Farewell Party – B.Ed. and M.Ed. Students – JCD PG College of Education

जेसीडी शिक्षण महाविद्यालय में जूनियर्स ने दी अपने सीनिसर्य को विदाई पार्टी
बी.एड. एवं एम.एड. के विद्यार्थियों ने अपनी सांस्कृतिक गतिविधियों के माध्यम से लूटी वाहवाही

जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित शिक्षण महाविद्यालय में विगत दिवस बी.एड. के द्वितीय वर्ष के विद्यार्थियों को उनके जूनियर्स द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन कर विदाई पार्टी दी गई, जिसमें बतौर मुख्यातिथि जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी. आकाश चावला तथा रजिस्ट्रार श्री सुधांशु गुप्ता ने शिरकत की। वहीं इस कार्यक्रम की अध्यक्षता कॉलेज के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश द्वारा की गई। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्यातिथि एवं अन्य अतिथियों द्वारा मां सरस्वती के चरणों में द्वीप प्रज्ज्वलित करके किया गया। इस अवसर पर विद्यार्थियों ने मनमोहक सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया, जिसमें गिद्दा, भंगड़ा, हरियाणवीं, राजस्थानी व वेस्टर्न डांस प्रस्तुत करके दर्शकों की खूब वाहवाही लूटी।

इस मौके पर कॉलेज के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश ने मुख्यातिथि एवं जेसीडी विद्यापीठ के विभिन्न कॉलेजों के प्राचार्यगण एवं विद्यापीठ के रजिस्ट्रार महोदय का स्वागत करते हुए उनका अभिनंदन किया। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि विद्यार्थी जीवन में आज के दिन का बड़ा महत्व होता है एवं विद्यार्थी को इस दिन का इंतजार रहता है, वह अपने कॉलेज में व्यतीत किए गए दिनों को याद करके अपनी यादें को तरोताजा करते हैं तथा उन्हें संजोकर संस्थान से ले जाते हैं। डॉ.जयप्रकाश ने कहा कि मैं स्वामी विवेकानन्द जी के द्वारा कहे गए कुछ शब्दों को कहना चाहता हूँ: एक विचार लो और उस विचार को अपने जीवन का सार बना लो- उसी को सोचो और उसी के स्वप्न देखो। उस विचार से अपने मस्तिष्क, पेशियों, कोशिकाओं, शरीर के हरेक भाग को उससे भरने दो और दूसरे अन्य विचारों को अकेला छोड़ दो। यही सफलता का मूलमंत्र तथा रास्ता है।

इस मौके पर बतौर मुख्यातिथि इंजी.आकाश चावला ने अपने संबोधन में कहा कि मुझे खुशी है कि बीएड के छात्रों ने आत्म अनुशासन का परिचय दिया है। उन्होंने कहा कि विद्यार्थी जीवन में सफ लता के लिए अनुशासन और परिश्रम का बड़ा महत्व होता है और इन दोनों का परिचय आप सभी विद्यार्थियों ने बड़ी बखूबी से दिया जो आगे चलकर आपके जीवन को सफ ल बनाने में काफी सहायक सिद्ध होगा। उन्होंने अनेक सफल व्यक्तियों के जीवन की चर्चा करते हुए कहा कि साहसी लोग हार कर भी जीतने का हौंसला दिलाते हैं जिसको पाकर ही उन्हें कामयाबी प्राप्त हुई है। उन्होंने बताया कि अगर कोई विद्यार्थी किसी प्रतियोगी परीक्षा मे पहली बार में सफ ल नहीं हुए तो उन्हें घबराना नहीं चाहिए बल्कि पूर्व की अपेक्षा अधिक मेहनत करके कृत संकल्पित बनने का प्रयास करना चाहिए। इंजी.चावला ने कहा कि विद्यार्थी को चाहिए कि शिक्षा और उपाधि लेने के बाद वह समाज उपयोगी कार्य करें, जिससे स्वयं का, उनके माता-पिता व देश का नाम रोशन हो सके। उन्होंने कहा कि मेरी दृष्टि से शिक्षित व्यक्ति वही है जो नैतिक मूल्यों के साथ समाज के लिए बेहतरीन कार्य करें जो एक बेहतर अध्यापक ही कर सकता है क्योंकि अध्यापक के अंदर सहनशीलता, सीखने, सुनने की कला है और वही कला उसकी पहचान बन जाती है। उन्होंने सभी भावी अध्यापकों से अनुरोध किया कि वह अपने जीवन में समाज के लिए समर्पित संस्कारिक कार्य करें और विश्व विजेता बने।

निर्णायक मण्डल द्वारा बीएड (सामान्य) की छात्राओं में मिस बीएड स्नेहपाल, मिस फेयरवेल पवनदीप कौर, मिस प्रतिभाशाली प्रियंका व नवप्रीत, मिस पर्सनैलिटी कोमल तथा छात्रों में मिस्टर बीएड शुभम, मिस्टर फेयरवेल विनोद कुमार, मिस्टर पर्सनैलिटी शांतनु को चुना गया। इसी तरह बीएड (स्पेशल) की छात्राओं में मिस बीएड स्पेशल लिंनकोन, मिस बीएड स्पेशल सुमन एवं लड़कों में मिस्टर फेयरवेल ईशकुमार का चयन किया गया। एम एड प्रथम वर्ष से मिस प्रतिभाशाली पूजा व एम एड द्वितीय वर्ष से मिस्टर सुरेश कुमार तथा मि.फेयरवेल एमएड देवेंद्र कुमार व मिस पर्सनैलिटी पवनदीप को चयनित किया गया। इस अवसर पर जेसीडी विद्यापीठ के विभिन्न कॉलेजों के प्राचार्यगण, विद्यापीठ के रजिस्ट्रार महोदय, शिक्षण महाविद्यालय के शिक्षक एवं गैर शिक्षक सदस्यों सहित समस्त छात्र-छात्राएं उपस्थित रहे।

You may also like

  • ADMISSIONS OPEN

  • Visit Us On TwitterVisit Us On FacebookVisit Us On Google PlusVisit Us On PinterestVisit Us On YoutubeVisit Us On LinkedinCheck Our FeedVisit Us On Instagram