Follow us:-
Extension lecture from USA
  • By JCDV
  • August 28, 2023
  • No Comments

Extension lecture from USA

Divyansh Dhindhsa

Divyam Rana
जेसीडी विद्यापीठ में विशेषज्ञ द्वारा व्याख्यान का आयोजन।
बिजनेस एनालिस्ट प्रतिस्पर्धा और लक्ष्य का करता है आंकलन : इंजीनियर दिव्यम राणा

सिरसा 28 अगस्त, 2023 : जेसीडी विद्यापीठ में विद्यार्थियों को उनके विषय सम्बन्धी बेहतर जानकारी प्रदान करने के लिए सोमवार को एक व्याख्यान का आयोजन किया गया, जिसमें कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय सैन डिएगो, सैन डिएगो से इंजीनियर दिव्यम राणा द्वारा बतौर मुख्य वक्ता उपस्थित होकर विद्यार्थियों को जानकारी प्रदान की गई। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जीसीडी विद्यापीठ के महानिदेशक एवं अंतर्राष्ट्रीय राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वैज्ञानिक प्रोफेसर डॉक्टर कुलदीप सिंह ढींडसा थे । इस अवसर पर उनके साथ कनाडा के सेनेका इंजीनियरिंग कॉलेज , टोरेंटो के बी.टेक थर्ड ईयर स्टूडेंट दिवांश ढींडसा के अलावा सभी विभगों के विभागाध्यक्ष एवं अन्य प्राध्यापकगण भी मौजूद रहे। इस विशेषज्ञ व्याख्यान का मुख्य उद्देश्य इंजीनियरिंग के क्षेत्र में विद्यार्थियों के लिए वर्तमान समय में कॅरियर की संभावनाएं विषय पर जानकारी प्रदान करना था।

सर्वप्रथम प्राचार्य डॉक्टर जयप्रकाश ने मुख्य अतिथि एवं मुख्य वक्ता का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि हम जेसीडी विद्यापीठ के महानिदेशक डॉक्टर कुलदीप सिंह ढींडसा एवं प्रबंधन समिति का आभार प्रकट करना चाहेंगे जो समय-समय पर ऐसे आयोजन के लिए तैयार रहते हैं तथा पूर्ण सहयोग प्रदान करते हैं। इस मौके पर उन्होंने कहा कि समय-समय पर संस्थान में विद्यार्थियों को विशेषज्ञों से रूबरू करवाने के लिए ऐसे आयोजन करवाए जाते हैं ताकि उन्हें नवीनतम ज्ञान प्राप्त होने के साथ-साथ अपने विषय सम्बन्धी कोई जिज्ञासाएं हो तो वह भी शांत हो सकें।

डॉक्टर ढींडसा ने सभी विद्यार्थियों एवं अन्य से मुख्य वक्ता को परिचित करवाया। उन्होंने कहा कि यह हमारा सौभाग्य है कि इंजीनियर दिव्यम राणा ने मेरी सुपुत्री डॉक्टर पूजा राणा जो वर्तमान में एमिटी यूनिवर्सिटी गुरुग्राम में प्रोफेसर हैं के सुपुत्र हैं और अपनी स्नातक की कंप्यूटर इंजीनियरिंग की शिक्षा कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय सैन डिएगो से पूर्ण कर सिस्को सिस्टम्स, सैन डिएगो में बिजनेस एनालिस्ट के पद पर कार्य कर चुके हैं और उसी दौरान क्लाइंट में आगामी सुविधाओं के लिए अत्याधुनिक मशीन लर्निंग मॉडल का विकास, फीचर इंजीनियरिंग, आयामीता में कमी, प्रमुख घटक विश्लेषण और अत्यधिक असंतुलित डेटा को एड्रेसिंग करने सहित उन्नत तकनीकों पर कार्य पूरा किया तथा जैकब स्कूल ऑफ इंजीनियरिंग, यूसी सैन डिएगो में प्रोफेसर गेराल्ड के साथ कार्य करते हुए कंप्यूटर विज्ञान पाठ्यक्रम में देशी और गैर-देशी दोनों अंग्रेजी बोलने वालों द्वारा प्रदर्शित व्यवहार और अध्ययन पैटर्न का गहन मूल्यांकन पर कार्य पूरा किया। इंजीनियर राणा की स्पेशलाइजेशन अत्याधुनिक डेटा प्रौद्योगिकियों और उचित कार्य योजनाओं को परिभाषित करने के लिए डेटा का विश्लेषण करना है। उन्होंने अपने ग्रांडसन

दिव्यांश ढींडसा जो कनाडा के सेनेका इंजीनियरिंग कॉलेज , टोरेंटो के बी.टेक थर्ड ईयर स्टूडेंट में शिक्षा ले रहें हैं उनसे भी सभी को परिचित करवाया।

इस मौके पर मुख्य वक्ता के तौर पर अपने वक्तव्य में इंजीनियर दिव्यम राणा ने सर्वप्रथम संस्थान में चारों ओर व्याप्त शांत, अनुशासित एवं बेहतर माहौल की प्रशंसा करते हुए कहा कि वर्तमान समय में टेक्नोलॉजी का महत्व बहुत ज्यादा है । तकनीक एवं सूझबूझ के बेजोड़ मेल पर आधारित तैयार की गई हाइब्रिड कार की प्रशंसा की और इसको तैयार करने वाले छात्रों की सराहना की और भविष्य के लिए उन्हें शुभकामनाएं दी और उन्होंने खुद इसको चला कर देखा।

उन्होंने कहा कि एक बिजनेस एनालिस्ट का प्रमुख काम

कंपनी की बढ़त, उत्पादकता, जोखिम और उपभोक्ता की मांग के हिसाब से रणनीति तैयार करना होता है। बिजनेस एनालिस्ट ही कंपनी के बिजनेस, बाजार में प्रतिस्पर्धा और भविष्य के लक्ष्य का आंकलन करता है साथ ही बिज़नेस में आने वाली समस्याओं और उनके समाधान के बीच पुल का काम करता है। बिजनेस एनालिटिक्स पेशेवरों को प्रदान की गई सूचना डेटा को समझने की अनुमति देता है । बिजनेस एनालिटिक्स सूचनाओं को संग्रहीत करने, व्यवस्थित करने और उनका विश्लेषण करने की प्रक्रिया है।उन्होंने कहा कि बिजनेस डेटा एनालिटिक्स का भविष्य बहुत उज्ज्वल है। बिजनेस एनालिटिक्स का भविष्य का दायरा बहुत बड़ा है और जैसे-जैसे प्रौद्योगिकी आगे बढ़ रही है और डेटा-संचालित निर्णयों की आवश्यकता बढ़ रही है, इसका विस्तार जारी रहेगा।

इस मौके पर जेसीडी विद्यापीठ के सभी विभागों के विभागाध्यक्ष, प्राध्यापकगण के अलावा समस्त विद्यार्थीगण भी उपस्थित रहे। अंत में कुलसचिव द्वारा मुख्यातिथि एवं वक्ता को स्मृति चिह्न प्रदान करके सम्मानित किया गया।