#JCDEDUCATIONCOLLEGE

Awareness Rally on World AIDS Day

विश्व एड्स दिवस पर विद्यार्थियों ने निकाली जागरूकता रैली
जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के रेड रिबन क्लब द्वारा किया गया लोगों को रैली के माध्यम से जागरूक

An awareness rally was organized on the 01/12/2018 under the auspices of the Red Ribbon Club, JCD PG College of Education in honour of World AIDS Day.

समाज में एड्स के प्रति जागरूकता लाने के लिए सभी को मिलकर एक अभियान चलाना होगा तभी यह संभव हो पाएगा, जब लोग जागरूक होंगे तभी यह बुराई मिटाई जा सकती है। इसी तर्ज पर 01/12/2018 को विश्व एड्स दिवस के उपलक्ष्य में जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय में स्थापित रेड रिबन क्लब के तत्वावधान में एक जागरूकता रैली का आयोजन किया गया, जिसमें विद्यार्थियों द्वारा बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया गया। इस रैली को रवाना करने हेतु जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला एवं शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक ने हरी झंडी दिखाकर रवाना किया। इस मौके पर रेड रिबन क्लब के प्रभारी डॉ. रमेश शर्मा एवं उनकी टीम के विद्यार्थियों द्वारा सभी अतिथियों एवं अन्य को रेड रिबन लगाकर रैली में शामिल किया गया।

विद्यार्थियों को अपने संबोधन में प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला ने कहा कि एड्स एक ऐसी भयानक बीमारी है, जिसके कारण व्यक्ति न तो जीवित रहता है और न ही मरता है, इसलिए इसके बारे में सम्पूर्ण जानकारी उपलब्ध करवाना सरकार के साथ-साथ प्रत्येक नागरिक का भी दायित्व है तथा इसके प्रति जागरूक रहकर ही इससे बचा जा सकता है। उन्होंने बताया कि एड्स यानि ‘एक्वायरड इम्यूनी डेफेस्यंसी सिंड्रोम’ है तथा एचआईवी वायरस की वजह से होता है, जिसका काम मानव की प्रतिरोधक क्षमता को कमजोर करना होता है, जिसके कारण मनुष्य छूत तथा संक्रामक रोगों से बच नहीं सकता है। इंजी.चावला ने बताया कि यह वायरस काफी खतरनाक होता है तथा यह असुरक्षित यौन सम्बन्ध, एचआईवी संक्रमित रोगी के रक्त से, संक्रमित इंजैकशन की सूई से तथा एक संक्रमित मां से उसके होने वाले बच्चे को भी हो सकता है। उन्होंने कहा कि इसका बचाव केवल जागरूकता तथा सावधानी ही है तथा लोगों को इसके प्रति फैली अनेक भ्रांतियों से बचते हुए पूर्ण जानकारी हासिल करनी चाहिए।

इस अवसर पर मुख्यातिथि एवं अन्य का स्वागत करते हुए कॉलेज के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश ने कहा कि हमारा उद्देश्य हमारे विद्यार्थियों को प्रत्येक क्षेत्र में अपना बेहतर सहयोग प्रदान करने हेतु ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन करवाना है ताकि वो खुद भी जागरूक हों तथा अपने आसपास के लोगों को ऐसी भयानक बीमारियों एवं अन्य रोगों से अवगत करवाया जा सके। उन्होंने कहा कि संस्थान द्वारा समय-समय पर ऐसे आयोजन करवाए जाते हैं ताकि विद्यार्थी अपडेट रह सकें। डॉ.जयप्रकाश ने बताया कि यह एक ऐसा रोग है जो लाईलाज परंतु हम अनेक सावधानियां बरतकर तथा इसके बारे में जागरूकता फैलाकर ही इससे बच सकते हैं। उन्होंने कहा कि एक उम्र का पड़ाव ऐसा होता है जब प्रत्येक व्यक्ति को अगर इसकी जानकारी हो तथा वह संयम बरते तो इस रोग से जीता जा सकता है, इसीलिए ऐसे संक्रमित रोगों बारे स्कूल एवं कॉलेजों में समय-समय पर सेमिनार एवं अन्य आयोजन करवाएं जाते हैं ताकि विद्यार्थी इन रोगों की चपेट में ना आ सकें।

इस कार्यक्रम का आयोजन रेड रिबन क्लब के इंचार्ज डॉ.रमेश शर्मा के मार्गदर्शन में करवाया गया। उन्होंने कहा कि समय-समय पर संस्थान ऐसी भयानक बीमारियों सम्बन्धी पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता, स्लोगन मेकिंग के अलावा अनेक कार्यक्रम आयोजित करवाता रहता है ताकि ऐसे रोगों की जिनको जानकारी न हो उन्हें भी इनसे बचाव हेतु हरसंभव प्रयास किए जा सकें तथा एक बेहतर नागरिक की भूमिका हम अदा कर सकें।

इस अवसर पर जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के सभी प्राध्यापकगण, अन्य स्टाफ सदस्य एवं विद्यार्थीगणों ने भी इस जागरूकता रैली में हिस्सा लेकर लोगों को एड्स सम्बन्धी जानकारी प्रदान की।

Rangoli, Diya, Candle and Thali Decoration Competition – JCDV, Sirsa

On the event of Deepawali, various competitions were organized by the students of all the JCDV colleges. On this occasion, Dr. Jai Prakash, Principal of JCD PG Education College, encouraged students. On this occasion, candles decoration, plate decoration, Mehndi and Rangoli competitions organized. JCDV students participated in the program with full enthusiasm and enthusiasm. These competitions arranged under the supervision of the college spokesman Mrs. Kanwaljit Kaur and Mrs. Nisha.

जेसीडी विद्यापीठ में दीपावली की पूर्व संध्या पर विभिन्न प्रतियोगिताएं आयोजित
विद्यार्थियों ने लिया मोमबत्ती सजाओ, दिया सजाओ, थाली सजाना, मेहन्दी व रंगोली बनाओ प्रतियोगिताओं में बढ़-चढ़कर हिस्सा, दिया सजावट में प्रियंका, मोमबत्ती सजावट में रविका, थाली सजाओ में किरण, मेहन्दी में लक्ष्मी देवी एवं रंगोली में प्रियंका ने मारी बाजी

दीपावली की पूर्व संध्या पर जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित शिक्षण महाविद्यालय में विद्यापीठ के सभी कॉलेजों के विद्यार्थियों के लिए विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। इस मौके पर जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश ने विद्यार्थियों के मध्य उपस्थित होकर उनका हौंसला बढ़ाया। इस मौके पर विद्यार्थियों के लिए दिया सजाओ, मोमबत्ती सजाओ, थाली सजाओ, मेहन्दी एवं रंगोली बनाओ प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया, जिसमें संस्थान के विद्यार्थियों ने पूर्ण उत्साह एवं जोश के साथ हिस्सा लिया। इन प्रतियोगिताओं का आयोजन महाविद्यालय की प्रवक्ता श्रीमती कंवलजीत कौर एवं श्रीमती निशा की देखरेख में आयोजित करवाई गई।

इस अवसर पर विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए डॉ.जयप्रकाश ने सर्वप्रथम सभी को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई प्रेषित की। उन्होंने कहा कि आपको ऐसी प्रतियोगिताओं में बढ़-चढ़कर तथा बिना हार-जीत की भावना के पूर्ण उत्साह से हिस्सा लेना चाहिए ताकि आपको अपनी प्रतिभा में निखार करने का अवसर प्राप्त हो सके। उन्होंने कहा कि हमारा उद्देश्य पाठ्यक्रम के साथ-साथ अन्य गतिविधियों का आयोजन करवाकर आप लोगों की सृजनात्मक शक्ति का विकास करना है, जिसके लिए समय-समय पर ऐसे आयोजन करवाएं जाते हैं। डॉ.जयप्रकाश ने कहा कि आज की आपाधापी भरे माहौल में सभी लोग अपने संस्कृति से जुड़े त्यौहारों को भुलते जा रहे हैं, जिससे हम भारतीय संस्कृति में पिछड़ापन महसूस करते हैं, इसलिए हम सभी को इन्हें बढ़ावा देना होगा ताकि हमारी संस्कृति जीवंत रह सके।

इस मौके पर जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला, शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक एवं रजिस्ट्रार श्री सुधांशु गुप्ता ने सभी स्टाफ सदस्यों एवं विद्यार्थियों को दीपावली के पावन त्यौहार की बधाई एवं अपनी शुभकामनाएं प्रेषित करते हुए कहा कि दीपों के इस त्यौहार पर विद्यार्थियों से आह्वान किया कि सभी विद्यार्थी प्रदूषण रहित दिपावली को मनाएं तथा विभिन्न स्थानों पर आयोजित होने वाले ऐसे संस्कृति से जुड़े आयोजनों में हिस्सा लेकर इसमें अपनी भागीदारी सुनिश्चित करें।

इस अवसर पर आयोजित विभिन्न प्रतियोगिताओं में निर्णायक मण्डल ने मोमबत्ती सजावट में बी.एड. की छात्रा रविका ने जीत दर्ज की। वहीं दीया सजाओ प्रतियोगिता में प्रियंका ने प्रथम, पूजा एवं अवनीत ने संयुक्त रूप से द्वितीय तथा हरप्रीत ने तृतीय स्थान हासिल किया। वहीं थाली सजाओ प्रतियोगिता में किरण ने प्रथम, कोमल ने द्वितीय तथा किरण व रेखा ने तृतीय चयनित किए गए। रंगाली बनाओ प्रतियोगिता में प्रियंका ने प्रथम, आशा ने द्वितीय तथा हर्षप्रीत कौर ने तृतीय स्थान प्राप्त किया। उधर मेहन्दी प्रतियोगिता में लक्ष्मी देवी ने सबसे सुंदर मेहन्दी लगाकर जीत दर्ज की। इस मौके पर सभी विजेताओं को पुरस्कार प्रदान करके सम्मानित किया गया। इस अवसर पर जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के स्टाफ सदस्यों सहित अन्य शिक्षकगण एवं विद्यार्थीगणों के अलावा अनेक गणमान्य लोग भी उपस्थित रहे।

Karva Chauth Mehandi Competition by Women Cell, JCDV Sirsa

जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय में सौभाग्य के पर्व करवा चौथ की पूर्व संध्या पर मेहन्दी रचाओ प्रतियोगिता आयोजित
सभी कॉलेजों के विद्यार्थियों ने उत्साहपूर्वक लिया हिस्सा, अपनी प्रतिभा दिखाते हुए लगाई मेहन्दी

जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित शिक्षण महाविद्यालय में करवा चौथ के पावन त्यौहार की पूर्व संध्या पर विद्यापीठ की महिला सैल द्वारा इंटर कॉलेज मेहन्दी रचाओ प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें विद्यापीठ के सभी महाविद्यालयों के छात्र-छात्राओं ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। इस प्रतियोगिता का शुभारंभ जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश तथा विशेष रूप से पधारे श्रीमती एनी चावला एवं श्रीमती गुणवंती मलिक द्वारा किया गया। इस मौके पर उनके साथ जेसीडी फार्मेसी कॉलेज की प्राचार्य डॉ.अनुपमा सेतिया, डॉ.सुषमा हुड्डा के अलावा विभिन्न कॉलेजों के स्टाफ सदस्य भी मौजूद रहीं। इसमें छात्राओं द्वारा आपस में एक-दूसरे को तथा स्टाफ सदस्यों को मेहन्दी लगाकर अपनी कला का प्रदर्शन किया गया। इस प्रतियोगिता का आयोजन संस्थान की सहायक प्रवक्ता श्रीमती निशा के नेतृत्व में आयोजित करवाई गई।

इस अवसर पर विद्यार्थियों को अपने संबोधन में डॉ.जयप्रकाश ने सभी को करवा चौथ के पावन पर्व की बधाई प्रेषित देते हुए कहा कि ऐसे आयोजनों के माध्यम से विद्यार्थियों का सर्वांगीण विकास होता है, इसलिए समय-समय पर ऐसे कार्यक्रमों का आयोजन करवाया जाता है। उन्होंने विद्यार्थियों से आह्वान किया कि वे ऐसी प्रतियोगिताओं में बढ़-चढ़कर हिस्सा लें ताकि अपनी प्रतिभा का बेहतर प्रदर्शन कर सकें। इनमें हिस्सा लेने से विद्यार्थियों में सृजनात्मक योग्यता का विकास होता है, जिससे हमें हमारी संस्कृति, सभ्यता, रीति-रिवाज व पर्व-त्यौहारों के बारे में बेहतर जानकारी प्राप्त होती है।

इस मौके पर जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला एवं शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक व रजिस्ट्रार श्री सुधांशु गुप्ता ने समस्त स्टाफ सदस्यों एवं विद्यार्थियों को करवा चौथ के पावन त्यौहार की बधाई प्रेषित करते हुए अपनी शुभकामनाएं प्रेषित की। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों को अपनी संस्कृति एवं त्यौहारों की बेहतर जानकारी हासिल करनी चाहिए तथा ऐसे आयोजनों में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेना चाहिए ताकि उनकी प्रतिभा में ओर अधिक निखार हो सके।

इस मेहन्दी प्रतियोगिता में विशेष रूप से पधारे तथा निर्णायक मण्डल की भूमिका अदा करते हुए श्रीमती गुणवंती मलिक, श्रीमती एनी चावला, डॉ.अनुपमा सेतिया, श्रीमती निशा एवं डॉ.सुषमा रानी द्वारा जेसीडी मैमोरियल कॉलेज के रजत चौहान को प्रथम, शिक्षण महाविद्यालय की लक्ष्मी देवी को द्वितीय तथा प्रियंका को तृतीय चुना गया। जिनको कार्यक्रम के अंत में डॉ.जयप्रकाश तथा विशेष अतिथियों द्वारा स्मृति चिह्न प्रदान करके सम्मानित किया गया। इस अवसर पर शिक्षण महाविद्यालय एवं अन्य कॉलेजों के विद्यार्थीगण एवं स्टाफ सदस्य उपस्थित रहे।

Road Safety Quiz Competition – JCD PG College of Education and IBM College, Sirsa

जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय में सड़क सुरक्षा प्रश्रोत्तरी प्रतियोगिता आयोजित
यातायात के नियमों का पालन दिल से करें भय से नहीं

As per instruction of Traffic Police, Sirsa Road Safety Training Competition was organized by JCD IBM College & JCD PG College of Education at JCDV. The principal of the College of Education Dr. Jai Prakash and JCD IBM Principal Dr. Kuldeep Singh especially attended the program. In this competition, Students of B.Ed. General, B.Ed. Special, M.Ed. and students from BBA and MBA took part. The event was organized on this occasion by lighting the lamp in front of Mother Sarasvati. #JCDIBM #JCDPGCOED #JCDV

जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित शिक्षण महाविद्यालय एवं आईबीएम कॉलेज में विगत दिवस थाना यातायात पुलिस के निर्देशानुसार सड़क सुरक्षा प्रश्रोत्तरी प्रतियोगिता का आयोजन किया गया, जिसमें शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. जयप्रकाश एवं जेसीडी आईबीएम के प्राचार्य डॉ.कुलदीप सिंह ने विशेष तौर से उपस्थित होकर विद्यार्थियों का उत्साहवद्र्धन किया। इस प्रतियोगिता में महाविद्यालय के बी.एड.सामान्य, बी.एड.स्पैशल, एम.एड. तथा बीबीए एवं एमबीए के विद्यार्थियों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। इस मौके पर आयोजित कार्यक्रम का शुभारंभ मां सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्ज्वलित करके किया गया।

इस अवसर पर प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश एवं डॉ.कुलदीप सिंह ने अपने संबोधन में इस प्रश्रोतरी प्रतियोगिता में हिस्सा लें रहे प्रतिभागियों को अपनी शुभकामनाएं प्रेषित करते हुए उनका हौंसला अफजाई करते हुए कह कि हम आपको हरसंभव सहयोग प्रदान करते रहेंगे क्योंकि हमारा उद्देश्य हमारे विद्यार्थियों को बेहतर शिक्षा देना ही नहीं बल्कि उनको नैतिक मूल्यों तथा सामाजिक बनाना भी है। उन्होंने अपने संबोधन में जेसीडी विद्यापीठ की प्रबंधन समिति का इस प्रकार के आयोजन हेतु आभार प्रकट करते हुए कहा कि सभी को यातायात नियमों की पालना मन से करनी चाहिए ना कि किसी के भय से क्योंकि अगर हम ट्रेफिक नियमों की पालना करते हैं तो इससे स्वयं का ही जीवन सुरक्षित होता है तथा दूसरें लोगों को भी होने वाले नुकसान से बचाया जा सकता है। डॉ.जयप्रकाश ने युवाओं से आह्वान किया कि वे जागरूक नागरिक बनें तथा पुलिस प्रशासन को सहयोग प्रदान करें ताकि नागरिकों एवं पुलिस के आपसी संबंध बेहतर बने रह सकें। वहीं वर्तमान में अधिकतर दुर्घटनाओं के शिकार यातायात नियमों की पालना न करने वाले ही होते हैं, इसलिए अपने जीवन के महत्व को समझें तथा इनकी मन से पालना करें, वहीं यह हमारा नैतिक कर्तव्य भी बनता है। डॉ.कुलदीप सिंह ने कहा कि जिस इंसान में अपने देश के प्रति भक्ति की भावना निहित है वह इसे उजागर करें तथा अपडेट रहते हुए समस्त यातायात नियमों तथा अन्य कानूनी नियमों की पालना करें।

इस कार्यक्रम का सफल आयोजन शिक्षण महाविद्यालय के प्रवक्ता श्री बलविन्द्र कुमार तथा जेसीडी आईबीएम की प्रवक्ता रीना मलिक एवं उनकी टीम के नेतृत्व में आयोजित करवाया गया था। इस प्रश्रोत्तरी प्रतियोगिता में निर्णायक मण्डल द्वारा विजेता घोषित की गई टीमों के विद्यार्थियों को अतिथियों द्वारा प्रमाण पत्र एवं स्मृति चिह्न प्रदान करके सम्मानित किया गया। इस मौके पर शिक्षण महाविद्यालय तथा आईबीएम कॉलेज का समूचा स्टॉफ के अलावा समस्त विद्यार्थीगण तथा अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित रहे।

Hawan Ceremony at JCD PG College of Education, Sirsa

जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के नए सत्र पर हवन से हुआ शुभारंभ
किसी भी कार्य को हवन-यज्ञ से करने से मिलती है नई ऊर्जा व पवित्रता – डॉ.जयप्रकाश

The new session for B.Ed and B.Ed (Special) Students of Education College established at JCD Vidyapeeth started with Havan-Yajna. Besides the Principal of JCD PG Education College, Dr. Jai Prakash, Principals of other colleges, staff members and newcomer students of all the colleges of the Vidyappeth, also offered sacrifice in Havan.

जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित शिक्षण महाविद्यालय के नवागन्तुक बी.एड. जरनल व बी.एड. स्पैशल के प्रथम वर्ष के विद्यार्थियों के नए सत्र का शुभारंभ हवन-यज्ञ के साथ हुआ, जिसमें जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश सहित विद्यापीठ के सभी महाविद्यालयों के प्राचार्य, स्टाफ सदस्य एवं नवागन्तुक विद्यार्थियों के अलावा अन्य अतिथियों ने भी हवन में आहुति डाली।

इस मौके पर डॉ.जयप्रकाश ने नए विद्यार्थियों को जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक एवं शैक्षणिक निदेशक महोदय से परिचित करवाया। उन्होंने अपने संबोधन में हवन की महत्ता को स्पष्ट करते हुए कहा कि हवन-यज्ञ को धार्मिक एवं वैज्ञानिक दोनों कारणों से ही महत्वपूर्ण माना जाता है तथा अगर किसी कार्य की शुरूआत इस पावन कार्य से की जाए तो वह शुभ फलदायी होता है। उन्होंने साईंस के साथ इस हवन-यज्ञ को जोड़ते हुए कहा कि जहां एक ओर हवन से मानसिक शांति प्राप्त होती है वहीं उसका धुंआ सम्पूर्ण वातावरण को स्वच्छ करता है क्योंकि हवन में डाली जाने वाली सामग्री में अनेक ऐसी औषधियां निहित होती है जो वातावरण के लिए अच्छी होती है। उन्होंने कहा कि हमारे कॉलेज में व्याप्त अत्याधुनिक प्रयोगशालाएं, वाई-वाई इंटरनेट सुविधा, स्वच्छ पेयजल सुविधा, ई-लाइब्रेरी, खुले एवं हवादार कक्षा-कक्ष, प्रशिक्षित स्टॉफ सदस्य एवं हरा-भरा प्रांगण आदि सुविधाओं के कारण ही यह विद्यार्थियों की पहली पसंद बन चुका है तथा प्रत्येक विद्यार्थी अन्य कॉलेजों की अपेक्षा हमारे यहां दाखिले लेने में अपनी रूचि दिखाते हैं।

इस अवसर पर जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला एवं शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक ने सभी नए विद्यार्थियों को अच्छी शिक्षा प्राप्त करने के लिए अपना आशाीर्वाद प्रदान करते हुए कहा कि आपको अच्छा वातावरण मिला है, इसमें अनुशासन में रहते हुए खूब मन लगाकर बेहतर शिक्षा हासिल करें ताकि आपको कामयाबी प्राप्त हो सके। डॉ. मलिक ने कहा कि किसी भी कार्य को अगर हवन-यज्ञ से किया जाता है तो वह शुभ होता है, वहीं हवन में बोला जाने वाला ‘स्वाहा’ शब्द अपने आप में एक समर्पण है, इससे हम अपनी सम्पूर्ण बुराइयों को पवित्र अग्रि में समाहित करते हैं, यह काफी अच्छे कर्म में शामिल है इसीलिए इससे नई ऊर्जा और पवित्रता प्राप्त होती है। उन्होंने कहा कि शिक्षा में गुणवत्ता ही हमारा मुख्य ध्येय है तथा हम केवल डिग्री ही नहीं अपितु विद्यार्थियों को आत्मनिर्भर बनाने की दिशा में प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के साथ-साथ अन्य प्रशिक्षण भी प्रदान करते है ताकि हमारे विद्यार्थियों का सर्वांगीण विकास हो सके। डॉ.मलिक ने कहा कि हवन-यज्ञ हमारी वैदिक परम्परा है तथा यह हमारी बुद्धि व जीवन को पे्ररणा प्रदान करने का कार्य करते हैं।

इस मौके पर बी.एड. के प्रथम वर्ष के नवागन्तुक सभी विद्यार्थीयों सहित कॉलेज के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश एवं अन्य प्राचार्यों तथा अतिथियों के साथ यज्ञ में आहुति डालकर मंगलमय भविष्य एवं शैक्षिक प्रगति की कामना की।

Visit Us On TwitterVisit Us On FacebookVisit Us On Google PlusVisit Us On PinterestVisit Us On YoutubeVisit Us On LinkedinCheck Our FeedVisit Us On Instagram