Extension Lecture Organised by Civil Department – 06/05/2017


जेसीडी बहुतकनीकी संस्थान के सिविल विभाग द्वारा विशेषज्ञ व्याख्यान का आयोजन
विद्यार्थियों ने जाना सिविल विभाग से सम्बन्धित बारिकियों को, भवनों की संरचना सम्बन्धी जानकारी से भी हुए अवगत

सिरसा 6 मई, 2017 : जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित बहुतकनीकी संस्थान के सिविल विभाग के विद्यार्थियों के लिए एक दिवसीय विशेषज्ञ व्याख्यान का आयोजन किया गया, जिसमें राजकीय बहुतकनीकी संस्थान से सेवानिवृत्त सिविल विभागाध्यक्ष इंजी.अशोक नारंग ने बतौर मुख्य वक्ता उपस्थित होकर विद्यार्थियों को कोर्स सम्बन्धी अनेक महत्वपूर्ण एवं उपयोगी जानकारी प्रदान की गई। इस कार्यक्रम की अध्यक्षता कॉलेज के प्राचार्य इंजी.आर.एस.बराड़ द्वारा की गई तथा इस कार्यक्रम का आयोजन सिविल विभागाध्यक्ष इंजी.अवतार सिंह के मार्गदर्शन में किया गया।

इस मौके पर कॉलेज के प्राचार्य इंजी.आर.एस.बराड़ ने सर्वप्रथम अपने संबोधन में पधारे हुए मुख्य वक्ता एवं अन्य अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि हमारा उद्देश्य हमारे विद्यार्थियों को अनुभव प्राप्त शिक्षकों एवं अन्य विशेषज्ञों से रूबरू करवाकर उनको बेहतर ज्ञान प्रदान करवाना है, जिसके लिए हमारे चेयरमैन श्री दिग्विजय सिंह चौटाला,प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला,शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक का समय-समय पर ऐसे आयोजन करवाने हेतु सहयोग प्रदान करने के लिए आभार प्रकट किया।

इस मौके पर बतौर मुख्य वक्ता अपने संबोधन में इंजी.अशोक नारंग ने अपने संबोधन में जानकारी देते हुए बताया कि सिविल इंजीनियरिंग,इंजीनियरिंग के ही विशेष विषयों में से एक है। सिविल इंजीनियर वह व्यक्ति होता है जो लोक निर्माण परियोजनाओं पर कार्य करते हैं, इन परियोजनाओं के अंतर्गत पुल, हवाई अड्डों,बंदरगाहों,सुरंगें,हाईवे,बांधों,वाटर सप्लाई सिस्टम तथा वाटर ट्रीटमेंट प्लांट आते है। इंजी.नारंग ने विद्यार्थियों से कहा कि यदि आप बेहतर सिविल इंजीनियर बनना चाहते है तो आपको लोगों की सुरक्षा का पूरा ध्यान रखना होगा तथा आपको सरकार के निर्देशानुसार काम करना होगा क्योंकि एक सिविल इंजीनियर देश में रहने वाले सभी नागरिकों की सुरक्षा और कुशलता का ध्यान रखता है व रीजनल गवर्नमेंट के निर्देशानुसार काम करता है। वहीं एक सिविल इंजीनियर किसी परियोजना के डिजाइन और योजना, निर्माण और उत्पाद के मेंटेनेंस के लिए जिम्मेदार होता है तथा एक सिविल इंजीनियर को इंजीनियरिंग ज्ञान के साथ-साथ प्रशासनिक कौशल भी होना चाहिए ताकि वह बेहतर कार्य कर सके। उन्होंने इस कार्यक्रम में उन्हें आमंत्रित करके विद्यार्थियों से रूबरू होने के लिए विद्यापीठ की प्रबंधन समिति,कॉलेज के प्राचार्य एवं सिविल विभाग के अध्यक्ष एवं उनकी सम्पूर्ण टीम का आभार प्रकट किया।

इस अवसर पर जेसीडी बहुतकनीकी संस्थान के सिविल विभागाध्यक्ष इंजी.अवतार सिंह के अलावा उनके अन्य स्टाफ सदस्य तथा समस्त विद्यार्थीगण भी उपस्थित रहे।

You may also like

Visit Us On TwitterVisit Us On FacebookVisit Us On Google PlusVisit Us On PinterestVisit Us On YoutubeVisit Us On LinkedinCheck Our FeedVisit Us On Instagram