्धांजलि होगी।

मुख्यातिथि श्रीमती कान्ता सिंह चौटाला ने कहा कि चौ.देवीलाल का सपना था कि सिरसा जैसे शिक्षा में पिछड़े हुए क्षेत्र में विद्यार्थियों को तकनीकी एवं उच्च शिक्षा प्राप्त हो और इसके लिए उन्हें सिरसा से बाहर न जाना पड़े, जिसके लिए हम सदैव प्रयासरत हैं। उन्होंने कहा कि चौ.देवीलाल यूनिवर्सिटी एवं जेसीडी विद्यापीठ की स्थापना उनके स्वप्र का साकार रूप ही है, जिससे न केवल सिरसा बल्कि साथ लगते पंजाब एवं राजस्थान क्षेत्रों के विद्यार्थी भी लाभ उठा रहे हैं। उन्होंने विशेषकर लड़कियों को संबोधित करते हुए कहा कि आप भाग्यशाली हैं जो महाविद्यालयों में शिक्षा हासिल कर रही हैं वरना ग्रामीण क्षेत्र की अनेक तो ऐसी भी छात्राएं हैं जो स्कूल की चौखट तक भी नहीं पहुंच पाती है। उन्होंने कहा कि एक पढ़ी-लिखी बेटी दो परिवारों को शिक्षित कर सकती है, इसीलिए हमें अपनी बेटियों को अवश्य पढ़ाना चाहिए।

सांयकाल में ‘सांस्कृतिक संध्या’ कार्यक्रम के अवसर पर जेसीडी विद्यापीठ तथा महाविद्यालयों में उत्कृष्ठ कार्य करने वाले शिक्षक एवं गैर-शिक्षक कर्मचारियों को सम्मानित किया गया। इस मौके पर जेसीडी इंजीनियरिंग कॉलेज के विद्यार्थियों द्वारा कोरियोग्राफी, जेसीडी डेन्टल कॉलेज द्वारा फ्यूजन डांस एवं रैम्प वॉक, जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय द्वारा स्क्टि, जेसीडी मैमोरियल कॉलेज द्वारा हरियाणवीं डांस, जेसीडी आईबीएम द्वारा लिलिपुट डांस, माता हरकी देवी महिला कॉलेज द्वारा पंजाबी गिद्दा व जेसीडी फार्मेसी कॉलेज द्वारा पंजाबी संस्कृति की छटा को बिखेरता भंगड़ा प्रस्तुत किया गया, जिसने सभी का मन मोहने का काम किया। इस कार्यक्रम के मध्य में अपने हास्यकला का प्रदर्शन करते हुए आजाद सिंह दुहन एवं कवि मास्टर महेन्द्र ने अपने मनमोहक अंदाज़ में प्रस्तुति देकर श्रोताओं को हंसा-हंसाकर लोट-पोट किया।

इस मौके पर डॉ.सुरेश शर्मा ने इस सांस्कृतिक कार्यक्रम से अभिभूत होते हुए कहा कि जेसीडी विद्यापीठ में वास्तविकता में संस्कारित, अनुशासित एवं प्रतिभावान विद्यार्थियों की कमी नहीं है। उन्होंने कहा कि जेसीडी विद्यापीठ सिर्फ शिक्षा ही नहीं अपितु गुणवत्तायुक्त बेहतर शिक्षा प्रदान करता है, जिसमें इसका कोई सानी नहीं है। डॉ.शर्मा ने कहा कि वे अनेक कार्यक्रमों में गए परंतु उन्हें जो प्रतिभा यहां देखने को मिली है वह और कहीं नहीं मिली।
सर्वप्रथम अपनी रागिनी का जादू बिखेरते हुए श्री भारत प्रेम ने सभी को मंत्रमुग्ध किया। उन्होंने जोर देकर कहा कि मंच पर आने और सफलता पाने का मार्ग आसान नहीं है। विद्यार्थी को अभ्यास और समर्पण से गुज़रना पड़ता है। उन्होंने कहा कि जेसीडी एक ऐसा संस्थान है जहां अनेक प्रतिभाएं सम्माहित हैं तथा समय-समय पर उन्हें मंच भी प्राप्त हो रहा है इसीलिए वे कामयाबी हेतु कड़ी मेहनत करें।

श्री पराग शर्मा ने अपने संबोधन में कहा कि कला प्रत्येक में निहित होती है परंतु कुछ लोग उसे पहचान पाते हैं तथा कुछेक उसे अंदर ही दबा लेते हैं, जिसके चलते वह कलाकार नहीं बन पाते हैं। उन्होंने कहा कि चौ. देवीलाल जी के त्याग को सभी वर्ग जानते हैं। उन्होंने कहा कि जेसीडी विद्यापीठ में चारों ओर हरा-भरा एवं शांत वातावरण निहित है जो शिक्षा के लिए एक बेहतर विकल्प है।

कार्य्रकम के अंत में संयोजक एवं जेसीडी आईबीएम के प्राचार्य डॉ.कुलदीप सिंह ने आए हुए अतिथियों एवं उपस्थितजनों का आभार प्रकट करते हुए कहा कि जेसीडी विद्यापीठ सदैव ऐसे आयोजन करवाकर विद्यार्थियों की प्रतिभाओं को निखारने का प्रयास करता रहता है, जिसके लिए प्रबंधन समिति एवं प्रबंध निदेशक महोदया के हम धन्यवादी हैं, जिनके मार्गदर्शन में इतने बड़े स्तर के कार्यक्रम का सफल आयोजन संभव हो पाया है।

इस अवसर पर डॉ.सुरेश शर्मा, भारत प्रेम तथा पराग को कला-संस्कृति में अद्वितीय योगदान हेतु हरियाणा गौरव का सम्मान दिया गया। इस मौके पर डेन्टल कॉलेज के डॉ.राकेश सिंगला व मि.सुभाष बामल, इंजीनियरिंग के मि.तरूण आनंद व मि.गगनदीप सिंह, शिक्षण महाविद्यालय से डॉ.रमेश शर्मा व मि.बलविन्द्र सिंह, आईबीएम से श्रीमती श्वेता शर्मा व मि.रामलाल, मैमोरियल कॉलेज से मि.अमरीक सिंह व श्रीमती सुदेश रानी, फार्मेसी कॉलेज से डॉ.शिखा रहेजा व मि.नरेश कुमार एवं एडम ब्लॉक से लेखा अधीक्षक मि.प्रमोद गोयल, ड्राईवर मि.मोती राम, सिक्योरिटी स्टाफ मि.बख्शीश सिंह, लॉन मैनेजर श्रीमती राधा रानी व स्वच्छता सिपाही श्री आत्माराम को पुरस्कार एवं प्रमाण-पत्र देकर सम्मानित किया गया।

इस कार्यक्रम में डॉ.राजेश्वर चावला, डॉ.अरिन्दम सरकार, डॉ.जयप्रकाश, डॉ.दिनेश कुमार गुप्ता, डॉ.राजेन्द्र कुमार, डॉ.अनुपमा सेतिया, इंजी.आर.एस.बराड़, जेसीडी विद्यापीठ के लेखाधिकारी श्री सुधांशु गुप्ता, शहर के अनेक गणमान्य लोग, चौ.देवीलाल विश्वविद्यालय के स्टाफ सदस्य एवं अतिथिगण के अलावा माता हरकी देवी संस्थान के स्टाफ सदस्य एवं जेसीडी के अधिकारीगण, विद्यार्थीगण सहित अनेक गणमान्य लोग भी भारी संख्या में उपस्थित रहे।