Or 01666-238105
Mon - Sat: 9:00AM - 5:00PM 2nd Sat., 3rd Sat, Sunday: Closed

Guest Lecture by Group Captain of Air Force – JCDM College of Engineering

JCDM College of Engineering organized a special lecture to make its students aware of the achievements and career prospects of the Indian Air Force, in which Group Captain of Air Force Station, Sirsa, Mr. Sanjeev Bindra attended as the Chief Speaker. On this occasion, JCD School Management Coordinator, Dr. Akash Chawla and Academic Director Dr. R.R. Malik welcomed the Chief Minister and other guests. Dr. Dinesh Kumar Gupta, Principal of JCD Engineering College, chaired the program.

जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित इंजीनियरिंग कॉलेज द्वारा अपने विद्यार्थियों को भारतीय वायुसेना की उपलब्धियों व कैरियर की संभावनाओं से अवगत करवाने के लिए व्याख्यान का आयोजन किया गया, जिसमें मुख्य वक्ता तथा मुख्यातिथि के रूप में एयरफोर्स स्टेशन, सिरसा के गु्रप कैप्टन श्री संजीव बिंद्रा ने शिरकत करके कार्यक्रम की शोभा बढ़ाई। इस मौके पर जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला एवं शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक ने मुख्यातिथि महोदय तथा अन्य अतिथियों का स्वागत किया। वहीं इस कार्यक्रम की अध्यक्षता जेसीडी इंजीनियरिंग कॉलेज के प्राचार्य डॉ.दिनेश कुमार गुप्ता द्वारा की गई।

बतौर मुख्यातिथि एवं मुख्य वक्ता अपने संबोधन में श्री संजीव बिंद्रा ने सर्वप्रथम जेसीडी विद्यापीठ की प्रबंधन समिति का विद्यार्थियों से मुखातिब करवाने के लिए धन्यवाद किया। उन्होंने कहा कि भारतीय वायुसेना देश की अन्य दो सेनाओं के साथ कदम से कदम मिलाकर रक्षा करने के लिए सदैव तत्पर है। सेना के जवान बाहरी एवं आंतरिक आपदाओं के समय देश के नागरिकों की सुरक्षा के लिए हमेशा अडिग रहते हैं तथा अपना देश एवं नागरिकों के प्रति फर्ज को पूरी तरह निभाते हैं। उन्होंने कारगिल युद्ध व केरल में बाढ. के समय सेना की वीरता एवं कर्मठता का उदाहरण देते हुए समस्त उपस्थितजनों को प्रेरित किया। श्री बिंद्रा ने बताया कि भारतीय वायुसेना में युवाओं के लिए अपार संभावनाए निहित है बस जरूरत है स्वयं को अपडेट रखने की। युवा भारतीय वायु सेना से जुड़कर देश के प्रति अपने कर्तव्य को निभाकर अपना अह्म योगदान दे सकते हैं। उन्होंने कहा कि भारतीय वायुसेना जुझारू युवाओं का स्वागत करती है, जो नेतृत्व, टीम वर्क, कुछ कर दिखाने का जज्बा व अनुशासन जैसे गुणों से परिपूर्ण है। उन्होंने कहा कि आप लोग वायु सेना के किसी भी विभाग जैसेकि फलाईंग, ग्राऊंड एवं इंजीनियरिंग में नौकरी के लिए आवेदन कर सकते हैं। वहीं उन्होंने विद्यार्थियों की शंकाओं का भी समाधान किया तथा उन्हें वायुसेना से जुडऩे के लिए प्रेरित किया।

इस अवसर पर विशिष्ट तौर से पधारे श्री संदीप वैला ने छात्रों को भारतीय वायुसेना की उपलब्धियों से अवगत करवाया। उन्होंने छात्रों को वायुसेना में सम्मिलित तेजस, धु्रव, सारंग एवं अन्य हैलीकॉप्टरों के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान की। इसके अतिरिक्त भारतीय वायुसेना के विभिन्न विभागों व उनके क्रियाकलापों सम्बन्धी भी विद्यार्थियों को जानकारी प्रदान की।

इस मौके पर सर्वप्रथम इंजी.आकाश चावला एवं डॉ.आर.आर.मलिक ने मुख्यातिथि महोदय तथा अन्य का स्वागत किया। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि जेसीडी विद्यापीठ सदैव बेहतर शिक्षण के लिए प्रतिबद्ध है और वह दिन-प्रतिदिन इस प्रकार के आयोजनों के माध्यम से इस पर खरा उतर रहा है। उन्होंने विद्यार्थियों से आह्वान किया कि वे आने वाले विशेषज्ञों से ज्ञान प्राप्त करके अच्छी शिक्षा हासिल करें। उन्होंने कहा कि हमारे विद्यार्थी अनुशासन में रहते हुए इस हरे-भरे तथा स्वच्छ कैम्पस में संस्कारयुक्त शिक्षा हासिल कर रहे हैं और केवल सिरसा ही नहीं अपितु बाहर भी संस्थान का नाम रोशन कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य विद्यार्थियों का सर्वांगीण विकास करना है, जिसमें हम पूर्ण रूप से प्रयासरत्त हैं।

इस अवसर पर जेसीडी इंजीनियरिंग कॉलेज के प्राचार्य डॉ.दिनेश कुमार गुप्ता ने आए हुए अतिथियों का आभार व्यक्त किया और कहा कि ऐसे व्याख्यानों से छात्रों को अपने कैरियर के चुनाव में मदद मिलती है। भारतीय वायु सेना से जुडऩा किसी भी युवा के लिए गर्व की बात है और हम सब सेना के जवानों का तहेदिल से धन्यवाद करते हैं जो अपने जीवन की परवाह न करते हुए देश की रक्षा के लिए सदैव तैयार रहते हैं। वहीं इस अवसर पर भारतीय वायु सेना की गतिविधियों, क्षमताओं व वीरता भरे कारनामों से सम्बन्धित विडियों का प्रदर्शन करके विद्यार्थियों का उत्साहवद्र्धन किया गया।

कार्यक्रम के अंत में प्राचार्य डॉ.दिनेश गुप्ता, जेसीडी विद्यापीठ के रजिस्ट्रार श्री सुधांशु गुप्ता, इंजी.कॉलेज के डिप्टी रजिस्ट्रार श्री एस.एल.सैनी द्वारा मुख्यातिथि एवं वक्ता को स्मृति चिह्न प्रदान करके सम्मानित किया गया। इस विशेषज्ञ व्याख्यान में इंजी.कॉलेज व एम.एस.सी.विभाग के 150 से अधिक विद्यार्थियों द्वारा हिस्सा लिया गया।