Follow us:-
Holi Celebration
  • By
  • March 17, 2022
  • No Comments

Holi Celebration

जेसीडी विद्यापीठ में होली मिलन समारोह एवं रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम ‘होली संगम’ का हुआ आयोजन

सिरसा 17 मार्च 2022-जननायक चौ. देवीलाल विद्यापीठ,सिरसा में होली पर्व पर रंग, गुलाल और प्यार की बौछार से लबालब ‘होली संगम’ कार्यक्रम बड़ी धूमधाम, भव्यता के साथ में अभूतपूर्व आयोजन हुआ जिसमे श्रीमती अनुराधा (सीजेएम, सिरसा) ने बतौर मुख्यातिथि व जेसीडी विद्यापीठ की प्रबंध निदेशक डॉ. शमीम शर्मा ने कार्यक्रम की अध्यक्षता तथा विशिष्ट अतिथि श्रीमती गीता यादव समाजसेवी, डॉ. मनीषा मेहता सुविख्यात स्त्री रोग विशेषज्ञ ने शिरकत की। इस अवसर पर सभी कॉलेजों के प्राचार्य डॉ. जयप्रकाश डॉ. अरिन्दम सरकार, डॉ. दिनेश कुमार गुप्ता, डॉ. अनुपमा सेतिया, डॉ. शिखा गोयल व भारत भूषण प्रधान के अलावा, डॉक्टर सुभाष नरूला , शीला पुनिया ,डॉक्टर रामजी जयमल, डॉक्टर अभिलाषा, सीमा वत्स, विशाल वत्स, अजीज प्रधान, सुनैना एवं अन्य अधिकारीगण, प्राध्यापकगण व समस्त छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे। सर्वप्रथम केक कटकर डॉक्टर शमीम शर्मा एवं अजीज प्रधान का जन्म दिवस मनाया गया और बाद में होली के गीतों और ढोल की थाप पर सभी जमकर थिरके। सभी ने एक दूसरे को गुलाल लगाकर होली की शुभकामनाएं एवं बधाई दी। कार्यक्रम का आगाज होली के पारम्परिक गीत ‘होलिया में उड़े रै गुलाल….’ से किया गया। कार्यक्रम में सामुहिक नृत्य, समूह लोकगीत, एकल नृत्य आदि की रंगारंग प्रस्तुतियां दी गई।

कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रही जेसीडी विद्यापीठ की प्रबंध निदेशक डॉक्टर शमीम शर्मा ने आए हुए अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि रंगों का त्योहार होली भारत में हिन्दू धर्म के और भारत के प्रमुख मुख्य त्योहारों में से एक है। यह पर्व आपसी सोहार्द, प्रेम और भाईचारे का प्रतीक है। उपस्थित जनों को संबोधित करते हुए कहा कि यह पावन पर्व मुख्य रुप से मौज-मस्ती करने का त्योहार है, जिसकी तैयारियां बच्चे कई दिन पहले से ही करने लगते हैं। होली बुराई पर अच्छाई की जीत का त्योहार है। हर गीले शिकवे भूलकर गले मिलने का पर्व है। उन्होंने कहा की जीवन मे बुराइयों को होली की आग मे जलाकर नये नये रगों से नई शुरुआत करने का त्योहार होली है। नवीन फसल की खुशी में भी यह पर्व मनाया जाता है।

विशिष्ट अतिथि श्रीमती गीता यादव ने कहा कि होली के पर्व पर लोग अपने पुराने गिले-शिकवे मिटाकर प्रेम की भावना से एक-दूसरे से मिलते हैं एवं मुंह मीठा कर होली की शुभकामनाएं देते हैं। विशिष्ट अतिथि डॉ. मनीषा मेहता ने कहा कि यह पर्व हमें आपस में जोड़ता है. इसमें लोग अपने सभी मतभेदों को भुलाकर आपसी सौहार्द और सहयोग बढ़ाने का काम करते है। डॉ. मनीषा ने कहा कि सभी विद्यार्थी एक दूसरे के साथ आपसी एकता बनाकर और सौहार्द्रपूर्ण वातावरण में होली मनायें।

विशिष्ट अतिथि डॉ. सुनीता ने कहा कि ‘होली संगम’ कार्यक्रम एकता व भाईचारे का संदेश देता है हमें यह त्योहार मिलजुलकर मनाना चाहिए और हमें अपने पड़ोसियों का भी ख्याल रखते हुए होली मनाना चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि होली का अपना एक अलग इतिहास रहा है होली का पर्व भक्त पहलाद की भक्ति और भगवान द्वारा उसकी रक्षा रूप में मनाया जाता है।

मुख्यातिथि श्रीमती अनुराधा ने संबोधित करते हुए कहा कि जिस प्रकार से होलिका दहन के दिन एक पवित्र अग्नि जलाई जाती है जिसमें सभी तरह की बुराई और अहंकार को नष्ट करने का संकल्प लिया जाता है। उसी प्रकार से हमें भी अपने अंदर अहंकार और बुराई को नष्ट करना चाहिए। उन्होंने कहा कि इस तरह के कार्यक्रमों से विद्यार्थियों की जिंदगी में खुशियों की बरसात होती हैं, आपसी भाईचारा बढ़ता है तथा परस्पर प्रेम सौहार्द की सुखद अनुभूति होती है। होली का त्योहार व्यस्त जीवन के कुछ पल से हमें छुटकारा दिलाकर खुशियां प्रदान करता है और जीवन को एक अनोखी स्फूर्ति से भर देता है। उन्होंने अपने संबोधन में युवाओं को संदेश देते हुए कहा कि आज का युवा नशे से दूरी बनाकर रखें ।

इस अवसर पर राधा कृष्णन डांस एवं गोपी ग्वाला प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया । जिसमें निर्णायक मंडल में अंजू डुमरा , सुनीता दहिया एवं मोनिका द्वारा जेसीडी एजुकेशन कॉलेज से डिंपल एवं ग्रुप को राधा कृष्ण नृत्य प्रतियोगिता में प्रथम स्थान एवं हॉस्टल ग्रुप को द्वितीय तथा डेंटल कॉलेज की सृष्टि व तमन्ना को तृतीय स्थान दिया गया। प्रथम पुरस्कार ₹ 3100 द्वितीय पुरस्कार ₹2100 तथा तृतीय पुरस्कार ₹1100 नकद प्रदान किया गया। निर्णायक मंडल द्वारा गोपी ग्वाला परिधान में डेंटल कॉलेज की सृष्टि व तमन्ना को प्रथम और ममता व ईशा को द्वितीय , इंजीनियरिंग कॉलेज के राहुल और इशिका को तृतीय पुरस्कार प्रदान किया गया। मुख्य अतिथि एवं अन्य अतिथि गण का जेसीडी विद्यापीठ द्वारा स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया। कार्यक्रम के अंत में डॉ शिखा गोयल द्वारा मुख्य अतिथि एवं अन्य अतिथि गण का धन्यवाद किया गया।

×

Hello!

Click one of our contacts below to chat on WhatsApp

× How can I help you?