#JCDDENTALCOLLEGE

Poster Making Competition – JCD Dental College, Sirsa

दंत चिकित्सा से सम्बन्धित अनेक विषयों पर विद्यार्थियों ने दिखाई अपनी कलम की प्रतिभा
Intermediate Poster Making Competition of various departments organized to provide dental knowledge to Dental College students at JCDV, Sirsa, More than 30 students from different departments participated in the program.

जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित डेन्टल कॉलेज के विद्यार्थियों को दंत चिकित्सा सम्बन्धी ज्ञान प्रदान करने के लिए विभिन्न विभागों के मध्यस्थ पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता का आयोजन करवाया गया, जिसमें विभिन्न विभागों के 30 से अधिक विद्यार्थियों द्वारा हिस्सा लेकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया गया। इस कार्यक्रम में विद्यार्थियों का हौंसलाफजाई करने के लिए विद्यापीठ के शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। इस अवसर पर उनके साथ जेसीडी डेन्टल कॉलेज के प्राचार्य डॉ.राजेश्वर चावला, उप-प्राचार्य डॉ.अरिन्दम सरकार के अलावा अन्य गणमान्य लोग भी उपस्थित रहे। इस कार्यक्रम में जेसीडी फार्मेसी कॉलेज की प्राचार्या डॉ.अनुपमा सेतिया एवं डेन्टल कॉलेज की डॉ.पूजा खन्ना ने निर्णायक मण्डल की भूमिका अदा की। इस कार्यक्रम का आयोजन डॉ.मधु की निगरानी में करवाया गया।

बतौर मुख्यातिथि अपने संबोधन में डॉ.आर.आर.मलिक ने कहा कि हमारा उद्देश्य हमारे विद्यार्थियों को न केवल एक बेहतर डॉक्टर बनाना है बल्कि उनका सर्वांगीण विकास करना है तथा इस प्रकार की प्रतियोगिताओं में डॉक्टर्स की भागीदारी उन्हें बेहतर विकल्प प्रदान करने का काम करती है। उन्होंने कहा कि पेंटिंग के माध्यम से हम अपनी भीतरी अनुभूति को बु्रश एवं रंगों के माध्यम से प्रस्तुत करते हैं तथा इसमें हमारी भावनाएं निहित होती है। उन्होंने सभी विद्यार्थियों से आह्वान किया कि आप अपने क्षेत्र के साथ-साथ अन्य कलाओं में भी निपुण बनें ताकि आपका सर्वांगीण विकास होकर आपको बेहतर सफलता हासिल हो सके।

इस अवसर पर विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कॉलेज के प्राचार्य डॉ.राजेश्वर चावला एवं डॉ.अरिन्दम सरकार ने कहा कि हम हमारे विद्यार्थियों को बेहतर शिक्षण के साथ-साथ अन्य कलाओं में बेहतर बनाने के लिए समय-समय पर ऐसे आयोजन करवाते रहते हैं ताकि वे अपनी भीतरी प्रतिभा को प्रकट करके उसमें ओर अधिक निखार ला सकें और अपना बेस्ट से बेस्ट प्रस्तुत कर पाएं। डॉ.चावला ने कहा कि एक डॉक्टर की जहां मरीज को स्वस्थ करने की जिम्मेवारी होती है वहीं उस मरीज को उस रोग से भयमुक्त करने के लिए भी ऐसी कलाएं काफी हद तक सहायक सिद्ध होती है। उन्होंने बताया कि इस प्रतियोगिता में निवारक दंत चिकित्सा, बायोमेडिकल अपशिष्ट प्रबंधन, इकोफ्रेंडली दंत चिकित्सा और गो-ग्रीन इत्यादि विषयों पर विद्यार्थियों द्वारा पोस्टर बनाकर अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन किया गया। डॉ.चावला ने ऐसे आयोजनों हेतु समय-समय पर जेसीडी विद्यापीठ के प्रबंधन समन्वयक इंजी.आकाश चावला एवं कॉलेज के मैनेजमेंट एक्जिीक्यूटिव श्री सिद्धार्थ झींझा द्वारा हरसंभव सहयोग प्रदान करने के लिए उनका आभार प्रकट किया।

इस पोस्टर मेकिंग प्रतियोगिता में निर्णायक मण्डल की भूमिका बखूबी निभाते हुए तृतीय वर्ष की छात्रा पूनम को प्रथम, चतुर्थ वर्ष की छात्रा अंजली को द्वितीय तथा तृतीय वर्ष के रेमांशु व द्वितीय वर्ष की रितु को तीसरा पुरस्कार प्राप्त हुआ। वहीं चतुर्थ वर्ष के अखिलेश को सांत्वना पुरस्कार हेतु चयनित किया गया। इस अवसर पर जेसीडी डेन्टल कॉलेज के सभी प्राध्यापकगण, अन्य स्टाफ सदस्य एवं विद्यार्थीगणों ने भी इस कार्यक्रम में हिस्सा लेकर विद्यार्थियों की प्रतिभा को देखा। कार्यक्रम के अंत में मुख्यातिथि एवं अन्य अतिथियों के द्वारा विजेता प्रतिभागियों को प्रमाण-पत्र एवं स्मृति चिह्न प्रदान करके सम्मानित किया गया।

International Yoga Day celebrated at JCDV

JCD Vidyapeeth organized One day-long yoga training camp. The program was celebrated under auspices of the Education College. Detailed information about the importance of yoga and its usefulness in everyday life is shared with Students and Staff. Dr.R.R. Malik, Academic Director of JCD Vidyapeeth, joined as the chief guest.

जेसीडी विद्यापीठ में स्थापित शिक्षण महाविद्यालय के तत्वावधान में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य में एक दिवसीय योग प्रशिक्षण शिविर का आयोजन किया गया जिसमें छात्र-छात्राओं को योग की महत्ता एवं आम जीवन में इसकी उपयोगिता के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी प्रदान की गई। इस योग शिविर में जेसीडी विद्यापीठ के शैक्षणिक निदेशक डॉ.आर.आर.मलिक ने बतौर मुख्यातिथि शिरकत की। इस अवसर पर कार्यक्रम के संयोजक एवं शिक्षण महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ.जयप्रकाश ने सर्वप्रथम आए हुए अतिथियों का स्वागत करते हुए कहा कि भारत सरकार द्वारा शरीर को स्वस्थ बनाने हेतु जो यह कार्यक्रम प्रारंभ किया गया है वह काफी सराहनीय है, क्योंकि योग हमारी जीवनशैली में काफी महत्व रखता है तथा इससे एक नवीन ऊर्जा का संचार होता है और हम व्यस्त समय के बावजूद अपने आपको चिंतामुक्त रख सकते हैं। उन्होंने कहा कि अब पूरी मानव जाति योग की महत्ता को समझ रही है।योग एक विज्ञान है और इसके सिद्धांत पूरी दुनिया के लिए सम्मान योग्य है। आज की दुनिया में लोग जहां आर्थिक रूप से संपन्न हुए हैं वहीं लोगों में अशांति भी बढ़ी है इसलिए योग की जरूरत आज पहले से कहीं ज्यादा है।

इस अवसर पर बतौर मुख्यातिथि डॉ.आर.आर.मलिक ने अपने संबोधन में कहा कि योग शब्द संस्कृत धातु ‘युज्य’ से निकला है, जिसका मतलब है व्यक्तिगत चेतना या आत्मा का सार्वभौमिक चेतना या रूह से मिलन। योग, भारतीय ज्ञान की पांच हजार वर्ष पुरानी शैली है। उन्होंने कहा कि योग हमारे शरीर के लिए सबसे लाभदायक है इसलिए हमें चाहिए कि हमें इसे अपनी जीवनशैली का हिस्सा बनाना चाहिए। डॉ.मलिक ने बताया कि योग से आंतरिक शांति व खुशी की प्राप्ति होती है तथा योग केवल एक आसन न होकर यह जीवन जीने का एक बेहतर तरीका है। शरीर, मन व आत्मा में संतुलन बनाने के लिए यह बहुत जरूरी है इसीलिए लोग किसी भी व्यवसाय या कार्य में हो पर वे योग से जुड़कर अपने जीवन में परिवर्तन लायें। उन्होंने बताया कि योग के माध्यम से पूरे विश्व में शांति और सौहाद्र्र का वातावरण निहित होता है। हालांकि कई लोग योग को केवल शारीरिक व्यायाम ही मानते हैं। योग यानि दो को जोडऩा उसी प्रकार योग में भी हम अपनी आत्मा को प्रमात्मा से जोडऩे का प्रयास करते हैं। केवल मनुष्य के मन और आत्मा की अनंत क्षमता का खुलासा करने वाला यह गहन विज्ञान है, योग विज्ञान में जीवन शैली का पूर्ण सार आत्मसात किया गया है। उन्होंने कहा कि योग को हमें दैनिक जीवन में शामिल किया जाना चाहिए जिससे शरीर, मन और आत्मा को एक साथ लाने (योग) का काम होता है। योग के माध्यम से शरीर, मन और मस्तिष्क को पूर्ण रूप से स्वस्थ किया जा सकता है। योग के जरिए न सिर्फ बीमारियों का निदान किया जाता है, बल्कि इसे अपनाकर कई शारीरिक और मानसिक तकलीफों को भी दूर किया जा सकता है। योग प्रतिरक्षा प्रणाली को मजबूत बनाकर जीवन में नव-ऊर्जा का संचार करता है। योग शरीर को शक्तिशाली एवं लचीला बनाए रखता है साथ ही तनाव से भी छुटकारा दिलाता है जो रोजमर्रा की जि़न्दगी के लिए आवश्यक है। डॉ.मलिक ने कहा कि योग को एक नई पहचान मिली है वर्तमान में योग को केवल भारत ही नहीं बल्कि दुनिया भर में अपनी विशेषताओं के लिए अपनाया जा रहा है तथा प्रत्येक वर्ष 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया जाता है, जिसकी शुरूआत 21 जून 2015 से हुई थी। उन्होंने कहा कि हमारी युवा पीढ़ी की सोच में जो विकृतियां उत्पन्न हो रही है उसे केवल योग के माध्यम से ही दूर किया जा सकता है।

इस एक दिवसीय अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के उपलक्ष्य पर योग प्रशिक्षक अशोक कुमार ने जेसीडी विद्यापीठ के समस्त अधिकारियों, कर्मचारियों, छात्र-छात्राओं एवं अन्य स्टॉफ सदस्यों को योग के बारे में विस्तारपूर्वक जानकारी देने के साथ-साथ योग करवाया। इस मौके पर उन्होंने सूर्य नमस्कार के 12 आसनों के साथ अन्य आवश्यक योग क्रियाएं करवाई तथा इनके लाभ बारे बताया। उन्होंने कहा कि आसन एवं योग क्रियाएं हमारे पौराणिक ऋषि-मुनियों की दी हुई एक अमूल्य धरोहर है, जिसे हमें सदैव सहज कर रखना चाहिए तथा आज प्रत्येक देश हमारी इस पद्धति को अपना कर इसका लाभ उठा रहा है परंतु हमारे ही देश में इसे पूर्ण अधिकार प्राप्त नहीं हो पा रहा इसलिए सरकार द्वारा उठाएं गए इस सराहनीय कदम का सभी को लाभ उठाना चाहिए तथा अपनी जीवनशैली को बेहतर बनाने के लिए प्रात:काल योग अवश्य करना चाहिए।

इस कार्यक्रम के अंत में मुख्य अतिथि महोदय द्वारा प्रशिक्षकों को समृति चिहृन प्रदान करके सम्मानित किया गया, इस मौके पर सभी महाविद्यालय के प्राचार्य, शैक्षणिक एवं गैर शैक्षणिक स्टाफ, छात्र एवं छात्राएं उपस्थित रहे।

Visit Us On TwitterVisit Us On FacebookVisit Us On Google PlusVisit Us On PinterestVisit Us On YoutubeVisit Us On LinkedinCheck Our FeedVisit Us On Instagram