Or 01666-238105
Mon - Sat: 9:00AM - 5:00PM All Holidays and Saturday - Open

Valedictory Function of First Aid and Home Nursing Training – JCD Education College, Sirsa

जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय में सात दिवसीय प्राथमिक सहायता एवं होम नर्सिंग की टे्रनिंग का समापन

जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित शिक्षण महाविद्यालय में चल रहा साप्ताहिक प्राथमिक सहायता एवं होम नर्सिंग ट्रेनिंग कैम्प का शुक्रवार को विधिवत् सम्पन्न हो गया। इस समापन अवसर पर रेडक्रॉस सोसायटी के जिला प्रशिक्षण अधिकारी गुरमीत सिंह सैनी ने इस कैम्प के दौरान विद्यार्थियों को आपातकाल के दौरान दी जाने वाली प्राथमिक सहायता के विभिन्न तरीकों से अवगत करवाया। श्री सैनी ने बताया कि दुर्घटनाग्रस्त व्यक्ति को सांत्वना एवं सहारे की आवश्यकता होती है। उन्होंने कहा कि दुर्घटना में अंग विच्छेद होने की स्थिति में कटे हुए अंग को पानी से धोए बगैर अगर किसी प्लास्टिक के थेले में बर्फ में रखकर सर्जरी के लिए तुरंत भेज देना चाहिए, यदि इस प्रकार की प्राथमिक चिकित्सा हम समय पर कर लेते हैं तो चार-पांच घंटों तक उस कटे अंग को पुन: सर्जरी द्वारा जोडऩे में कामयाबी मिल सकती है। उन्होंने दैनिक जीवन में घरों एवं बाहर घटित होने वाली छोटी-छोटी घटनाओं के बारे में भी विस्तार से जानकारी प्रदान की तथा उनसे रोगी को बचाने के टिप्स दिए। उन्होंने इस मौके पर अनेक प्रकार की पट्टियों एवं रोगी को स्ट्रेक्चर में डालने के तरीके तथा अस्पताल पहुंचाने के लिए आपातकालीन तरीकों की भी विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान की। इस मौके पर सहायक प्राथमिक प्रवक्ता मि.कंवलजीत सिंह ने भी उपस्थितजनों को प्राथमिक सहायता एवं होम नर्सिंग के बारे में जानकारी प्रदान की।

इस मौके पर डॉ.जयप्रकाश व डॉ.राजेन्द्र कुमार ने इस ट्रेनिंग के लिए जेसीडी विद्यापीठ की प्रबंध निदेशक डॉ.शमीम शर्मा एवं जिला प्रशिक्षण अधिकारी गुरमीत सैनी का आभार व्यक्त किया। डॉ. जयप्रकाश ने सभी विद्यार्थियों को बताया कि इस कोर्स की आवश्यकता एवं महत्व को ध्यान में रखते हुए सभी कॉलेजों के लिए यह कोर्स अनिवार्य है। उन्होंने इस ट्रेनिंग के सफल आयोजन के लिए कॉलेज की यूथ रेडक्रॉस यूनिट के इंचार्ज को बधाई प्रेषित की। डॉ. राजेन्द्र ने कहा कि हर कॉलेज में विद्यार्थियों को अनिवार्य पाठ्यक्रम के साथ-साथ जनसंख्या शिक्षा, पर्यावरण शिक्षा, एड्स सम्बन्धी जानकारी, फायर फाईटिंग तथा प्राथमिक सहायता सम्बन्धी जानकारी भी पाठ्यक्रम के आवश्यक अंग के रूप में प्रदान की जानी चाहिए ताकि वह आगे चलकर इसे समाजहित के लिए प्रयोग में लाकर अपनी जिम्मेवारी निभा सकें।

इस अवसर पर जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के स्टाफ सदस्यों के अलावा बी.एड. जनरल एवं स्पैशल व एम.एड. के विद्यार्थी तथा अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित रहे।