Follow us:-
New Session Started in JCD Vidyapeeth by Hawan Ceremony
  • By
  • July 24, 2018
  • No Comments

New Session Started in JCD Vidyapeeth by Hawan Ceremony

The launch of New Session of JCD Vidyapeeth started with Mantra and Hawan. Dr. R.R. Malik, and Eg. Akash Chawla called students to uphold the disciplined and cultured environment prevailing in the Vidyapeeth.

जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित मैमोरियल कॉलेज सहित अन्य कॉलेजों के नए सत्र का शुभारंभ हवन-यज्ञ के साथ हुआ, जिसमें जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला एवं शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक ने मुख्य यजमान की भूमिका निभाते हुए बतौर मुख्यातिथि उपस्थित हुए। वहीं इस कार्यक्रम की अध्यक्षता जेसीडी मैमोरियल कॉलेज के प्राचार्य डॉ.प्रदीप स्नेही द्वारा की गई। इस अवसर पर विद्यापीठ के रजिस्ट्रार श्री सुधांशु गुप्ता सहित सभी महाविद्यालयों के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश, डॉ.राजेश्वर चावला, डॉ.दिनेश कुमार गुप्ता, डॉ.कुलदीप सिंह, इंजी.आर.एस.बराड़ व श्रीमती अनुपमा सेतिया के अलावा अन्य अधिकारीगण तथा स्टाफ सदस्य एवं कॉलेज के सभी विद्यार्थियों के अलावा अन्य गणमान्य अतिथियों ने भी हवन-यज्ञ में अपने कर-कमलों द्वारा आहुति डालकर शुभफल की कामना की।

इस मौके पर इंजी.आकाश चावला एवं डॉ.आर.आर.मलिक ने सभी को अपने संबोधन में कहा कि चौ.देवीलाल जी ने यह सपना देखा था कि शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़े हुए सिरसा को अत्याधुनिक सुविधाओं से सुसज्जित संस्थान प्रदान किया जाए तथा इस जिले के विद्यार्थियों को उच्च गुणवत्तायुक्त शिक्षा हासिल करने के लिए शहर से बाहर न जाना पड़े,जिसे पूर्ण करने में जेसीडी विद्यापीठ सदैव अग्रणी रहेगा। उन्होंने कहा कि जेसीडी विद्यापीठ के सभी संस्थान अनुशासित,संस्कारित एवं गुणवत्तायुक्त शिक्षा के लिए वचनबद्ध हैं और इसमें वे खरे भी उतर रहे हैं तथा हवन-यज्ञ भी उन्हीं संस्कारों में निहित एक परम्परा है,जिससे किसी भी कार्य का शुभारंभ सदैव शुभ फलदायी साबित होता है। उन्होंने सभी नए विद्यार्थियों से यह आह्वान किया कि जिस प्रकार विद्यापीठ में पूर्ववत् अनुशासन,संस्कारित शिक्षा एवं स्वच्छ वातावरण कायम है उसे आप लोग भी बखूबी कायम रखेंगे और नियमों का पालन करते हुए नियमित कक्षाएं लगाएंगे ताकि आपको बेहतर शिक्षा प्राप्ति में कोई परेशानी ना हो। उन्होंने कहा कि विद्यापीठ सदैव बेहतर शिक्षा,खेल एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों में बेहतर प्रदर्शन करता आया है तथा इसमें आप भी अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें ताकि आपका,आपके संस्थान का तथा जिला का नाम रोशन हो सके। डॉ.आर.आर.मलिक ने कहा कि हवन-यज्ञ का केवल संस्कारों से ही नहीं अपितु साईंस से भी सम्बन्ध है तथा इस हवन में डाली जाने वाली सामग्री में अनेक औषधियां समाहित होती है जो वातावरण को पवित्र एवं शुद्ध बनाने में सहायक होती है इसलिए भी हवन को पवित्र तथा शुभफलदायी माना गया है।

इस मौके पर अपने संबोधन में डॉ.प्रदीप शर्मा स्नेही ने कहा कि किसी भी कार्य का प्रारंभ अगर हवन-यज्ञ से करने की पौराणिक परम्परा के अनुसार ही आज कॉलेज द्वारा पहला पड़ाव पार कर लिया गया है तथा आज से विद्यार्थियों की सुचारू कक्षाएं प्रारंभ हो गई हैं। उन्होंने कहा कि शिक्षा में गुणवत्ता ही हमारा मुख्य ध्येय है तथा हम केवल विद्यार्थियों को डिग्री ही नहीं प्रदान करते अपितु उनको आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के साथ समय-समय पर अन्य प्रशिक्षण भी प्रदान किए जाते हैं ताकि उनका सर्वांगीण विकास हो सके।

इस मौके पर सभी नए विद्यार्थीयों सहित अन्य महाविद्यालयों के प्राचार्यों, जेसीडी विद्यापीठ के रजिस्ट्रार सहित अनेक अधिकारियों व स्टाफ सदस्यों तथा अतिथियों के साथ हवन-यज्ञ में आहुति डालकर मंगलमय भविष्य एवं शैक्षिक प्रगति की कामना की।