Follow us:-
Nukkad Natak Competition by B.Com Students
  • By
  • February 26, 2018
  • No Comments

Nukkad Natak Competition by B.Com Students

जेसीडी मैमोरियल कॉलेज के बी.कॉम. के विद्यार्थियों द्वारा नुक्कड़ नाटकों का किया गया सफलतम मंचन
अपने-अपने नाटकों के माध्यम से विद्यार्थियों ने किया अनेक सामाजिक बुराईयों पर कटाक्ष

जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित मैमोरियल कॉलेज के सभागार में वाणिज्य विभाग के तत्वावधान में सामाजिक बुराईयों के ज्ञान हेतु नुक्कड़ नाटक प्रतियोगिता का आयोजन करवाया गया। इस मौके पर कॉलेज के प्राचार्य डॉ.प्रदीप स्नेही ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत करके विद्यार्थियों का हौंसला अफजाई की। इन नुक्कड़ नाटकों का संचालन प्राध्यापक ममता और शिफाली द्वारा बेहतर तरीके से करवाया गया। इस कार्यक्रम का मुख्यातिथि व अन्य प्राध्यापकों द्वारा मां सरस्वती की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित करके शुभारंभ किया गया। इस प्रतियोगिता में कुल 8 टीमों में हिस्सा लेकर अपनी-अपनी कला का प्रदर्शन किया।

इस मौके पर कनिका एण्ड ग्रूप ने तेजी से पनप रहे ‘साईबर अपराध’ विषय पर नुक्कड़ नाटक द्वारा अपनी प्रस्तुति देते हुए विद्यार्थियों को सचेत किया। उधर शाईना एण्ड गु्रप ने ‘स्वच्छ भारत अभियान’ को अपने नुक्कड़ नाटक का विषय चुनकर सभी को स्वच्छता का महत्व समझाया। वहीं पारस व उसके
ग्रूप द्वारा आए दिन महिलाओं पर हो रहे दर्दनाक हादसे पर आधारित ‘ऐसिड एटेक’ विषय पर मार्मिक नुक्कड़ नाटक की प्रस्तुति दी। करण व ग्रूप ने घरों पर होने वाली हिंसाओं अपने नाटक के माध्यम से अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया। इसी प्रकार अन्य टीमों ने भी विभिन्न विषयों पर अपनी प्रस्तुतियों के माध्यम से सभी को विचारणे पर विवश किया तथा अनेक हिंसाओं व बुराईयों का सामना करने हेतु उपाय भी सुझाए गए।

इन प्रस्तुतियों के आधार पर विद्यार्थियों की मंचन कला की प्रशंसा करते हुए डॉ.प्रदीप स्नेही ने उपस्थितजनों को अपने संबोधन में कहा कि नुक्कड़ नाटक एक पारम्परिक संचार का एक सक्षम स्त्रोत है जो कि आधुनिक युग में डिजिटल मीडिया की चकाचौंध में लुप्त होता जा रहा है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में हमारी युवा पीढ़ी सोशल मीडिया के बढ़ते प्रचलन की वजह से समय की बर्बादी की लत का शिकार हो चुके है जबकि नुक्कड़ नाटक जैसे पारम्पंरिक संचार लोगों को जोड़कर रखने व ग्रामीण जनता को सामाजिक बुराईयों के प्रति जागरूक करने का एक सशक्त माध्यम है व परम्परा से जोड़े रखने का कार्य करती है। वहीं अनेक ऐसी संस्थाए है जो नुक्कड़ नाटक जैसे पारम्परिक माध्यमों का प्रयोग कर सामाजिक बुराईयों पर अभियान चला कर आधुनिकता के इस दौर में भी जनता को जागरूक करने का काम कर रही है। वहीं डॉ.स्नेही ने विद्यार्थियों को ऐसे आयोजनों के माध्यम से प्रोत्साहित करने व मार्गदर्शन करने के लिए जेसीडी विद्यापीठ के चेरयमैन श्री दिग्विजय सिंह चौटाला, प्रबंधन समन्वयक इंजी आकाश चावला, शैक्षणिक निदेशक डॉआर.आर.मलिक एवं अन्य अधिकारियों का अभार प्रकट किया।

इस नुक्कड़ नाटक प्रतियोगिता में प्रतिभागियों की प्रस्तुति के आधार पर निर्णायक मण्डल की भूमिका निभाते हुए सुधीर दगेलिया एवं रसप्रीत कौर ने स्वच्छ भारत अभियान गु्रप को प्रथम, मानव व्यवहार गु्रप को द्वितीय तथा अल्पसंख्यक गु्रप को तृतीय घोषित किया, जिन्हें अंत में मुख्यातिथि महोदय एवं अन्य प्राध्यापकों द्वारा पुरस्कार व प्रमाण-पत्र प्रदान करके सम्मानित किया गया। इस अवसर पर सविता, सुष्मिता, अनिता मक्क्ड़ सपना के अलावा वाणिज्य विभाग के समस्त विद्यार्थिगण व अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित रहे।